विज्ञापन

पीयूः 24 घंटे गर्ल्स हॉस्टल खोलने का मामला, डीयू के हॉस्टल मॉडल का हो सकता है प्रयोग

सुशील कुमार, अमर उजाला, चंडीगढ़ Updated Mon, 05 Nov 2018 01:49 PM IST
लड़कियों ने किया विरोध प्रदर्शन
लड़कियों ने किया विरोध प्रदर्शन
ख़बर सुनें
पंजाब विश्वविद्यालय में 24 घंटे गर्ल्स हॉस्टल खोलने की डिमांड को पूरी करवाने के लिए छात्र संगठन हर कोशिश में जुटे हैं। इंटेलिजेंट स्टूडेंट्स पूरे देश के गर्ल्स हॉस्टल का डाटा खंगाल रहे हैं। स्टूडेंट्स को आयसर, डीयू और जेएनयू का हॉस्टल मॉडल भा रहा है। इसका प्रयोग पीयू में हो सकता है। वह देख रहे हैं कि वहां के गर्ल्स हॉस्टल का स्ट्रैक्चर कैसा है और व्यवस्था कैसे काम करती है। स्टूडेंट इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस एजूकेशन एंड रिसर्च मोहाली (आयसर) के गर्ल्स कॉलेज का मॉडल देखने के लिए जा सकते हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन
इस बारे में जल्द ही वहां के संचालकों से भी बातचीत की जा सकती है। इसके अलावा दिल्ली विश्वविद्यालय व जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के गर्ल्स हॉस्टल का भी मॉडल देखा जा रहा है। स्टूडेंट्स कम खर्च में अधिक सुरक्षित मॉडल पीयू प्रशासन के सामने रखेगा। उस मॉडल पर स्टूडेंट अधिकारियों से चर्चा करेंगे। यदि पीयू के अधिकारी प्रस्तुत किए गए मॉडल में कुछ खामी निकालेंगे तो उन्हीं से स्टूडेंट दुरुस्त करने का रास्ते मांगेंगे ताकि उस गर्ल्स हॉस्टल मॉडल को और बेहतर किया जा सके।

ऐसे होता है मोहाली में प्रवेश
बताया जाता है कि मोहाली स्थित आयसर संस्थान की सिक्योरिटी इतनी टाइट है कि परिंदा भी पर नहीं मार सकता। वहां प्रवेश के लिए अभिभावकों के भी आई कार्ड बनते हैं। बाकायदा ई रिक्शा उन्हें वहां तक पहुंचाता है जहां पर बच्चों से मिला जा सके। प्रोफेसर आदि से भी मिलना है तो बाकायदा अपॉइंटमेंट लेना पड़ता है। जैसे ही संबंधित व्यक्ति गेट पर पहुंचता है तो मुलाकात करने वाले प्रोफेसर से अप्रूवल ली जाती है। पूरी तरह सुरक्षा दीवार बनी है। गर्ल्स हॉस्टल व ब्वॉयज हॉस्टल अलग-अलग दिशा में हैं। सभी स्टूडेंट्स की यहां मानसिकता भी अलग है। वह पारंपरिक तरीकों से नहीं सोचते। यहां के गर्ल्स हॉस्टल पूरी तरह सुरक्षित हैं। लड़कियां पूरे परिवेश में रात को भी आ-जा सकती हैं। बाहरी वाहनों का प्रवेश यहां नहीं होता।

डीयू व जेएनयू में भी इसी तरह होता है काम
केंद्र सरकार के अधीन जो भी शिक्षण संस्थान हैं, उनमें गर्ल्स हॉस्टल ओपन का एक ही मॉडल अपनाया गया है। हर संस्थान के सुरक्षा दीवारें ऊंची हैं और मुख्य द्वारों की सिक्यूरिटी टाइट है। डीयू व जेएनयू में भी वही मॉडल काम कर रहा है।

24 घंटे गर्ल्स हॉस्टल ओपन की मांग पर काम चल रहा है। देशभर में कई गर्ल्स हॉस्टल 24 घंटे ओपन होते हैं। वहां का स्ट्रैक्चर देखा जा रहा है। जो मॉडल बेहतर होगा उसको पीयू प्रशासन के सामने रखकर बात करेंगे। उसके बाद अगला कदम उठाया जाएगा।
- कनुप्रिया, प्रेसीडेंट, पीयू स्टूडेंट काउंसिल

Recommended

बच्चों के विकास के लिए बेहद जरूरी है देसी घी, जानें इसके फायदे
ADVERTORIAL

बच्चों के विकास के लिए बेहद जरूरी है देसी घी, जानें इसके फायदे

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Dehradun

कुमाऊं विश्वविद्यालय में विद्यार्थियों को ऑनलाइन मार्कशीट देने की तैयारी

कुमाऊं विश्वविद्यालय विद्यार्थियों को ऑनलाइन मार्कशीट देने की तैयारी कर रहा है।

18 जनवरी 2019

विज्ञापन

हार्दिक पंड्या ही नहीं, इन 5 स्टार्स को भी पड़ी करण की कॉफी मंहगी

बॉलीवुड फिल्म मेकर करण जौहर के चैट शो 'Koffee with Karan'लोगों के बीच अक्सर पॉप्युलर रहता है। आज हम आपको उन 5 स्टार्स के बारे में बताते हैं जो इस शो में अपने बयानों की वजह से लाइमलाइट में रहे थे।

18 जनवरी 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree