विज्ञापन

पंजाब यूनिवर्सिटी सीनेट की बैठक में 14 प्रस्ताव पास, दो नए कोर्स शुरू किए जाने पर पेंच

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, चंडीगढ़ Updated Sun, 04 Nov 2018 01:18 PM IST
पंजाब यूनिवर्सिटी कैंपस
पंजाब यूनिवर्सिटी कैंपस - फोटो : file photo
ख़बर सुनें
पंजाब यूनिवर्सिटी चंडीगढ़ की सीनेट की बैठक में 14 प्रस्ताव पास हुए जबकि दो प्रस्ताव लटक गए। इस पर कुछ विचार करने के बाद शुरू किया जाएगा। यह प्रस्ताव नए कोर्स शुरू किए जाने के थे। सेंटर फॉर पुलिस एडमिनिस्ट्रेशन के प्रोफेसर रहे अक्षत मेहता के रिजायन को कुबूल करना था, लेकिन इस पर ऑब्जेक्शन लगा दिया गया। कहा गया कि रिजायन करने की तिथि व सीनेट में आने की तिथि में काफी अंतर है। इस मामले पर फैसला सुरक्षित किया गया है। सीनेटर के सामने नहीं रखा गया।
विज्ञापन
क्या आरओ की पावर सीनेट से अधिक हैं?
शिक्षकों के प्रमोशन के एजेंडे सामने रखे गए तो आरओ पर आरोप लगे। कहा गया कि सीनेट व सिंडिकेट द्वारा पास किए जाने के बाद भी आरओ शिक्षकों के इन प्रस्तावों पर ऑब्जेक्शन लगाते हैं। ऑडीटर्स की लिमिटेशन नहीं हैं। सीनेटर अजय रंगा ने कहा कि हर मामले को बोर्ड ऑफ फाइनेंस में न ले जाया जाए। शिक्षकों के हित में निर्णय लेने की कोशिश होनी चाहिए। कहा कि 1998 में पीएचडी किए हुए 250 से अधिक शिक्षक इसलिए प्रभावित हैं कि उनके प्रमोशन में आरओ ने अड़ंगा लगा रखा है। इस पर वीसी प्रो. राजकुमार ने कहा कि यह मामला प्रगति में है। पीएचडी इंक्रीमेंट पर जल्द निर्णय होगा।

2012 तक के इम्प्लाई के लिए पुरानी पेंशन बहाल हो
पीयू कर्मचारियों के लीडर दीपक कौशिक ने कर्मचारियों के पेंशन का मामला रखा। उन्होंने कहा कि 2012 तक के इम्प्लाई के लिए पुरानी पेंशन व्यवस्था की प्रक्रिया बहाल हो। फिर से उनके लिए ऑप्शन खोले जाएं ताकि वह अप्लाई कर सकें। हजारों कर्मचारी इससे प्रभावित हो रहे हैं। सीनेटर ने शिक्षकों के मामले भी रखे। उनकी भी पेंशन व्यवस्था बहाली पर आश्वासन दिया गया।

 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

कोर्स शुरू करने से पहले देखें स्टूडेंट मिलेंगे या नहीं

विज्ञापन

Recommended

बच्चों के विकास के लिए बेहद जरूरी है देसी घी, जानें इसके फायदे
ADVERTORIAL

बच्चों के विकास के लिए बेहद जरूरी है देसी घी, जानें इसके फायदे

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Lucknow

लखनऊ यूनिवर्सिटी तय अवधि में करेगी शिकायतों का निस्तारण, ऑनलाइन दर्ज करा सकेंगे शिकायत

लखनऊ विश्वविद्यालय प्रशासन अपने विद्यार्थियों व उनके अभिभावकों की शिकायतों व समस्याओं के समाधान के लिए शासन के इंटीग्रेटेड ग्रिवांस रिड्रेसल सेल की तर्ज पर अपना ग्रिवांस पोर्टल शुरू करेगा।

18 जनवरी 2019

विज्ञापन

कर्मचारियों को जानवर बना देतीं हैं चीनी कंपनियां, कभी मूत्र पिलाती हैं तो कभी करेला खिलाती हैं

चीन में अपना टारगेट न पूरा करने पर कंपनी ने कर्मचारियों को सड़क पर रेंगने के लिए मजबूर कर दिया। चीन में ये पहला मामला नहीं है जब कर्मचारियों को टारगेट पूरा न करने पर ऐसी सजा मिली हो इससे पहले भी कई बार हैरान कर देने वाले मामले सामने आते रहे हैं।

18 जनवरी 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree