Hindi News ›   Business ›   Business Diary ›   LIC IPO update Investors lose Rs 42500 crore in few minutes after listing stock fall 7.77 pc first day

LIC IPO First Day: एलआईसी आईपीओ ने निवेशकों को लगाया 42500 करोड़ रुपये का चूना, 7.77 फीसदी टूटा शेयर

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: दीपक चतुर्वेदी Updated Tue, 17 May 2022 04:15 PM IST
सार

एक रिपोर्ट के मुताबिक, शेयर बाजार में लिस्ट होने के कुछ ही मिनटों में कंपनी के निवेशकों की संपत्ति में 42,500 करोड़ रुपये कमी आई। कमजोर लिस्टिंग के परिणामस्वरूप इसका बाजार पूंजीकरण शुरुआती कारोबार में छह लाख करोड़ रुपये से घटकर 5.57 लाख करोड़ रुपये हो गया।

एलआईसी
एलआईसी - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

एलआईसी आईपीओ चार मई को सब्सक्रिप्शन के लिए खुला था और नौ मई तक इसे पॉलिसी धारकों, खुदरा और अन्य निवेशकों का जबरदस्त रिस्पांस मिला था। लेकिन ग्रे-मार्केट में गिरती शेयरों की वैल्यू को लेकर पहले से इसके डिस्काउंट पर लिस्ट होने का अनुमान जताया जा रहा था। हुआ भी ऐसा ही, मंगलवार को कंपनी के शेयर आठ फीसदी से ज्यादा गिरावट के साथ बीएसई-एनएसई पर लिस्ट हुए। इस गिरावट से निवेशकों को बड़ा झटका लगा है। वहीं पहले दिन के कारोबार के दौरान एलआईसी के शेयरों का भाव 7.77 फीसदी तक टूट गया। 



7.77 फीसदी टूटा एलआईसी का शेयर
देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी एलआईसी के शेयर मंगलवार को शेयर बाजार में लिस्ट हो गए। जैसा कि अनुमान लगाया जा रहा था, कंपनी के शेयर डिस्काउंट पर लिस्ट हुए और लिस्टिंग के पहले दिन निवेशकों को निराशा हाथ लगी। एलआईसी के शेयर बीएसई पर 81.80 रुपये डिस्काउंट यानी 8.62 फीसदी टूटकर 867.20 रुपये पर लिस्ट हुए हैं। जबकि, एनएसई पर शेयर गिरावट के साथ 872 रुपये पर लिस्ट हुए हैं। बाजार बंद होने के समय एलआई का शेयर भाव 7.77 फीसदी या 73.75 रुपये की गिरावट के साथ 875.25 रुपये पर बंद हुआ।  


बाजार पूंजीकरण में आई इतनी गिरावट
एक रिपोर्ट के मुताबिक, शेयर बाजार में लिस्ट होने के कुछ ही मिनटों में कंपनी के निवेशकों की संपत्ति में 42,500 करोड़ रुपये से अधिक का नुकसान हुआ, क्योंकि कमजोर लिस्टिंग के परिणामस्वरूप इसका बाजार पूंजीकरण शुरुआती कारोबार में घटकर 5.57 लाख करोड़ रुपये हो गया। बता दें कि निर्गम मूल्य पर बाजार पूंजीकरण छह लाख करोड़ रुपये से अधिक था। शेयर ने शुरुआती दौर में इश्यू प्राइस पर 6,00,242 करोड़ रुपये के मुकाबले 5,57,675.05 करोड़ रुपये का बाजार पूंजीकरण हासिल किया। 

इतना टूटकर लिस्ट हुआ था शेयर
गौरतलब है कि देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी एलआईसी के शेयर मार्केट में डिस्काउंट पर लिस्ट हुए। कंपनी के शेयर बीएसई पर 81.80 रुपये डिस्काउंट यानी 8.62 फीसदी टूटकर 867.20 रुपये पर लिस्ट हुए हैं। जबकि, एनएसई पर शेयर 8.11 फीसदी की गिरावट के साथ 872 रुपये पर लिस्ट हुए हैं। लिस्टिंग से पहले एलआईसी के शेयर प्री मार्केट में 12 फीसदी तक टूट गए थे। बीएसई पर बीमा कंपनी के शेयर 12.54 फीसदी के नुकसान के साथ 830 रुपये पर ट्रेड कर रहे थे। 

एलआईसी चेयरमैन ने कही बड़ी बात
देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी एलआईसी के चेयरमैन एम आर कुमार ने कंपनी के शेयरों की लिस्टिंग पर बोलते हुए कहा कि अब कंपनी पॉलिसीधारकों के रिटर्न को बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित करेगी। वहीं निवेश और सार्वजनिक संपत्ति प्रबंधन विभाग (दीपम) के सचिव तुहिन कांत पांडेय ने कहा कि शेयर बाजार में मौजूद अनिश्चितता की वजह से एलआईसी के शेयरों की लिस्टिंग कमजोर रही है, लेकिन आने वाले समय में इसमें बढ़त की पूरी उम्मीद है। 

आईपीओ हुआ था 2.94 गुना सब्सक्राइब्ड
एलआईसी आईपीओ की बिडिंग 4 से 9 मई के बीच हुई थी। इस दौरान एलआईसी आईपीओ को 2.94 गुना सब्सक्राइब किया गया था। बता दें कि सरकार ने अपने पूर्ण स्वामित्व वाली एलआईसी में आईपीओ के माध्यम से 3.5 फीसदी हिस्सेदारी बेची है। विदेशी निवेशकों को छोड़ दें तो इस आईपीओ को सभी निवेशकों का जबरदस्त रिस्पांस मिला। रिपोर्ट के अनुसार, सरकार ने आईपीओ के जरिए करीब 20,500 करोड़ रुपये जुटाए हैं। इसके शेयरों की कीमत 902-949 रुपये प्रति शेयर निर्धारित की गई थी।

लंबी अवधि के लिए निवेश फायदेमंद
एलआईसी के शेयरों की बाजार में भले ही कमजोर लिस्टिंग हुई हो और इसने निवेशकों को उम्मीदों को तोड़ा हो, लेकिन इसके बावजूद भी बाजार विशेषज्ञ इसे फायदे का सौदा करार दे रहे हैं। शेयर बाजार के मामलों के विशेषज्ञ अनुज गुप्ता की मानें तो निवेशकों को अभी शेयर होल्ड करने चाहिए। इसके अलावा जिनको अलॉटमेंट नहीं हुआ है उनके लिए डिस्काउंट प्राइस पर शेयरों को खरीदना बेहद फायदेमंद हो सकता है। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में उम्मीद है कि एलआईसी का शेयर 1200 से 1300 रुपये के स्तर को छू सकता है। उन्होंने कहा कि इसमें लंबी अवधि का निवेश फायदेमंद साबित हो सकता है।

भारत की पांचवीं बड़ी कंपनी बनी
एलआईसी की बाजार वैल्यू छह लाख करोड़ रुपये आंकी गई थी, लेकिन शेयरों के गिरावट के कारण फिलहाल इसका बाजार पूंजीकरण 5.6 लाख करोड़ रुपये है। लेकिन मार्केट कैप के हिसाब से एलआईसी भारत की टॉप-5 कंपनियों में शामिल हो चुकी है। यहां बता दें कि इन पांच कंपनियों में एलआईसी के अलावा, मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज, टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस), एचडीएफसी बैंक और इंफोसिस है। 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और Budget 2022 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00