लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Education ›   9 Lessons To Learn From Anand Mahindra Industrialist Harsh Goenka shares the list

Anand Mahindra: आनंद महिंद्रा से सीखें ये नौ जरूरी बातें, उद्योगपति हर्ष गोयनका ने शेयर की लिस्ट

एजुकेशन डेस्क, अमर उजाला Published by: सुभाष कुमार Updated Sat, 08 Oct 2022 06:10 PM IST
सार

हर्ष गोयनका ने अपने ट्विटर हैंडल पर ऐसी 09 बातों की लिस्ट जारी की है जिन्हें लोगों को आनंद महिंद्रा से सीखनी चाहिए। उनकी इस पोस्ट को काफी शेयर किया जा रहा है।

आनंद महिंद्रा और हर्ष गोयनका।
आनंद महिंद्रा और हर्ष गोयनका। - फोटो : Social Media
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

उद्योगपति और आरपीजी ग्रुप के चेयरमैन हर्ष गोयनका अक्सर अपनी सोशल मीडिया हैंडल से रोचक ट्वीट और पोस्ट आदि करने के लिए जाने जाते हैं। उनके फोलोअर्स भी इस कारण से उन्हें काफी पसंद करते हैं। अक्सर वो जीवन जीने के तरीके और सीख आदि की बातें भी करते हैं। ठीक ऐसे ही शख्स आनंद महिंद्रा भी हैं। हर्ष गोयनका ने अपने ट्विटर हैंडल पर ऐसी 09 बातों की लिस्ट जारी की है जिन्हें लोगों को आनंद महिंद्रा से सीखनी चाहिए। उनकी इस पोस्ट को काफी शेयर किया जा रहा है। आइए जानते हैं उन्होंने क्या कहा है...

पहले बताया कौन हैं आनंद महिंद्रा?
हर्ष गोयनका ने शेयर की गई पोस्ट में पहले बताया है कि आनंद महिंद्रा हैं कौन? पोस्ट में लिखा है कि आनंद गोपाल महिंद्रा एक भारतीय अरबपति बिजनेसमैन हैं और मुंबई स्थित एक व्यापारिक समूह महिंद्रा समूह के चेयरमैन हैं। वह 1991 में महिंद्रा समूह में शामिल हुए और कंपनी को विभिन्न क्षेत्रों में विविधता प्रदान की। 

जानें 09 जरूरी बातों को
  • स्टार्टअप मानसिकता अपनाएं- इसका मतलब है कि कंपनी को जितना संभव हो उतना सरल रखें फीडबैक लूप बनाएं और कंपनी में डेटा और आईडिया को अपनाएं।
  • कार्यबल में महिलाओं की भागीदारी पर ध्यान देना।
  • बदलते समय के साथ चलना यानी सोशल मीडिया आदि पर ध्यान देना, एक्टिव रहना। 
  • ग्राहक के दिमाग में जगह ढूंढना यानी ग्राहक के साथ अच्छी तरह जुड़ना। आनंद महिंद्रा का रुझान ऐसे ब्रांड बनाने के लिए है जो ग्राहक के दिमाग में जगह पाते हैं।
  • अपने असफलताओं पर ध्यान दें- इसमें कहा गया है कि एस्कॉर्ट कार का उत्पादन करने के लिए फोर्ड मोटर्स के साथ महिंद्रा समूह का असफल गठजोड़ हुआ था। इस विफलता ने कंपनी को सबसे सफल गाड़ियों में से एक स्कॉर्पियो का उत्पादन करने के लिए प्रेरित किया।
  • अतीत सिर्फ एक सबक है, जीवनभर की सजा नहीं। 
  • आम लोगों का व्यक्ति बनना।
  • बुरे बिजनेस आइडिया से दूर रहें।
  • भविष्य को फिर से तैयार करना- इसमें कहा गया है कि आनंद महिंद्रा उन शीर्ष वैश्विक सीईओ में से थे, जिन्होंने COVID-19 के बाद अर्थव्यवस्था के पुनर्निर्माण की आवश्यकता पर जोर दिया।

विज्ञापन

खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें शिक्षा समाचार आदि से संबंधित ब्रेकिंग अपडेट।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00