विज्ञापन
विज्ञापन
लाभ पंचमी - सौभाग्य वर्धन का दिन,घर बैठे कराएं लक्ष्मी गणेश पूजन एवं लक्ष्मी सहस्रनाम पाठ,मात्र 101/- में,अभी बुक करें
Myjyotish

लाभ पंचमी - सौभाग्य वर्धन का दिन,घर बैठे कराएं लक्ष्मी गणेश पूजन एवं लक्ष्मी सहस्रनाम पाठ,मात्र 101/- में,अभी बुक करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

दिल्लीः ऑनलाइन क्लास न कर पाने वाले बच्चों के लिए कांस्टेबल बने सहारा, मंदिर में ले रहे क्लास

दिल्ली पुलिस का एक कांस्टेबल कोरोना काल में जरूरतमंद बच्चों के लिए मदद का बड़ा हाथ बनकर सामने आया है। कांस्टेबल ने कोरोनाकाल के दौरान गरीब और जरूरतमंद...

20 अक्टूबर 2020

Digital Edition

रंजीत नगर दुष्कर्म केस: 72 घंटे बाद भी छह वर्षीय मासूम की नहीं थम रही चीखें, डॉक्टर बोले- कब सामान्य होगी कहना मुश्किल

दिल्ली के राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती रंजीत नगर दुष्कर्म पीड़ित मासूम की सेहत में बेशक धीरे-धीरे सुधार आ रहा है, लेकिन 72 घंटे बाद भी वह मानसिक आघात से उबर नहीं सकी है। दिन का उजाला हो, रात का अंधेरा, उसकी चीखें हर उस शख्स को अपने दर्द का हिस्सा बना रही हैं, जो जाने अनजाने अस्पताल के जनरल वार्ड से गुजर रहा होता है। चिकित्सकों का कहना है कि अभी यह बता पाना मुमकिन नहीं कि वह सामान्य कब हो सकेगी। मासूम के दिमाग पर इतना गहरा असर पड़ा है कि संभव है कि इसमें लंबा वक्त लग जाए।

डॉक्टर से लेकर मरीज तक हर कोई बच्ची की चीखें सुन दर्द में
दरअसल, शुक्रवार को रंजित नगर इलाके में एक छह वर्षीय बच्ची के साथ दुष्कर्म का मामला सामने आया था। वह इस वक्त राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती है। दुष्कर्म की शिकार बच्ची की सेहत में धीरे-धीरे सुधार हो रहा है, लेकिन मानसिक आघात से वह उबर नहीं सकी है। वह अभी भी सदमे में है। हर मिनट चीखती है। अपने दर्द को शब्दों में भी बयां न कर पाने वाली यह मासूम असहनीय पीड़ा और खौफ का सामना कर रही है। हालात इस कदर हैं कि आसपास वार्ड में भर्ती मरीज, डॉक्टर, नर्स, पैरामेडिकल स्टाफ और तीमारदार हर कोई बच्ची के लिए भगवान से इंसाफ मांग रहा है।
 
डॉक्टर बोले- ऐसे मामले देख गुस्सा और दुख दोनों आता है
ऑपरेशन के बाद एक दिन आईसीयू निगरानी और फिर सामान्य वार्ड में पहुंची बच्ची को लेकर एक डॉक्टर ने यहां तक कहा कि बच्ची के दिल-दिमाग पर वह घटना इस तरह हावी है कि उसे ठीक होने में लंबा वक्त लग सकता है। उन्होंने बताया, 'जब भी मैं ऐसे मामले देखता हूं तो गुस्सा और दुख दोनों ही रहता है। उस बच्ची का जीवन अभी शुरू भी नहीं हुआ है और उसे ऐसे दर्द से सामना करना पड़ रहा है जिसका अंत कब हो पाएगा, इसका जबाव चिकित्सीय विज्ञान के पास नहीं है। हम चाहकर भी उसे सामान्य जिंदगी नहीं दे सकते, जब तक वह या उसका परिवार न संभाल ले।'

'उसकी हर चीख रोंगटे खड़े कर देती है'
पास के ही वार्ड में अपने पति का इलाज करा रहीं सविता ने बताया कि शनिवार और रविवार दो दिन से वह लगातार बच्ची की चीखें सुन रहीं हैं। पहले उन्हें नहीं पता था लेकिन एक नर्स से पता चला तो उसकी हर चीख रोंगटे खड़ा कर देती है। भगवान ऐसा किसी के साथ न करे, बच्चों के साथ तो बिलकुल भी नहीं। मुझे नहीं पता कि यह सब कैसे और किसने किया है? लेकिन जिसने भी यह अपराध किया है उसे सरेआम फांसी होनी ही चाहिए।

वहीं नीचे की मंजिल पर स्थित एक वार्ड में भर्ती मरीज सुरेश ने तो यहां तक कहा कि दिल्ली ऐसे घिनौने अपराध का अड्डा बनता जा रहा है, पुलिस को एक मजबूत संदेश देना चाहिए। लोगों में डर होना चाहिए। उस बच्ची के दर्द के आगे उन्हें अपना भी दर्द महसूस नहीं हो रहा है।
... और पढ़ें

दक्षिण-पश्चिमी जिला डीसीपी का तुगलकी फरमान: रात में दो इंस्पेक्टर ड्यूटी पर रहेंगे, एक थाने में रुकेगा तो दूसरा गश्त करेगा

दक्षिण-पश्चिमी जिले में पुलिस स्टेशनों में तैनात दो इंस्पेक्टर अब रात को पुलिस स्टेशनों में रूकेंगे। इनमें से एक इंस्पेक्टर रात को थाने में रूकेगा, जबकि दूसरा इंस्पेक्टर रात को इलाके में गश्त करेगा। दक्षिण-पश्चिमी जिले के डीसीपी गौरव शर्मा ने अपने जिले में ये तुगलकी फरमान जारी किया है। इस तुगलकी फरमान से जिले में तैनात इंस्पेक्टर व  पुलिसकर्मियों में भारी नाराजगी है। डीसीपी ने 12-24 घंटे की ड्यूटी के मायने भी बदल दिए हैं। 

दक्षिण-पश्चिमी जिले के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि डीसीपी गौरव शर्मा ने शुक्रवार को जिले के अफसरों की बैठक बुलाई थी। इस बैठक में गौरव शर्मा ने फरमान सुनाया था कि अब थानों में रात को दो इंस्पेक्टर रूकेंगे। एक इंस्पेक्टर रात को पेट्रोलिंग करेगा जबकि दूसरा थाने में नाइट स्टे करेगा। गौरतलब है कि पुलिस थाने में थानाध्यक्ष, एटीओ व तफ्तीश तीन इंस्पेक्टर होते हैं। अभी तक रात को एक ही इंस्पेक्टर थाने में रूकता था। ये इंस्पेक्टर थाना इलाके समेत सब-डिवीजन में भी गश्त करता था। 

इसके अलावा 12-24 के तहत तीन शिफ्ट में पुलिसकर्मी ड्यूटी करते हैं। दो शिफ्ट के पुलिसकर्मी छुट्टी पर रहते हैं, जबकि शिफ्ट के पुलिसकर्मी ड्यूटी करते हैं। डीसीपी गौरव शर्मा ने आदेश दिया है कि एक शिफ्ट के पुलिसकर्मी ड्यूटी करेंगे। दूसरी शिफ्ट के लोग थाने में रिजर्व में रहेंगे, जबकि तीसरी शिफ्ट के पुलिसकर्मी छुट्टी पर रहेंगे। 

पुलिसकर्मी 12 घंटे की ड्यूटी के बाद 24 घंटे का आराम करते हैं। अब जिले में थानों में एक शिफ्ट के पुलिसकर्मी थाने में रिजर्व रहेंगे। यानि वह ड्यूटी तो नहीं करेंगे मगर वह थाने में ही रहेंगे। डीसीपी के इस फरमान से जिले के इंस्पेक्टर व पुलिसकर्मियों में भारी नाराजगी है। पुलिसकर्मयों का कहना है कि वह इतनी लंबी ड्यूटी कैसे करेंगे। जिले में ये चर्चा है कि एक डीसीपी के रात को रूकने के आदेश के बाद जिला डीसीपी ने ये आदेश जारी किए हैं। 
... और पढ़ें

विशेषज्ञों की राय: दिल्ली में दिखाई दे सकता है त्योहारों के बाद कोरोना का असर

देश की राजधानी में कोरोना महामारी निचले स्तर पर है। टीकाकरण भी दो करोड़ पार हो चुका है, लेकिन यह हालात ज्यादा दिन तक एक जैसे नहीं रहने वाले हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि त्योहारों के बाद कोरोना का असर दिखाई दे सकता है। कोरोना के मामलों में उतार चढ़ाव भी हो सकता है क्योंकि राजधानी में लोगों की लापरवाही भी नजर आ रही है। त्योहारों के दौरान बाजारों से भीड़ की तस्वीरें सामने आ रही हैं। कोविड नियमों की परवाह न करते हुए लोग भीड़ का हिस्सा बन रहे हैं। इसकी वजह से अगले कुछ सप्ताह बाद संक्रमण में बढ़ोतरी हो सकती है।

स्वास्थ्य विशेषज्ञ डॉ. शांतनु सेन का कहना है कि दिल्लीवालों को यह कतई नहीं भूलना चाहिए कि यहां कोरोना का डेल्टा वेरिएंट 40 फीसदी से अधिक मरीजों में मिल चुका है। यह वेरिएंट दोबारा से संक्रमित भी कर सकता है और वैक्सीन की दोनों खुराक लेने के बाद पॉजीटिव भी कर सकता है।

नई दिल्ली स्थित आईजीआईबी के वैज्ञानिकों ने इसी साल जून माह में अध्ययन पूरा किया था जिसके मुताबिक दिल्ली से पांच हजार से अधिक सैंपल की जीनोम सीक्वेसिंग की गई और इनमें से 59 फीसदी में डेल्टा वेरिएंट ही मिला है। यह अध्ययन मेडिकल जर्नल मेडरेक्सिव में प्रकाशित भी हुआ।

सफदरजंग अस्पताल के डॉ. जुगल किशोर का कहना है कि महामारी का असर चाहे जो भी हो, लेकिन लोगों के व्यवहार में बदलाव नहीं आना चाहिए। चेहरे पर मास्क लगाने के साथ ही सोशल डिस्टैसिंग का पालन हर किसी के लिए अनिवार्य है। फिर चाहे वह युवा हो या फिर बुजुर्ग। अगर लोग अधिक लंबे समय तक लापरवाही बरतते हैं तो आगामी दिनों में हालात गंभीर भी हो सकते हैं। 

दिल्ली एम्स के डॉ. संजय राय का कहना है कि कोरोना के कुछ वेरिएंट काफी आक्रामक प्रकृति से जुड़े हैं। इन्हीं की वजह से टीकाकरण के बाद भी कोविड सतर्कता नियमों का पालन अनिवार्य किया गया। लोगों को महामारी को लेकर गंभीरता बरतनी चाहिए, वह भी तब जब कुछ माह पहले दूसरी लहर के गवाह बन चुके हों। 
... और पढ़ें

फैसला: एक नवंबर से दिल्ली में खुलेंगे स्कूल, घाटों पर छठ पूजा की इजाजत मिली

दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण(डीडीएमए) की बुधवार को हुई बैठक में राजधानी में एक नवंबर से सभी कक्षाओं के स्कूल खोलने की अनुमति दे दी गई है। इसी के साथ इस बैठक में दिल्ली में सार्वजनिक जगहों पर छठ पूजा करने की अनुमति भी दे दी गई है। इस फैसलों की जानकारी उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने दी।




मनीष सिसोदिया ने कहा कि कोरोना के हालात इस वक्त काबू में हैं। चिंता की बात नहीं, लेकिन सावधान रहने की जरूरत है। सिसोदिया ने कहा कि छठ पूजा के सार्वजनिक आयोजन को मंजूरी भी मिल गई है।

स्कूल के बारे में लिया ये फैसला
. सभी स्कूल प्राइवेट व सरकारी खोले जाएंगे।
. 1 नवंबर से सभी स्कूल खोलने की इजाजत।
. अभिभावक को बाध्य नहीं किया जाएगा।
. 50 फीसदी से ज्यादा क्षमता से छात्रों को ना बुलाया जाए।
. स्कूल के स्टाफ को सौ फीसदी टीका लगा हो, नहीं लगा हो तो तुरंत लगवाएं।
. ऑनलाइन क्लास भी चलेगी और स्कूल भी खुलेंगे।
. सभी क्लासेस और सभी स्कूल को खोलने की इजाजत।
 
... और पढ़ें
फाइल फोटो फाइल फोटो

हाईकोर्ट: सड़कों पर लगे बेवजह के बैरिकेड के खिलाफ दायर याचिका पर अदालत ने केंद्र और दिल्ली पुलिस से मांगा जवाब

दिल्ली उच्च न्यायालय ने राजधानी की सड़कों व आवासीय कॉलोनियों की सड़कों पर पुलिस बैरीकेड के कारण आम लोगों को हो रही परेशानी के संबंध में दायर याचिका पर केंद्र और दिल्ली पुलिस को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। याचिका में आरोप लगाया गया है कि सुरक्षा के नाम पर की गई बेरीकेटिंग से नागरिकों को असुविधा होती है।

मुख्य न्यायाधीश डीएन पटेल और न्यायमूर्ति ज्योति सिंह की खंडपीठ ने केंद्र और दिल्ली पुलिस को इस मुद्दे पर अपना पक्ष रखने का निर्देश देते हुए सुनवाई 24 नवंबर तय की है। यह जनहित याचिका जन सेवा वेलफेयर सोसायटी ने दाय की है। याचिका में कहा गया है कि दिल्ली पुलिस ने तय दिशा-निर्देशों का उल्लंघन करते हुए दिल्ली की सड़कों और आवासीय कॉलोनियों में बेपरवाह और अनियमित पुलिस बैरिकेड लगा रखे हैं।

याची ने कहा शहर में भारी यातायात जाम का एक कारण पुलिस द्वारा सड़कों की अनावश्यक बैरीकेडिंग है और दिल्ली भर में कई सड़कों पर लोहे के बैरिकेड लगाने में अधिकारियों के कुप्रबंधन और अव्यवसायिक रवैये से जनता की सुरक्षा, सुरक्षा और कल्याण के लिए गंभीर कठिनाई और असुविधा होती है।

अधिवक्ता बीरेंद्र बिक्रम और बांके बिहारी के माध्यम से दायर याचिका में कहा गया है कि ऐसे उदाहरण सामने आए हैं जहां सड़कों पर जंजीरों में लगे बैरिकेड लगाने से जानलेवा साबित हुए है। सड़कों पर बैरिकेड लगाने को लेकर दिशा-निर्देशों का सही तरीके से पालन नहीं किया जा रहा है।

याची ने कहा संगठन ने कहा कि उसने कई शिकायतें की हैं और यहां तक कि पुलिस आयुक्त को ज्ञापन भी दिया है लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई है। दिशा-निर्देशों का पालन करने के निर्देश के अलावा याचिका में सिविल सोसायटी के सदस्यों सहित क्षेत्रवार समिति गठित करने, मोबाइल पुलिस बैरिकेड लगाने के लिए इलाके का सर्वेक्षण, पर्यवेक्षण और आकलन करने और अपनी रिपोर्ट पाक्षिक रूप से संबंधित पुलिस उपायुक्त को सौंपने की मांग की गई है।

याचिका में मोबाइल बैरिकेड लगाने के लिए जिम्मेदार उन अधिकारियों की जवाबदेयी तय करने की मांग की है जिसके परिणामस्वरूप जानमाल का नुकसान हुआ।
... और पढ़ें

दिल्ली : दिवाली के बाद खुल सकते हैं कक्षा 6 से 8 तक के स्कूल. डीडीएमए पैनल की सिफारिश

पैनल ने डीडीएमए की अगली मीटिंग के लिए जो नोट्स बनाए हैं, उसमें यह बताया गया है कि दिल्ली में कक्षा 9 से 12वीं तक की कक्षाएं शुरू होने के बाद से कोरोना के एक मामले सामने नहीं आए हैं।

दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) के पैनल ने कक्षा 6 से 8 तक के स्कूलों को 50 प्रतिशत छात्र संख्या के साथ फिर से खोलने की सिफारिश की है। पैनल ने डीडीएमए की अगली मीटिंग के लिए जो नोट्स बनाए हैं, उसमें यह बताया गया है कि दिल्ली में कक्षा 9 से 12वीं तक की कक्षाएं शुरू होने के बाद से कोरोना के एक मामले सामने नहीं आए हैं।

दिल्ली में कोरोना की स्थिति को लेकर डीडीएम की 25वीं बैठक 29 अक्तूबर को होगी। उपराज्यपाल अनिल बैजल इसकी अध्यक्षता करेंगे। बैठक में दीपावली बाद 6 से 8 तक के स्कूलों को खोलने की घोषणा हो जाने की पूरी संभावना है।

डीडीएमए ने एक विस्तृत योजना और मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) बनाई है। डीडीएमए पैनल अगली मीटिंग में इस तरह के कई महत्वपूर्ण तथ्यों को रखने वाला है। इसमें यह भी शामिल होगा कि दिल्ली में बड़े बच्चों के स्कूल जब से खुले हैं, बच्चों की उपस्थिति 80% तक बढ़ गई है। करीब 95% शिक्षकों और स्कूल कर्मचारियों को कोरोना की वैक्सीन लग गई है। 

दिल्ली के शिक्षा निदेशक की तरफ से भी स्कूलों में बच्चों की उपस्थिति में वृद्धि होने की जानकारी दी गई है। उन्होंने 6 से 8 तक के बच्चों के स्कूल खोलने पर सहमति जताई है। यह भी कहा है कि स्कूल खुलने के बाद अभिभावकों की सहमति से ही बच्चे स्कूल आएंगे। केवल 50% छात्रों को ही स्कूल में बुलाया जाएगा। शिक्षा निदेशक ने यह भी कहा है कि कोविड उपयुक्त व्यवहार देखते हुए छात्रों की परिवहन सुविधा भी बहाल की जा सकती है। 

नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल ने भी इस बात का समर्थन किया है कि त्योहारों के बाद बच्चों के स्कूलों को फिर से खोल देना चाहिए। वहीं आईसीएमआर के महानिदेशक बलराम भार्गव ने कहा है कि स्कूल खोलने से पहले सभी शिक्षकों को शत प्रतिशत वैक्सील अनिवार्य रूप से लगनी चाहिए। डीडीएमए पैनल इन सभी सुझावों को अगली मीटिंग में रखेगा।
... और पढ़ें

कचरा प्रबंधन में नाकामी : जीडीए पर एक करोड़ का जुर्माना, एनजीटी ने कहा-एक महीने में हो तामील

कचरा प्रबंधन में विफलता को लेकर राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) ने गाजियाबाद नगर निगम को केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के पास अंतरिम मुआवजे के रूप में एक करोड़ रुपये जमा कराने का आदेश दिया है। इस राशि का इस्तेमाल पर्यावरण सुधारने के लिए किया जाएगा।
अधिकरण ने निगम को यह पैसा गलती करने वाले अधिकारियों की तनख्वाह से वसूलने की छूट भी दी है।

एनजीटी अध्यक्ष जस्टिस आदर्श कुमार गोयल के नेतृत्व वाली पीठ ने कहा, आपराधिक कानून के तहत अभियोजन के अलावा सांविधानिक दायित्व के उल्लंघन को लेकर अधिकारियों को मुआवजा और विभागीय कार्रवाई के जरिए जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए।

पीठ ने कहा, अधिकरण के आदेशानुसार निगम सीपीसीबी को एक माह के भीतर मुआवजा जमा कराए, जिसे उचित योजना बनाकर पर्यावरण को हुए नुकसान की भरपाई के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

एनजीटी ने उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव को अतिरिक्त मुख्य सचिव, नगर विकास या अन्य अधिकारियों की सहायता लेकर एक महीने में स्थिति की समीक्षा के निर्देश भी दिए हैं। साथ ही अतिरिक्त मुख्य सचिव को तीन माह बाद अनुपालना स्थिति पेश करने और अगली सुनवाई पर वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए मौजूद रहने को भी कहा है।

इसके अलावा, पीठ ने सीपीसीबी को 24 फरवरी 2022 से पहले क्षेत्र में ठोस और तरल कचरा प्रबंधन के मुद्दे पर स्वतंत्र रिपोर्ट देने का निर्देश दिया है। दरअसल, एनजीटी ट्रांस हिंडन परिसंघ, गाजियाबाद के रेसिंडेंट वेल्फेयर एसोसिएशनों के उस आवेदन पर सुनवाई कर रहा था, जो इंदिरापुरम, वसुंधरा और वैशाली में कचरे के वैज्ञानिक प्रबंधन, पर्यावरण व जन स्वास्थ्य से जुड़ा है।

सुनवाई के दौरान अधिकरण ने गाजियाबाद के इन इलाकों में कचरे के वैज्ञानिक प्रबंधन को लेकर अधिकारियों के कामकाज पर भारी निराशा जताई। पीठ ने कहा, इस मुद्दे पर अधिकरण द्वारा निर्धारित समय सीमाएं गुजर चुकी हैं। पर्यावरण क्षति और आधिकारिक विफलता को लेकर कोई जवाबदेही तय नहीं हुई है।
... और पढ़ें

नया प्रयोग: दिल्ली पुलिस में पहली बार, महिला एसआई को लगाया चौकी प्रभारी

NGT
दिल्ली पुलिस आयुक्त राकेश अस्थाना के प्रयोग के साथ अब दक्षिण-पूर्व जिला डीसीपी ईशा पांडेय ने नया प्रयोग किया है। डीसीपी ईशा पांडेय ने श्रीनिवासपुरी चौकी प्रभारी महिला एसआई को लगाया है। दिल्ली पुलिस में पहली बार ऐसा हो रहा है कि  महिला एसआई को चौकी प्रभारी लगाया गया है। दिल्ली पुलिस आयुक्त छह जिलों की कमान महिला डीसीपी को सौंप चुके हैं।

डीसीपी ईशा पांडेय ने पुलप्रह्लादपुर थाने में तैनात महिला एसआई सीमा कुमारी को श्रीनिवासपुरी चौकी का प्रभारी बनाया गया है। श्रीनिवासी चौकी प्रभारी एसआई सुमेर सिंह को गोविंदपुरी थाने भेजा गया है।

पुलिस अधिकारियों के इस तरह स्वतंत्र चौकी का प्रभार महिला एसआई को सौंपा गया है। पुलिस आयुक्त दक्षिण ने दक्षिण-पूर्व, मध्य, पश्चिमी, पश्चिमी, पूर्वी और उत्तर-पूर्वी जिले की कमान महिला एसआई को सौंपी है। 
... और पढ़ें

दिल्ली: फार्मा कंपनियों को हर्बल ऑयल के कारोबार का झांसा देकर ठगी करने वाला जालसाज गिरफ्तार

पश्चिम दिल्ली जिला की साइबर सेल ने ऐसे जालसाज को गिरफ्तार किया है, जो फर्जी कंपनी बनाकर देश के कई फार्मा कंपनियों को हर्बल ऑयल का कारोबार का झांसा देकर ठगी करता था। पुलिस ने आरोपी के पास से एक स्मार्टफोन, फर्जी कंपनी बनाने में इस्तेमाल फर्जी दस्घतावेज और डेबिट कार्ड बरामद किए हैं। पुलिस आरोपी से पूछताछ कर गिरोह के अन्य सदस्यों की जानकारी हासिल करने में जुटी है। शुरूआती जांच में पता चला है कि आरोपी ने अब तक विभिन्न शिकायतकर्ताओं से 1.34 करोडं रुपये की ठगी कर चुका है।

जिला के अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त प्रशांत गौतम ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी की पहचान गौतम बुधनगर निवासी सोनू नागर के रूप में हुई है। पुलिस के अनुसार कई फार्मा कंपनियों की ओर से 16 सितंबर 2021 को तिलक नगर थाने में शिकायत दी गई थी। जिसमें बताया कि आरोपी खुद को नामी अंतरराष्ट्रीय फार्मा कंपनी का अधिकृत प्रतिनिधि होने का दावा किया और उनसे ईमेल और व्हाट्सएप कॉल कर संपर्क किया।

उसने कहा कि वह अपने हर्बल ऑयल का कारोबार का विस्तार करना चाहते हैं। उसने शिकायतकर्ताओं को कम दाम में हर्बल ऑयल देने की पेशकश की। झांसे में लेने के बाद आरोपी ने विभिन्न तरीके से ऑयल व अन्य चीजे मुहैया करने के नाम पर कंपनियों से 45 लाख रुपये ले लिए। उसके बाद आरोपी ने रुपये देने वाले शिकायतकर्ताओं का नंबर ब्लॉक कर दिया। 

पुलिस ने मामले की जांच शुरू की। पुलिस ने आरोपी के बैंक खाते, मोबाइल नंबर और अन्य दस्तावेजों की जांच करते हुए सोमवार को आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। जांच में पता चला कि आरोपी को प्रवर्तन निदेशालय की टीम भी लगातार तलाश कर रही थी। पुलिस के मुताबिक इस गैंग में अन्य आरोपी शामिल हैं। जिनकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने दबिश दी जा रही है।
... और पढ़ें

दिल्ली: लालकिला मेट्रो स्टेशन पर एक यात्री के बैग से 58 लाख रुपये बरामद, सीआईएसएफ ने किया आयकर विभाग के हवाले

लाल किला मेट्रो स्टेशन पर तैनात केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) के जवान ने एक यात्री के पास से 58 लाख रुपये बरामद किए हैं। सीआईएसएफ अधिकारियों ने पैसे और यात्री को आयकर विभाग के अधिकारियों को सौंप दिया है। शुरुआती जांच में पता चला कि यात्री के फैक्टरी में काम करता था और मालिक का पैसा लेकर जा रहा था। आयकर विभाग ने फैक्टरी मालिक को नोटिस भेजकर जांच में शामिल होने के लिए कहा है।
 
सीआईएसएफ प्रवक्ता ने बताया कि 23 अक्तूबर को लाल किला मेट्रो स्टेशन पर सिपाही कुमार एस एक्सरे मशीन पर यात्रियों के सामान की जांच कर रहा था। इसी दौरान उसे एक यात्री के बैग में रुपये का बंडल दिखा। उसने तुरंत बैग की जांच की। जिसमें करीब 58 लाख रुपये थे। उसने तुरंत आला अधिकारियों को इसकी जानकारी दे दी। 

यात्री की पहचान सिरसपुर निवासी राजू रंजन के रूप में हुई। यात्री ने पूछताछ में बताया कि वह एक प्लास्टिक कंपनी में काम करता है और कारोबार के सिलसिले में पैसे लेकर जा हा था। राजू ने अपने कंपनी के कुछ कर्मचारियों को भी मौके पर बुला लिया। लेकिन वह पैसे का कोई वैध कागजात नहीं दिखा पाया।
 
सीआईएसएफ अधिकारियों ने पैसे की बरामदगी की जानकारी आयकर विभाग के अधिकायियों को दे दी। आयकर अधिकारी स्टेशन पहुंचने के बाद राजू रंजन से पूछताछ की। पैसे को स्टेशन के लॉकर में रखने के बाद आयकर अधिकारी ने 24 अक्तूबर को फैक्ट्री मालिक अशोक बंसल को जांच में जुड़ने का नोटिस दिया। पैसे के वैध कागजात पेश नहीं करने पर आयकर विभाग ने उसे जब्त कर लिया है और आगे की जांच कर रही है।
... और पढ़ें

दिल्ली: महिला ने बदमाश का लिया स्क्रीन शॉट, पुलिस ने किया गिरफ्तार, बेहद दिलचस्प है मामला

दिल्ली के ओखला में रहने वाली एक महिला की सूझबूझ के चलते बदमाश पुलिस की गिरफ्तार में पहुंच गया। बदमाश ने महिला का मोबाइल छीन लिया था। महिला ने अपने मोबाइल पर वीडिया कॉल की। बदमाश ने महिला को फोन उठा लिया। इस दौरान महिला ने बदमाश का स्क्रीन शॉट ले लिया। इससे बदमाश की फोटो आ गई। इस फोटो के जरिए ओखला पुलिस चौकी ने करीब 250 घरों को खंगालने के बाद बदमाश को गिरफ्तार कर लिया। बदमाश के कब्जे से छीना गया मोबाइल फोन बरामद कर लिया गया है।

दक्षिण-पूर्व जिला पुलिस अधिकारियों के अनुसार पीड़ित सुषमा(40) संजय कॉलोनी, ओखला में रहती है। वह 17 अक्तूबर को रात करीब 11 बजे अपने घर के बाहर मोबाइल पर बात कर रही थी। तभी एक युवक आया और सुषमा का मोबाइल छीनकर ले गया। महिला की शिकायत पर मामला दर्जकर ओखला थानाध्यक्ष सनतन सिंह की देखरेख में ओखला चौकी प्रभारी एसआई प्रकाश व एसआई आकाश की टीम ने जांच शुरू की।

जांच में पता लगा कि महिला ने अपने मोबाइल पर वीडियो कॉल की थी। बदमाश ने महिला की वीडियो कॉल उठा ली थी। वीडियो कॉल के दौरान महिला ने बदमाश का स्क्रीन शॉट ले लिया था। स्क्रीन शॉट में बदमाश का फोटो आ गया था। महिला ने ये फोटो पुलिस को दे दिया था। 

ओखला पुलिस ने मोबाइल से फोटो निकालकर पोस्टर बनवाए और करीब 250 से ज्यादा घरों की तलाशी ली। बदमाश की फोटो जगह-जगह दिखाई गई। आखिरकार पुलिस टीम ने आरोपी बदमाश सुलतान अली(19) को हरकेश नगर नाले से गिरफ्तार किया है। आरोपी जनता जीवन कैंप, ओखला का रहने वाला है। इसके कब्जे से महिला का छीना गया मोबाइल बरामद कर लिया। आरोपी बदमाश नशा लेने का आदी है। वह हाल ही में नशा मुक्ति केन्द्र से बाहर आया था। 
... और पढ़ें

बुलंदशहर में मासूम से दुष्कर्म: बच्ची दिल्ली के अस्पताल में भर्ती, स्वाति मालीवाल ने सीएम योगी को पत्र लिख कार्रवाई की मांग की

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने बुलंदशहर में 15 अक्तूबर को 12 साल की बच्ची के साथ बलात्कार होने के मामले में कड़ा रूख अख्तियार किया है। उन्होंने इस मामले में जल्द से जल्द कार्रवाई करने के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को चिट्ठी लिखी है। बच्ची दिल्ली के अस्पताल में भर्ती है और उससे मंगलवार को स्वाति मालीवाल ने मुलाकात की।

स्वाति मालीवाल ने बताया कि अस्पताल के डॉक्टरों के अनुसार पीड़ित बच्ची के शरीर पर कई गंभीर चोटें हैं। उसके मस्तिष्क में चोट के कारण उसे एक गंभीर न्यूरोलॉजिकल समस्या भी हो गई है। इस कारण उन्होंने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री को पत्र लिख मामले की ओर उनका ध्यान आकर्षित किया। उन्होंने कहा कि अपराध की क्रूरता के बावजूद उत्तर प्रदेश पुलिस एफआईआर में बलात्कार की धाराओं को जोड़ने में विफल रही। आयोग पीड़िता और उसके परिवार की हर संभव तरीके से सहायता करने की कोशिश कर रहा है और उनकी तत्काल चिकित्सा और कानूनी जरूरतों को भी देख रहा है।

उन्होंने मांग की है कि एफआईआर में बलात्कार की संबंधित धाराओं को जोड़ा जाए एवं मामले में लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई हो और बच्ची एवं उसके परिवार को सुरक्षा भी प्रदान की जाए। उन्होंने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री से पीड़ित बच्ची के गरीब परिवार से होने पर उसको तत्काल पर्याप्त मुआवजा प्रदान देने की मांग की और मामले की सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट में की जाए। स्वाति मालीवाल ने बताया कि पीड़िता को पास के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था और अहमदगढ़ पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज की गई थी।
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00