लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Columns ›   Opinion ›   Linguistic Nationalism: flowing water of Indian tradition in face of hollowness of colonial dominated thinking

भाषायी राष्ट्रबोध की अभिव्यक्ति : औपनिवेशिक वर्चस्व वाली सोच के खोखलेपन के समक्ष भारतीय परंपरा का 'बहता नीर'

Umesh Chaturvedi उमेश चतुर्वेदी
Updated Sat, 26 Nov 2022 06:33 AM IST
सार

गृहमंत्री अमित शाह ने कहा है कि यदि कोई अंग्रेजी बोलता है, तो इसका मतलब यह नहीं कि वह ज्ञानी है। उनके इस बयान को समझने की जरूरत है।

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00