सावधान: रियल एस्टेट के 1.34 लाख करोड़ के कर्ज पर जोखिम

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: Kuldeep Singh Updated Tue, 27 Jul 2021 07:54 AM IST

सार

  • 73 अरब डॉलर से ज्यादा ए-श्रेणी के डेवलपर्स के पास है पैसा
  • आवासीय सेगमेंट का प्रदर्शन बेहतर रहा है। 
  • रियल एस्टेट दूरसंचार और इस्पात जैसे अन्य क्षेत्रों के मुकाबले कहीं बेहतर है स्थिति 
demo pic
demo pic
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

महामारी के प्रभाव से उबर रहे देश के रियल एस्टेट क्षेत्र को दिए गए 100 अरब डॉलर के कर्ज में 67 फीसदी यानी 67 अरब डॉलर (करीब 4.98 लाख करोड़ रुपये) के ऋण पर कोई संकट नहीं है।
विज्ञापन


कुल कर्ज का करीब 75 प्रतिशत हिस्सा (73 अरब डॉलर से ज्यादा) ए-श्रेणी के डेवलपर्स के पास है, जो पूरी तरह सुरक्षित है। हालांकि, 18 प्रतिशत यानी 18 अरब डॉलर (1.34 लाख करोड़ रुपये) के कर्ज पर गंभीर जोखिम बना है।


संपत्ति सलाहकार एनारॉक कैपिटल ने एक रिपोर्ट में कहा कि बैंकों, गैर-बैंकिंग वित्तीय संस्थाओं (एनबीएफसी) और आवास वित्त संस्थाओं (एचएफसी) की ओर से रियल्टी क्षेत्र को दिए गए कुल कर्ज में 15 प्रतिशत यानी 15 अरब डॉलर (1.11 लाख करोड़ रुपये) के कर्ज पर थोड़ा दबाव है, लेकिन मूल रकम के वापस मिलने की गुंजाइश है। एनारॉक कैपिटल के एमडी एवं सीईओ शोभित अग्रवाल ने कहा कि आवासीय सेगमेंट का प्रदर्शन बेहतर रहा है। 

अन्य क्षेत्रों के मुकाबले बेहतर स्थिति
अग्रवाल ने कहा कि 2019 अंत तक क्षेत्र को दिए गए कुल 93 अरब डॉलर के कर्ज में कम-से-कम 16 फीसदी पर गंभीर जोखिम था। पिछले एक वर्ष में महामारी के गंभीर प्रभावों के बावजूद कुल 100 अरब डॉलर के कर्ज में महज 18 फीसदी ही इस श्रेणी में आता है। इस तरह देखें तो कर्ज पर जोखिम के लिहाज से रियल एस्टेट दूरसंचार और इस्पात जैसे अन्य क्षेत्रों के मुकाबले कहीं बेहतर स्थिति है।

कर्जदाताओं के पास वसूली के अधिकार
गंभीर जोखिम वाला कर्ज 50 से ज्यादा डेवलपर्स में फैला हुआ है। वहीं, दूरसंचार और इस्पात उद्योग में किसी एक कंपनी की ओर से नहीं चुकाया गया कर्ज रियल्टी क्षेत्र के जोखिम वाले कुल ऋण के बराबर है। अग्रवाल ने कहा, रियल एस्टेट क्षेत्र में कर्ज अगर एनपीए हो जाता है तो कर्जदाताओं के पास अपने पैसे का एक महत्वपूर्ण हिस्सा वसूलने के लिए पर्याप्त सुरक्षा व अधिकार है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और बजट 2020 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00