विज्ञापन
विज्ञापन
गंभीर से गंभीर परेशानी होगी दूर,ललिता देवी शक्तिपीठ-नैमिषारण्य पर कराएं ललिता सहस्रनाम पाठ, मात्र रु:51/- में,अभी बुक करें
Myjyotish

गंभीर से गंभीर परेशानी होगी दूर,ललिता देवी शक्तिपीठ-नैमिषारण्य पर कराएं ललिता सहस्रनाम पाठ, मात्र रु:51/- में,अभी बुक करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

आरआईएमसी परिणाम: उत्तराखंड की एक मात्र सीट पर देहरादून के ओम दत्त शर्मा का चयन

राष्ट्रीय इंडियन मिलिट्री कॉलेज (आरआईएमसी) देहरादून में उत्तराखंड राज्य की एक मात्र सीट पर देहरादून के ओम दत्त शर्मा का चयन हुआ है।

17 अक्टूबर 2021

Digital Edition

उत्तराखंड: हर्षिल-छितकुल लम्खागा पास से सात पर्यटकों के शव मिले, दो लापता की तलाश जारी

उत्तरकाशी के हर्षिल से छितकुल हिमाचल के ट्रेक से लापता पर्यटकों में से सात पर्यटकों को शव मिल गए हैं। बताया जा रहा है कि अभी भी दो पर्यटक लापता चल रहे हैं, जबकि एक घायल पर्यटक का हर्षिल और एक पर्यटक का जिला अस्पताल उत्तरकाशी में इलाज चल रहा है। 9 बिहार रेजीमेंट के कर्नल राजेंद्र प्रसाद ने बताया कि पर्यटकों की खोज के कार्य में वायुसेना और रेस्क्यू टीम युद्धस्तर से जुटी है। रेस्क्यू टीम ने पर्यटकों के शवों को हेलीकॉप्टर की मदद से निकाला है। शवों की पहचान अभी नहीं हो पाई है। 

चारधाम यात्रा 2021: हेमकुंड साहिब में बर्फबारी, यमुनोत्री धाम जाने के लिए जानकीचट्टी में उमड़ी तीर्थयात्रियों की भीड़

11 अक्तूबर को हर्षिल से रवाना हुआ था दल

जानकारी के अनुसार, पश्चिम बंगाल व अन्य स्थानों के आठ पर्यटकों का दल मोरी सांकरी की एक ट्रेकिंग एजेंसी के माध्यम से 11 अक्तूबर को हर्षिल से रवाना हुआ था। इस दल में तीन कुकिंग स्टाफ और छह पोर्टर भी शामिल थे। पोर्टर पर्यटकों का सामान छोड़कर 18 अक्तूबर को छितकुल पहुंचे थे। जिसके बाद से ये लापता थे। इनकी खोजबीन में गई टीम को गुरुवार को मौके पर पांच लोगों के शव दिखे थे। जिसके बाद रेस्क्यू टीम ने शुक्रवार को भी अभियान चलाया और वहां से सात शवों को बरामद किया। 





ये थे लापता
लापता लोगों की पहचान दिल्ली की अनीता रावत (38), पश्चिम बंगाल के मिथुन दारी (31), तन्मय तिवारी (30), विकास मकल (33), सौरभ घोष (34), सावियन दास (28), रिचर्ड मंडल (30), सुकेन मांझी (43) के रूप में हुई थी। खाना पकाने वाले कर्मचारियों की पहचान देवेंद्र (37), ज्ञानचंद्र (33) और उपेंद्र (32) के रूप में हुई है। ये तीनों उत्तरकाशी के पुरोला के रहने वाले हैं। 
... और पढ़ें

उर्स 2021: मेले से गिरफ्तार बांग्लादेशी नागरिक को भेजा जेल, अवैध तरीके से भारत में रह रहा था आरोपी

साबिर पाक के सालाना उर्स में खुफिया विभाग और कलियर पुलिस की टीम ने चेकिंग के दौरान एक बांग्लादेशी नागरिक को गिरफ्तार किया है। गुरुवार देर रात उसे हिरासत में लिया गया था। इसी महीने वह अवैध तरीके से बॉर्डर पार कर पश्चिम बंगाल होते हुए यहां आया था। उसके पास पासपोर्ट भी नहीं है। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ विदेशी पासपोर्ट अधिनियम में मुकदमा दर्ज कर लिया है। साथ ही कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया।

शुक्रवार को पिरान कलियर थाने में सीओ विवेक कुमार ने प्रेसवार्ता कर बताया कि साबिर पाक के सालाना उर्स के मद्देनजर एलआईयू और पुलिस की टीम मेला क्षेत्र में चेकिंग कर रही थी। इसी दौरान दरगाह किलकिली साहब के पास एक संदिग्ध युवक घूमता दिखा। पुलिस उसे पकड़कर थाने ले आई।

दिल्ली के पते का आधार कार्ड हुआ बरामद
तलाशी में उसके पास से दिल्ली के पते का आधार कार्ड बरामद हुआ। पूछताछ में युवक ने अपना नाम सोहेल बोयती पुत्र मतिउर रहमान निवासी कोटरी कंदी, कासिमपुर ढाका (बांग्लादेश) बताया। सीओ ने बताया कि वह पहले दिल्ली में रहा और फिर बांग्लादेश लौट गया था।

अवैध तरीके से बॉर्डर क्रॉस कर आयाथा भारत
अक्तूबर के पहले सप्ताह में अवैध तरीके से बॉर्डर पार कर भारत आया था। कोलकाता और बिहार होते हुए दिल्ली आया और 11 अक्तूबर को कलियर में अपनी परिचित महिला के साथ रहने लगा। उसके पास पासपोर्ट भी नहीं मिला है। स्थानीय आईडी मांगी गई तो उसने मोबाइल में बांग्लादेश की आईडी दिखाई।

कोर्ट में पेश कर जेल भेजा
सीओ ने बताया कि उसे कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया गया है। टीम में प्रशिक्षु सीओ नताशा सिंह, एसओ धर्मेंद्र राठी, एसआई लक्ष्मी प्रसाद बिजल्वाण, शिवानी नेगी, एलआईयू के एसआई राजेंद्र सिंह राय, किशन शाह, अमित गिरी, सतीश जोशी, मनोज कुमार, सुनीता, कांबोज, अरविंद कुमार, देवी प्रसाद उप्रेती, सोनू कुमार शामिल रहे।
... और पढ़ें

नंदा देवी राष्ट्रीय पार्क: बारिश की वजह से क्षतिग्रस्त हुआ फूलों की घाटी का ट्रैक, पर्यटकों की आवाजाही पर रोक

फूलों की घाटी को जोड़ने वाला ट्रेक कई जगहों पर क्षतिग्रस्त होने के कारण नंदा देवी राष्ट्रीय पार्क प्रशासन की ओर से पार्क में पर्यटकों की आवाजाही पर रोक लगा दी गई है। प्रतिवर्ष घाटी को आगामी 31 अक्तूबर को शीतकाल के लिए बंद कर दिया जाता है, लेकिन बारिश से जगह-जगह ट्रेक ध्वस्त हो जाने से पार्क प्रशासन की ओर से घाटी में पर्यटकों की आवाजाही पर रोक लगा दी गई है।

उत्तराखंड: हेमकुंड साहिब में सीजन की पहली बर्फबारी, जमी दो फीट तक बर्फ, देखें मनमोहक तस्वीरें

फूलों की घाटी के वन क्षेत्राधिकारी बृजमोहन भारती ने बताया कि हेमकुंड साहिब के प्रमुख पड़ाव घांघरिया से फूलों की घाटी के लिए ट्रेक जाता है। बीते दिनों हुई बारिश से यह ट्रेक ग्लेशियर प्वाइंट के साथ ही कई जगहों पर क्षतिग्रस्त पड़ा हुआ है। इसे देखते हुए घाटी में पर्यटकों की आवाजाही रोक ली गई है। घाटी को 31 अक्तूबर को पर्यटकों की आवाजाही के लिए बंद कर दिया जाएगा। 
... और पढ़ें

उत्तराखंड आपदा: पीड़ितों से मिलने चंपावत पहुंचे सीएम धामी, अधिकारियों को दिए युद्ध स्तर पर काम करने के निर्देश

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने आज शनिवार को आपदा प्रभावित चंपावत का भ्रमण किया। उन्होंने चंपावत के तेलवाड़ा जाकर भारी बारिश के कारण जान गंवाने वाले परिवारों के परिजनों से मिलकर उनके प्रति संवेदना व्यक्ति की। उन्होंने मृतकों की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना भी की। उन्होंने कहा कि सरकार उनकी पीड़ा को समझती है और इस मुश्किल घड़ी में पीड़ितों के साथ खड़ी है। उन्होंने कहा कि सरकार की तरफ से पीड़ितों को हर संभव मदद दी जाएगी। साथ ही जिला प्रशासन को निर्देश दिए कि जिले में आपदा प्रभावितों को जल्द से जल्द मुवावजे देने की कार्रवाई पूरी की जाए। 

इसके बाद मुख्यमंत्री ने सर्किट हाउस में जिला स्तरीय अधिकारियों के साथ बैठक की। इस दौरान उन्होंने कहा कि राहत एवं बचाव कार्यों में लापरवाही ना बरती जाए और कार्यों में तेजी लाए जाए। साथ ही आपदा राहत कोष से लोगों को राहत दी जाए।

उत्तराखंड: हर्षिल-छितकुल लम्खागा पास से सात पर्यटकों के शव मिले, दो लापता की तलाश जारी

उन्होंने निर्देश दिए कि जल्द से जल्द आपदा प्रभावित इलाकों में राशन समेत मूलभूत आवश्यकताओं की व्यवस्था की जाए। कहा कि आपदा से निपटने के लिए उपकरणों की आवश्यकता है तो क्रय कर लिए जाएं। निर्देश दिए की जिन परिवारों को विस्थापित किया जाना है उनके लिए स्थान का जल्द से जल्द चयन करें। 
 
सीएम ने कहा कि आपदा के दौरान कई तरह की मुश्किलें बढ़ गई हैं। इसलिए इसमें जरा भी लापरवाही ना बरती जाएं। उन्होंने जिलाधिकारी को निर्देश दिए कि आपदा प्रभावित क्षेत्रों का भू सर्वेक्षण करवाएं। जिसमे एडीएम को नोडल अधिकारी बनाया जाए। जिलाधिकारी विनीत तोमर ने बताया कि जिले में आपदा राहत कार्य युद्ध स्तर पर जारी है। सीएम की ओर से दिए गए निर्देशों का पालन भी जल्द से जल्द किया जाएगा। 

आपदा में मृतकों की संख्या पहुंची 77
प्रदेश में भारी बारिश के बाद आई आपदा में मौतों का आंकड़ा बढ़ता ही जा रहा है। शुक्रवार को गढ़वाल में लापता दो ट्रैकरों के शव मिल गए थे। गुरुवार को पांच शव मिले थे। सभी सातों शव शुक्रवार को निकाले गए। वहीं, बागेश्वर के पिंडारी ग्लेशियर में भी पांच लोगों के हताहत होने की सूचना है। इसके साथ ही प्रदेश में अब तक 77 लोगों की मौत हो चुकी है। 
... और पढ़ें
पीड़ितों से मिले सीएम पुष्कर सिंह धामी पीड़ितों से मिले सीएम पुष्कर सिंह धामी

देहरादून: प्रेमनगर में देर रात हुए गोलीकांड में घायल युवक की मौत, परिजनों ने थाने में किया हंगामा

देहरादून के प्रेमनगर में शुक्रवार देर रात हुए गोलीकांड में घायल युवक की शनिवार सुबह मौत हो गई। आरोपियों को तत्काल गिरफ्तार करने की मांग को लेकर मृतक युवक के परिजनों ने प्रेमनगर थाने में जमकर हंगामा किया। उधर, पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

देर रात हुई थी गोली चलने की दाे घटनाएं
शुक्रवार देर रात प्रेमनगर और राजपुर क्षेत्र में गोली चलने की घटना से सनसनी फैल गई। दोनों मामलों में दो लोग घायल हो गए थे। गोली चलाने वाले दोनों आरोपियों की पहचान हो चुकी है। पहली घटना प्रेमनगर पोस्ट ऑफिस के सामने हुई थी।

एसपी सिटी सरिता डोभाल ने बताया कि देर रात दो गुट आपस में पार्टी कर रहे थे। इसी बीच वहां पर बैठे एक व्यक्ति ने राहुल नाम के युवक पर गोली चला दी। फायरिंग में युवक को तीन गोली लगी।

घटना के बाद युवक को पास के ही अस्पताल में भर्ती कराया गया। जिसने सुबह दम तोड़ दिया। एसओ प्रेमनगर कुलदीप पंत ने बताया कि गोली चलाने वाले की पहचान हो गई है। मामला आपसी रंजिश का है। 

सीसीटीवी में कैद हुई घटना 
दूसरी घटना राजपुर के दक्ष स्टोर डीआईटी के पास हुई। यहां भी मामूली विवाद में एक कार चालक ने एक व्यक्ति पर गोली चला दी। सूचना मिलते ही मौक पर पहुंची पुलिस  ने घ्ज्ञायल को मैक्स अस्पताल में भर्ती कराया। एसपी सिटी ने बताया कि सीसीटीवी फुटेज में दोनों व्यक्तियों में विवाद होना पाया गया है। आरोपियों की पहचान हो चुकी है। 
... और पढ़ें

कोरोना टीकाकरण: देहरादून में डीएम ने निकाला पहला साप्ताहिक लकी ड्रॉ, किया जाएगा सम्मानित

राजधानी देहरादून स्थित कलेक्ट्रेट में आज कोविड टीकाकरण को लेकर पहला कोविड-19 साप्ताहिक लकी ड्रॉ आयोजित किया गया। जिलाधिकारी व स्मार्ट सिटी के सीईओ डा. आर राजेश कुमार ने इस दौरान लकी ड्रॉ निकाले। जिन विजेताओं के ईनाम निकले हैं उन्हें फोन कर सूचना दे दी गई है।

उत्तराखंड: आयुष्मान योजना में मुफ्त होगा किडनी प्रत्यारोपण और इलाज, एक नवंबर से मिलेगी सुविधा

उन्हें शाम को परेड मैदान में पुरस्कार प्रदान किए जाएंगे। इसमें पांच सैमसंग मोबाइल, तीन इंडक्शन, पांच ट्रैक पेंट, पांच टीशर्ट और पांच शूज दिए जाएंगे। डीएम ने कहा कि लोगों के पास अब भी बहुत से पुरस्कार जीतने का मौका है। पुरस्कार के रूप में इलेक्ट्रिक स्कूटी, डबल डोर फ्रिज, एलईडी टीवी समेत कई अन्य सामान दिए जाएंगे।
... और पढ़ें

Karwa Chauth 2021: पांच साल बाद बन रहा विशेष योग, इस समय निकलेगा चांद और ये है पूजा का शुभ मुहूर्त

महिलाओं के लिए अखंड सौभाग्य का व्रत करवाचौथ कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि 24 अक्तूबर (रविवार) को मनाया जाएगा। महिलाएं जीवन साथी की दीर्घायु और सुख-समृद्धि के लिए दिनभर निर्जल व्रत करेंगी। 

इस बार करवाचौथ पर्व पर पांच साल बाद विशेष योग बन रहा है। इस बार करवाचौथ पर रोहिणी नक्षत्र और रविवार का संयोग बन रहा है। यह संयोग पूरे पांच साल बाद आया है। इस संयोग में श्रीगणेश के साथ ही सूर्यदेव की भी विशेष कृपा होगी।

इस दिन व्रत रखने से गणेश भगवान के साथ ही सूर्यदेव का भी आशीर्वाद प्राप्त होगा। उन्होंने बताया कि करवाचौथ का व्रत निर्जल किया जाता है। इस व्रत में चंद्रमा के उदय होने पर भगवान गणेश, कार्तिकेय, माता पार्वती और भगवान शिव की पूजा करके चंद्रमा को अर्घ्य देकर व्रत समाप्त किया जाता है।

चतुर्थी तिथि को भगवान गणेश की जन्मतिथि मानी जाती है, इसलिए इस दिन महिलाओं के साथ ही कोई भी व्यक्ति उपवास रख सकता है। गणेश भगवान को विघ्न हरता कहा गया है, इसलिए इस व्रत के रखने से जहां विवाहित महिलाएं अपने सुहाग की रक्षा करती हैं, वहीं कुंवारी युवतियां इस व्रत को रखकर विवाह में आ रही बाधाओं को दूर करती हैं।
... और पढ़ें

उत्तराखंड: आयुष्मान योजना में मुफ्त होगा किडनी प्रत्यारोपण और इलाज, एक नवंबर से मिलेगी सुविधा

karva
उत्तराखंड अटल आयुष्मान योजना में अब गोल्डन कार्ड धारकों का किडनी प्रत्यारोपण (ट्रांसप्लांट) और इलाज निशुल्क किया जाएगा। एक नवंबर से गोल्डन कार्ड पर सूचीबद्ध अस्पतालों में इलाज की सुविधा मिलेगी। राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण ने इसकी मंजूरी देने के साथ इलाज की दरें भी तय कर दी है। इससे किडनी रोगियों को देश भर में 22 हजार से अधिक सूचीबद्ध अस्पताल में मुफ्त इलाज की सुविधा मिल सकेगी। 

प्रदेश सरकार ने राज्य अटल आयुष्मान योजना में सभी 23 लाख से अधिक परिवारों को शामिल किया है। जिसमें प्रत्येक परिवार को पांच लाख तक मुफ्त इलाज की सुविधा है। प्रदेश के सभी लोगों को इस सुविधा को देने में उत्तराखंड देश का पहला राज्य है। राज्य अटल आयुष्मान योजना के तहत सभी गोल्डन कार्ड धारकों को राष्ट्रीय पोर्टेबिलिटी से जोड़ा गया है। योजना में 1600 से अधिक बीमारियों के इलाज की पैकेज की दरें तय हैं लेकिन अभी तक किडनी प्रत्यारोपण का इलाज इसमें शामिल नहीं था।

अब सरकार ने गोल्डन कार्ड पर किडनी प्रत्यारोपण के इलाज की सुविधा देकर मरीजों को बड़ी राहत दी है। एक नवंबर से योजना में सूचीबद्ध अस्पतालों में किडनी रोगियों को गोल्डन कार्ड पर मुफ्त इलाज की सुविधा मिलेगी। प्रदेश में अटल आयुष्मान योजना के तहत 44 लाख लाभार्थियों के गोल्डन कार्ड बन चुके हैं। जिसमें 3.5 लाख लाभार्थियों ने विभिन्न बीमारियों का इलाज किया है। जिस पर सरकार ने 496 करोड़ की राशि व्यय की है। 

ये हैं इलाज की दरें
आयुष्मान योजना में किडनी प्रत्यारोपण इलाज की दरें राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण ने तय कर दी है। जिसमें किडनी की सर्जरी 2.15 लाख, इंडेक्शन चार्ज 40 हजार, इंटरवेशन एक्यूपमेंट रिजेक्शन 1.40 लाख, पोस्ट ट्रांसप्लांट इलाज का 1 से 3 माह तक 50 हजार, 3 से 6 माह तक 50 हजार, 6 से 12 माह तक 40 हजार धनराशि तय की गई है। 
 
अटल आयुष्मान योजना में गोल्डन कार्ड धारकों को अब किडनी प्रत्यारोपण का इलाज कराने की सुविधा मिलेगी। एक नवंबर से सभी अस्पतालों में किडनी प्रत्यारोपण के इलाज की सुविधा शुरू हो जाएगी।
- डीके कोटिया, अध्यक्ष राज्य स्वास्थ्य प्राधिकरण
... और पढ़ें

उत्तराखंड: दो बार टिहरी के जिला पंचायत अध्यक्ष रहे रतन सिंह गुनसोला का निधन

उत्तराखंड में दो बार टिहरी के जिला पंचायत अध्यक्ष रहे रतन सिंह गुनसोला (85) का निधन हो गया। वे कुछ दिनों से बीमार चल रहे थे। शुक्रवार रात को देहरादून के एक प्राइवेट अस्पताल में उन्होंने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। स्व. रतन सिंह गुनसोला पहाड़ के पहले ऐसे व्यक्ति थे कि जिन्होंने भिलंगना के दूरस्थ बूढ़ाकेदार में हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट लगाकर विद्युत उत्पादन शुरू करवाया था।

स्व. गुनसोला ने 2002 में भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर विधानसभा से विधायक का चुनाव लड़ा, लेकिन कांग्रेस प्रत्याशी रहे किशोर उपाध्याय से करीब 2500 वोटों से चुनाव हार गये थे।

वर्ष 2012 में भी वे उत्तराखंड रक्षामोर्चा से विधानसभा का चुनाव लड़े थे। लेकिन वे हार गए थे। इसके पहले वे वर्ष 1997 से 2003 और 2009 से 2014 तक टिहरी के जिला पंचायत के अध्यक्ष रहे। उन्हें ऊर्जा पुरूष के रूप में भी जाना जाता था।

सीएम ने जताया शोक
गुनसोला के निधन पर सीएम पुष्कर सिंह धामी ने भी शोक जताया। उन्होंने ट्वीटर पर पोस्ट करते हुए लिखा 'उत्तराखण्ड के ऊर्जा पुरुष कहे जाने वाले रतन सिंह गुनसोला के निधन का दुखद समाचार मिला। दो बार टिहरी जिला पंचायत अध्यक्ष रहे गुनसोला को छोटी जल विद्युत परियोजनाओं का जनक माना जाता है। ईश्वर उनकी आत्मा को अपने श्री चरणों में स्थान दें।'
... और पढ़ें

जुबानी जंग: नरम पड़े हरक सिंह रावत के तेवर तो हरीश रावत ने सधे हुए अंदाज में दिया जवाब

हरीश भाई, मेरे बड़े भाई हैं। उनके सात खून माफ। वह चाहे मुझे जो बोल दें, मैं बुरा नहीं मानूंगा। उनकी हर बात आशीर्वाद है। बड़े भाई हरीश के चरणों में नतमस्तक हूं... शुक्रवार को कुछ इन्हीं बदले सुरों के साथ कैबिनेट मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत मीडिया के सामने आए। उन्होंने कहा कि कुंवर प्रणव चैंपियन के साथ ही हरीश भाई के भी सात खून माफ हैं।

शुक्रवार को कुंवर प्रणव चैंपियन की तथाकथित ऑडियो वायरल होने के मामले में कैबिनेट मंत्री मीडिया से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि कुंवर चैंपियन मेरा भाई है। वह कुछ भी बोल दे, गाली दे दे, उसके सात खून माफ हैं। जब उनसे हरीश रावत को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि मैं हरीश भाई को बड़ा भाई कहता हूं। हरीश भाई सहन नहीं कर पाते। कोई तो रावत होना चाहिए, सहन करने वाला। चैंपियन की तरह हरीश भाई के लिए भी माफी है।

बड़े भाई हैं मेरे। हरीश भाई मुझे कुछ भी बोल दें, वह मुझे चोर बोल दें, आज मुुझे अपराधी बोल दिया। हरीश भाई के चरणों में नतमस्तक हूं। बड़े भाई हैं। कुछ भी बोल दें, उनके सात खून माफ हैं। जब उनसे पूछा गया कि पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत भी यही कह रहे हैं कि कांग्रेस में वापसी के लिए माफी मांगें तो हरक ने कहा कि मैं वापसी की माफी नहीं मांग रहा हूं। बड़े भाई से माफी मांग रहा हूं। वह कुछ भी बोल दें। उनका हर शब्द हमारे लिए आशीर्वाद है, फूल है।

हरक के नरम पड़े तेवरों की वजह से राजनीतिक गलियारों में हलचल मच गई है। कल तक एक-दूसरे पर जमकर कटाक्ष कर रहे नेताओं की इस जुबानी जंग पर फिलहाल विराम लगता नजर आ रहा है। दूसरी ओर, कई लोग हरक के इन तेवरों को उनकी कांग्रेस वापसी से जोड़कर भी देख रहे हैं। 

बता दें कि हाल ही में हरक सिंह रावत ने कहा था कि हरीश रावत और उनके समर्थकों ने मुझे जेल भिजवाने की साजिशें कीं। चरित्र हनन का भी प्रयास किया लेकिन कामयाब नहीं हो पाए। तब हरक सिंह ने कहा था कि राजनीति में किसी का भी विश्वास कर लिया जाए, लेकिन हरीश भाई का विश्वास कतई नहीं करना चाहिए। हरक ने कहा था कि अगर छलनी दावा करे कि वो पानी रोक लेगी, तो उसका विश्वास कर लेना चाहिए, लेकिन हरीश की बात का नहीं।
... और पढ़ें

ऋषिकेश: 24 घंटे बाद भी ओवरहेड वाटर टैंक से नीचे नहीं उतरे गीता भवन के निष्कासित कर्मचारी

ऋषिकेश में गीता भवन की आयुर्वेदिक फार्मेसी से निष्कासित नौ कर्मचारी और एक आठ साल का बच्चा आश्रम परिसर स्थित टंकी पर बीते 24 घंटे से नीचे नहीं उतरे हैं। प्रशासन और पुलिस की टीम मौके पर मौजूद है और उन्हें मनाने का प्रयास कर रही है, लेकिन कर्मचारी नौकरी पर वापस रखने और लंबित वेतन के भुगतान को लेकर लिखित आश्वासन के बाद ही नीचे उतरने की जिद पर अड़े हैं। वहीं गीता भवन ट्रस्ट ने मामला लेबर कोर्ट में विचाराधीन होने का हवाला देते मांगों को लेकर अपना पल्ला झाड़ दिया है।    

स्वर्गाश्रम स्थित गीता भवन की आयुर्वेदिक फार्मेंसी 16 दिसंबर 2020 को सिडकुल हरिद्वार स्थानांतरित हो गई थी। इसके बाद ट्रस्ट ने 32 कर्मचारियों को भुगतान करना बंद कर दिया था। 16 जून 2021 को इन कर्मचारियों को ट्रस्ट ने निष्काषित कर दिया था। इसके बाद कर्मचारियों ने ट्रस्ट के खिलाफ मोर्चा खोल दिया।

हाल में न्यायालय की ओर से कर्मचारियों को आवास खाली करने का नोटिस जारी किया गया था। जिससे कर्मचारियों में जबरदस्त अक्रोश था। शुक्रवार सुबह निष्कासित कर्मचारी मनोरंजन पासवान, प्रमोद यादव, ललित पासवान, दलीप पासवान, मानव राय, श्रीराम पासवान, बहादुर पासवान, बिजेंद्र, धीरेंद्र सिंह बिष्ट टंकी पर चढ़ गए थे।

वहीं बहादुर पासवान का आठ वर्ष का बेटा श्रीधांसु भी उसके साथ था। कर्मचारी नौकरी पर वापस रखने, 11 महीने के लंबित वेतन के भुगतान, पीएफ, ईएसआई और बीमा की सुविधा मांग करने लगे। वहीं मांग पूरी न होने पर टंकी से कूदकर आत्महत्या करने की चेतावनी दी। तहसीलदार के निर्देश पर लेबर अफसर मौके पर पहुंचे। उन्होंने बताया कि लेबर कोर्ट 12 नंवबर को मामले की सुनवाई होनी है। तहसीलदार मनजीत सिंह लेबर अफसर से बात कर 23 अक्तूबर को सुनवाई तय कराई। लेकिन इसके बाद कर्मचारी नहीं माने। फिलहाल तहसीलदार कर्मचारियों को मनाने में जुटे हैं। 

लीज समाप्त कब्जा बरकरार 
तहसीलदार मनजीत सिंह को निष्कासित कर्मचारियों ने बताया कि ट्रस्ट को लीज पर मिली भूमि की अवधि समाप्त हो चुकी है। इसके बावजूद भी भूमि पर ट्रस्ट का कब्जा बरकार है। तहसीलदार ने कर्मचारियों को जिलाधिकारी को शिकायत देने या हाईकोर्ट याचिका दायर करने का सुझाव दिया। उन्होंने कहा कि जिलाधिकारी या कोर्ट का आदेश मिलने पर आख्या वे ही तैयार करेंगे। ऐसे में अगर अवैध कब्जा है तो उस पर निश्चित तौर कार्रवाई होगी।

विधायक का फोन स्विच ऑफ, सासंद ने दिए निर्देश
मौके से कर्मचारियों ने स्थानीय विधायक रितु खंडूड़ी को फोन किया। लेकिन कर्मचारियों ने कहा कि पहले विधायक से बात हुई। इसके बाद अचानक उनका नंबर स्विच ऑफ हो गया। इसके बाद कर्मचारियों ने पूर्व मुख्यमंत्री और गढ़वाल सांसद तीरथ सिंह रावत को फोन मिलाया। उन्होंने कर्मचारियों को तत्काल मामले में कार्रवाई के लिए जिलाधिकारी को निर्देशित करने का आश्वासन दिया। 
... और पढ़ें

उत्तराखंड: आज होगा रोडवेज और प्राइवेट बसों, टैक्सी, विक्रम के किराए पर फैसला

उत्तराखंड में रोडवेज बसों के साथ ही प्राइवेट बसों, टैक्सी, विक्रम आदि के किराए पर शनिवार को फैसला होगा। इसके लिए परिवहन मुख्यालय में राज्य परिवहन प्राधिकरण(एसटीए) की बैठक होने जा रही है। एसटीए की बैठक में सबसे प्रमुख मुद्दा किराये में बढ़ोतरी का है।

दरअसल, ट्रांसपोर्ट कारोबारी से लेकर टैक्सी व निजी बस संचालक लगातार डीजल की महंगाई के चलते किराए में बढ़ोतरी की मांग करते आ रहे हैं। इसके लिए मुख्यालय ने आरटीओ देहरादून की अध्यक्षता में समिति का गठन किया था। समिति ने अपनी रिपोर्ट भेज दी थी, जिस पर एसटीए की बैठक में चर्चा होगी। इसके अलावा विभिन्न रूटों पर बस संचालन को लेकर भी चर्चा की जाएगी।
... और पढ़ें

लखीमपुर खीरी केस: हरिद्वार पहुंची अस्थि कलश यात्रा, गंगा में विसर्जित हुई मृतक किसानों की अस्थियां

लखीमपुर खीरी में मृत किसानों की अस्थियां आज हरिद्वार के वीआईपी घाट पर विसर्जित की गई। शुक्रवार शाम को अस्थि कलश लक्सर के दिनारपुर स्थित गुरुद्वारा साहिब में रखा गया था। यहां सैकड़ों किसानों ने अस्थि कलश को श्रद्धांजलि दी। आज अस्थि कलश यात्रा हरिद्वार पहुंची। जहां किसानों ने अस्थि विसर्जन किया। 

कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों की उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में गाड़ियों के नीचे कुचलने से मृत्यु हो गई थी। संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से मृतक किसानों की अस्थि कलश यात्रा निकाली जा रही है। बृहस्पतिवार को अस्थि कलश यात्रा खानपुर से होते हुए लक्सर पहुंची।

यहां कई गांवों से गुजरते हुए दिनारपुर गांव स्थित गुरुद्वारा साहिब पहुंची थी। शुक्रवार को अस्थि कलश को श्रद्धांजलि देने के लिए सैकड़ों किसानों की भीड़ गुरुद्वारा साहिब पहुंची। किसानों का कहना था कि केंद्र सरकार पूरी तरह से किसान विरोधी है।

किसानों का उत्पीड़न किसी भी सूरत में बरदाश्त नहीं किया जाएगा। इस मौके पर रवि चौधरी, विजय शात्री, रिजवान अली, शादाब, संदीप कुमार, सुनील कुमार, रिजवान, मासूम अली, शुभम चौधरी, राजकुमार, अक्ष नामदेव, वासुदेव शर्मा, रमन कुमार, दीपक चौधरी, संदीप चौधरी, आलीशान, शादाब अली व अरुण चौधरी आदि मौजूद रहे।
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00