विज्ञापन

भारत को लेकर चर्चिल कितने गलत थे

लेखकः रामचंद्र गुहा Updated Sun, 24 Feb 2019 09:35 AM IST
विंस्टन चर्चिल
विंस्टन चर्चिल
ख़बर सुनें
इसी महीने कुछ दिन पूर्व ब्रिटेन में उस समय एक विवाद गरमा गया, जब लेबर नेता जॉन मेकडोनेल ने विंस्टन चर्चिल की इस बात को लेकर आलोचना की कि उन्होंने 1910 में कामगारों पर सुरक्षा बलों को फायरिंग के आदेश दिए थे। इस पर उनके राजनीतिक विरोधी बर्बर तरीके से उन पर टूट पड़े। भद्र माने जाने वाले टोरी और चर्चिल के पोते सर निकोलस सोएम्स ने कहा, 'लोगों का ध्यान आकर्षित करने की चाहत में एक सस्ते नेता द्वारा किए गए हमले से मेरे दादा की प्रतिष्ठा पर आंच नहीं आ सकती। मैं नहीं समझता कि इससे दुनिया में कोई हड़कंप मचेगा।'
विज्ञापन
जहां तक ब्रिटेन की बात है, तो यह बात सही हो सकती है। वहां चर्चिल को आदर दिया जाता है (और जो सही भी है) क्योंकि वह ऐसे समय नाजियों के खिलाफ उठ खड़े हुए थे, जब उनकी पार्टी का कोई सहयोगी इसके लिए तैयार नहीं था। पुलिस फायरिंग में एकांत में हुई एक मौत दूसरे विश्व युद्ध के दौरान अपने देश की रक्षा करने की तुलना में मामूली लगती है। लेकिन चर्चिल की प्रतिष्ठा पर भारत जैसे दूसरे स्थानों में किए गए हमलों पर क्या कहा जाए? भारतीयों के प्रति उनकी अरुचि ('वे जानवर जैसे लोग हैं और उनका धर्म भी पशुओं जैसा है।') गांधी के प्रति उनकी घृणा और भूख से तड़पते बंगाल के किसानों को खाद्य मदद से उनके इनकार के बारे में सब भली-भांति जानते हैं। एक दस्तावेज के आधार पर उनके खिलाफ अभियोग चलाने का मजबूत आधार बनता है, जोकि मुझे हाल ही में आर्किव से मिला।
 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

Recommended

क्या कारोबार में लगाया हुआ धन फंस जाता है ? करें उपाय
ज्योतिष समाधान

क्या कारोबार में लगाया हुआ धन फंस जाता है ? करें उपाय

जानें क्यों कायम है आपकी नौकरी पर संकट?
ज्योतिष समाधान

जानें क्यों कायम है आपकी नौकरी पर संकट?

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Blog

जब गोवा में सुबह से 2 बजे रात तक मीटिंग करते रहे परिकर और फिर अचानक दिल्ली में..!

जमीन पर सभी वर्गों में परिकर की लोकप्रियता नजर आ रही थी। चाहे वह वर्ग भाजपा का विरोधी क्यों न हो मगर परिकर की कार्यशैली का कायल था।

18 मार्च 2019

विज्ञापन

राजनीति में एंट्री के सवाल पर ये बोले गौतम गंभीर

पूर्व भारतीय क्रिकेटर गौतम गंभीर की राजनीति में एंट्री को लेकर लंबे समय से कयास लगाए जा रहे हैं। सोमवार को मीडिया कर्मियों ने उनसे ही ये सवाल कर लिया। सुनिए क्या बोले गौतम गंभीर।

18 मार्च 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree