बीसीसीआई बोर्ड : टी-20 विश्व कप के बाद कोच शास्त्री के साथ भरत और श्रीधर की भी हो सकती है विदाई

स्पोर्ट्स डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: Kuldeep Singh Updated Sat, 16 Oct 2021 07:41 AM IST

सार

बोर्ड के सूत्रों को कहना है कि भरत अरुण और फील्डिंग कोच आर श्रीधर दोनों ने ही अब तक आगे काम करने की इच्छा नहीं जताई है। ऐसे में बोर्ड को हेड कोच के साथ दोनों का विकल्प तलाशना पड़ सकता है। हालांकि बोर्ड अरुण के काम से बेहद प्रभावित है।
भरत अरुण, रवि शास्त्री
भरत अरुण, रवि शास्त्री - फोटो : सोशल मीडिया
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

टी-20 विश्व कप के बाद हेड कोच रवि शास्त्री के साथ गेंदबाजी में टीम इंडिया को बुलंदियों पर पहुंचाने वाले भरत अरुण और फील्डिंग कोच आर श्रीधर की भी विदाई हो सकती है।हालांकि बोर्ड अरुण के काम से बेहद प्रभावित है। लेकिन दोनों ही प्रशिक्षकों की बोर्ड से नजदीकियां छुपी नहीं है। बोर्ड के सूत्रों को कहना है कि दोनों ने ही अब तक आगे काम करने की इच्छा नहीं जताई है। ऐसे में बोर्ड को हेड कोच के साथ दोनों का विकल्प तलाशना पड़ सकता है।
विज्ञापन


अरुण के कार्यकाल में गेंदबाजों ने लगाई ऊंची छलांग
टीम इंडिया की बीते पांच वर्षों में उल्लेखनीय सफलता का बड़ा श्रेय उसके तेज गेंदबाजी विभाग को जाता है। इसके पीछे भरत अरुण की कोचिंग का भी हाथ है। उनके गेंदबाजी कोचिंग कार्यकाल में ही टीम इंडिया तेज गेंदबाजी विभाग में दुनिया की टॉप टीमों में शुमार हुआ। ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड में जसप्रीत बुमराह, मुहम्मद शमी, मुहम्मद सिराज, शार्दुल ठाकुर, उमेश यादव, टी नटराजन, इशांत शर्मा ने जिस तरह अपनी गेंदबाजी के दम पर टीम इंडिया को विजय दिलाई।


उसके पीछे अरुण की कोचिंग को काफी हद तक जिम्मेदार माना गया है। ठीक यही स्थिति श्रीधर के साथ भी है। उनकी कोचिंग में टीम इंडिया की फील्डिंग उच्चस्तरीय है। यही कारण है कि बोर्ड मैनेजमेंट कहीं न कहीं इन दोनों के प्रति सहानुभूति रखता है, लेकिन सूत्रों का कहना है कि दोनों खुद इच्छा नहीं जताएंगे तो उन्हें कैसे रखा जाएगा।

शास्त्री के कार्यकाल में मिली खुली छूट
शास्त्री, अरुण और श्रीधर की जबरदस्त केमेस्ट्री किसी से छुपी नहीं है। दोनों ही प्रशिक्षकों को शास्त्री के समय में खुली छूट मिली। दोनों ने अपनी मनमर्जी के मुताबिक काम किया जिसके नतीजे भी सामने आए। सूत्रों का कहना है कि हो सकता है नए हेड कोच के कार्यकाल में वैसी स्वतंत्रता दोनों को नहीं मिल पाए। वैसे सूत्र यहां तक कहते हैं कि बोर्ड के सदस्य अरुण से बात भी करेंगे।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें क्रिकेट समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। क्रिकेट जगत की अन्य खबरें जैसे क्रिकेट मैच लाइव स्कोरकार्ड, टीम और प्लेयर्स की आईसीसी रैंकिंग आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00