लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttarakhand ›   Dehradun News ›   Accident Gajraj Elephents will cross railway track by climbing ramp Haldwani Uttarakhand news in hindi

उत्तराखंड: रैंप पर चढ़कर रेलवे ट्रैक पार करेंगे गजराज, हादसे रोकने को लालकुआं से गूलरभोज तक आठ स्थान चिह्नित

विजेंद्र श्रीवास्तव, अमर उजाला, हल्द्वानी Published by: रेनू सकलानी Updated Fri, 02 Dec 2022 01:16 PM IST
सार

बीते दस साल में लालकुआं से गूलरभोज तक आठ हाथियों की मौत ट्रेन के आगे आने से हो चुकी है। वर्ष-2021 में ट्रेन से टकराने पर तीन हाथियों की मौत हो गई थी। इस पर रेलवे ने हाथी के मूवमेंट वाले इलाकों में ट्रेनों की गति कम कर 30 किमी प्रतिघंटा कर दी थी जिससे हादसों को रोका जा सके। 

हाथी
हाथी - फोटो : Pixabay
विज्ञापन

विस्तार

ट्रेन से हाथियों के टकराने की घटनाओं को रोकने के लिए जंगलात और रेलव आगे आया है। लालकुआं-गूलरभोज के बीच वहां रैंप बनाए जाएंगे जहां से अक्सर हाथी रेलवे ट्रैक पार करते रहते हैं। इसके अलावा पटरी के किनारे पेड़ों की कटाई-छंटाई करने की भी योजना है जिससे ड्राइवर को रेलवे ट्रैक के आसपास का क्षेत्र और बेहतर ढंग से नजर आए।



रेलवे ट्रैक पर कई हाथी ट्रेन से टकराकर मर चुके हैं। बीते दस साल में लालकुआं से गूलरभोज तक आठ हाथियों की मौत ट्रेन के आगे आने से हो चुकी है। वर्ष-2021 में ट्रेन से टकराने पर तीन हाथियों की मौत हो गई थी। इस पर रेलवे ने हाथी के मूवमेंट वाले इलाकों में ट्रेनों की गति कम कर 30 किमी प्रतिघंटा कर दी थी जिससे हादसों को रोका जा सके। इससे हादसों में काफी हद तक कमी भी आई।


मुख्य वन संरक्षक कुमाऊं पीके पात्रो कहते हैं कि हाथियों को ट्रेन से होनी वाली दुर्घटनाओं से बचाने के लिए हरसंभव प्रयास किया जा रहा है। राजाजी नेशनल पार्क में हादसे रोकने के लिए रैंप बनाने का प्रयास सफल रहा है। कुछ इसी तर्ज पर रैंप बनाने की योजना है जिससे हाथी आसानी और तेजी से रेलवे ट्रैक को पार कर सकें।
 

रैंप पर आसानी से रेलवे ट्रैक पार कर सकेंगे हाथी
वनाधिकारियों के अनुसार कई जगहों पर रेलवे ट्रैक जमीन से ऊंचा होने के कारण हाथियों को रेलवे ट्रैक पार करने में समय अधिक लगता है। तराई केंद्रीय वन प्रभाग की एसडीओ शशि देव कहती हैं कि लालकुआं-गूलरभोज रेलवे ट्रैक पर सर्वे कराया गया। ऐसे आठ स्थालों को चिह्नित किया गया है जहां हाथी रेलवे ट्रैक ज्यादा पार करते हैं। उन स्थलों पर रेलवे के सहयोग से रैंप बनाया जाएगा।

हाथियों के मूवमेंट पर लालकुआं रेलवे स्टेशन पर वायरलेस से देंगे सूचना
तराई केंद्रीय वन प्रभाग डीएफओ वैभव कुमार सिंह कहते हैं कि रैंप जनवरी तक तैयार करने का लक्ष्य है। रेलवे ट्रैक के आसपास पेड़ों की छंटाई की भी योजना है। लालकुआं रेलवे स्टेशन पर वन विभाग एक वायरलेस सेट भी उपलब्ध कराएगा जिससे हाथियों का मूवमेंट रेलवे ट्रैक के आसपास दिखाई देता है तो तत्काल रेलवे को सूचित किया जा सके।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00