लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Delhi ›   Delhi NCR ›   Now no cancer patient will return from AIIMS without screening

AIIMS: अब एम्स से बिना स्क्रीनिंग नहीं लौटेगा कोई कैंसर मरीज, कर्मचारियों के लिए बनेगी केवल ई-पर्ची

अमर उजाला नेटवर्क, नई दिल्ली Published by: विजय पुंडीर Updated Sat, 01 Oct 2022 07:42 AM IST
सार

जांच के दौरान मरीज में कैंसर का लक्षण मिलता है तो उसी दिन अप्वाइंटमेंट भी दे दिया जाएगा। साथ ही ओपीडी का समय भी बढ़ा दिया गया है।

एम्स दिल्ली (फाइल फोटो)
एम्स दिल्ली (फाइल फोटो) - फोटो : फाइल
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स), दिल्ली स्थित डॉ. बी आर अंबेडकर इंस्टीट्यूट रोटरी कैंसर अस्पताल में उपचार करवाने आए मरीजों को बिना परामर्श वापस नहीं भेजा जाएगा। जांच के दौरान मरीज में कैंसर का लक्षण मिलता है तो उसी दिन अप्वाइंटमेंट भी दे दिया जाएगा। साथ ही ओपीडी का समय भी बढ़ा दिया गया है। इस फैसले के बाद एम्स में कैंसर की उपचार करवाने आ रहे सैकड़ों मरीजों को फायदा होगा। 



वर्तमान में डॉ. बीआरएआईआरसीएच में प्रति दिन 600 से अधिक मरीज उपचार करवाने आते हैं। इनमें से काफी मरीजों को बिना उपचार लौटना पड़ जाता था। ऐसे मरीजों की समस्या को देखते हुए डॉ. बीआरएआईआरसीएच और एनआईसी झज्जर की प्रमुख प्रोफेसर डॉ. सुषमा भटनागर ने आदेश जारी किया है। उनके द्वारा जारी आदेश में ओपीडी का समय बदला गया है। आदेश में कहा गया है कि डॉ. बीआरएआईआरसीएच एम्स की ओपीडी में रोगी के पंजीकरण का समय संशोधित किया गया है। 


ओपीडी में मरीजों का पंजीकरण सभी कार्य दिवसों में सुबह 8 बजे से दोपहर 1.00 बजे तक किया जाएगा। इसके बाद भी किसी भी मरीज को बिना परामर्श ओपीडी से नहीं भेजा जाना चाहिए। दोपहर एक बजे के बाद बारी-बारी से विभिन्न विभागों के रेजिडेंट के साथ स्क्रीनिंग ओपीडी शाम 5 बजे तक चलेगी। 

एनआईसी में बढ़ेंगे मरीज 
एम्स दिल्ली में देर शाम तक कैंसर मरीजों की स्क्रीनिंग होने के बाद राष्ट्रीय कैंसर संस्थान (एनआईसी) झज्जर में भी मरीजों की संख्या बढ़ेगी। एम्स दिल्ली स्थित सेंटर में सीमित मरीजों के लिए सुविधा होने के कारण स्क्रीनिंग में पाए जाने वाले मरीजों को झज्जर भेजा जाएगा। एम्स दिल्ली ने ऐसे मरीजों को झज्जर भेजने के लिए परिवहन की सुविधा भी शुरू की है। ऐसे में यहां आने वाले ज्यादा मरीजों को सुविधा मिलेगी। बता दें कि झज्जर में मरीजों की सुविधा के लिए विश्राम स्थल भी बनाया गया है। सुविधा होने के बाद भी दूरी के कारण मरीज वहां नहीं जा पा रहे थे।

कर्मचारियों के लिए बनेगी केवल ई-पर्ची
अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स), दिल्ली में स्वास्थ्य सेवाएं संस्थान के कर्मचारियों और उनके आश्रितों के लिए ईएचएस ओपीडी में अब केवल ई-पर्ची ही बनेगी। इन पर्ची को ओपीडी में बैठे डॉक्टर अपने लॉगिन से ही बना सकेंगे। ऐसे में कर्मचारियों को पर्ची बनाने के लिए परेशान नहीं होना होगा। वहीं, उनका पूरा ब्योरा भी डॉक्टर के एक क्लिक पर होगा। एम्स के निदेशक डॉ. एम श्रीनिवास ने इस संबंध में एक आदेश जारी किया है। 

सूत्रों की माने तो एम्स को पूरी तरह से डिजिटल बनाने की दिशा में यह एक कदम है। संभावना है कि आने वाले दिनों में इस कोशिश को अन्य मरीजों की पर्ची पर भी लागू किया जा सकता है। ऐसा होने के बाद मरीजों को पर्ची बनाने के लिए लाइन में लगने की जरूरत नहीं होगी। वहीं, मरीज की पूरी केस हिस्ट्री भी डॉक्टर के पास होगी। उसे पुरानी पर्ची पर निर्भर नहीं होना होगा। 
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00