REET 2021: रीट परीक्षा में नकल और पेपर लीक को लेकर 40 गिरफ्तार, छह लाख रुपये की ब्लूटूथ वाली चप्पल जब्त

एजुकेशन डेस्क, अमर उजाला Published by: देवेश शर्मा Updated Mon, 27 Sep 2021 02:23 PM IST

सार

REET Exam 2021: राजस्थान शिक्षक पात्रता परीक्षा (रीट) रविवार को कई अजीबोगरीब घटनाओं का गवाह रही, जिसमें आवेदकों ने परीक्षा के दौरान नकल करने के लिए चप्पलों में ब्लूटूथ डिवाइस लगाने जैसे हाइटेक उपायों का सहारा लिया।
रीट परीक्षा: नकल में इस्तेमाल हुई छह लाख रुपये की ब्लूटूथ वाली चप्पल
रीट परीक्षा: नकल में इस्तेमाल हुई छह लाख रुपये की ब्लूटूथ वाली चप्पल - फोटो : अमर उजाला ग्राफिक्स
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

राजस्थान में शिक्षक भर्ती के लिए अब तक की सबसे बड़ी परीक्षा रीट 2021 रविवार, 26 सितंबर को राज्य भर में आयोजित की गई। राजस्थान शिक्षक पात्रता परीक्षा (रीट) के कारण रविवार को सुबह 6 बजे से शाम 6 बजे तक 12 घंटे इंटरनेट बंद रहने के कारण राज्य के अधिकांश हिस्सों में दैनिक जीवन और ई-व्यवसाय भी प्रभावित हुआ। लेकिन REET Exam 2021 (राजस्थान शिक्षक पात्रता परीक्षा) रविवार को कई अजीबोगरीब घटनाओं की गवाह रही, जिसमें आवेदकों ने परीक्षा के दौरान नकल करने के लिए चप्पलों में ब्लूटूथ डिवाइस लगाने जैसे हाइटेक उपायों का सहारा लिया।
विज्ञापन

 
राजस्थान पुलिस ने कई रीट परीक्षार्थियों की चप्पलों में छिपे ब्लूटूथ डिवाइस को जब्त कर लिया, जबकि दिन भर में 40 लोगों को गिरफ्तार किया गया और दो दर्जन से अधिक से पूछताछ की गई। कुछ ने तो इन ब्लूटूथ फिटेड चप्पलों का उपयोग करने के लिए 6 लाख रुपये तक का भुगतान भी किया था। कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बावजूद, रीट परीक्षार्थियों को परीक्षा देने के लिए अनुचित साधनों का सहारा लेने से नहीं रोका जा सका। अजमेर के किशनगढ़ में एक परीक्षार्थी ब्लूटूथ डिवाइस को अपनी चप्पल में छिपाकर परीक्षा केंद्र तक ले गया।
 

कई जिलों में बंद रखा था इंटरेनट

हालांकि, इससे पहले कि वह परीक्षा में बैठ पाता, पुलिस ने उसे पकड़ लिया और अब गहन जांच कर रही है। अजमेर जिला पुलिस अधीक्षक ने सभी आवेदकों को परीक्षा केंद्रों से 200 मीटर दूर चप्पल उतारने के आदेश जारी किए थे। रविवार को पूरे राजस्थान से ऐसी कई घटनाओं की सूचना मिलने के बाद, धोखाधड़ी को रोकने के लिए अधिकांश जिलों में मोबाइल इंटरनेट सेवाओं को निलंबित करने सहित कड़े सुरक्षा उपाय किए गए थे। 

16.51 लाख उम्मीदवारों ने भाग लिया
राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा आयोजित, परीक्षा 33 जिलों में स्थापित 3,993 केंद्रों पर दो पालियों में आयोजित की गई थी। इसके लिए 16.51 लाख उम्मीदवारों ने अपना नामांकन कराया था। दौसा और जयपुर ग्रामीण में पुलिस ने क्रमश: चार और आठ डमी उम्मीदवारों को गिरफ्तार किया और बीकानेर, अजमेर, प्रतापगढ़, सीकर, भरतपुर और जोधपुर में धोखाधड़ी में शामिल कई गिरोहों का भंडाफोड़ किया। 

बीकानेर में पांच गिरफ्तार

राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा (रीट) - 2021
राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा (रीट) - 2021 - फोटो : अमर उजाला ग्राफिक्स
बीकानेर में शिक्षकों के चयन के लिए परीक्षा में अनुचित साधनों का सहारा लेने के लिए ब्लूटूथ उपकरणों से लैस चप्पल पहने पाए जाने के बाद पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया था। कई अन्य डमी उम्मीदवारों को भी विभिन्न जिलों में गिरफ्तार किया गया था। परीक्षार्थियों को चीटिंग में मदद करने में कथित संलिप्तता के लिए दो हेड कांस्टेबल और एक कांस्टेबल को भी निलंबित कर दिया गया था। दो को प्रतापगढ़ जिले से गिरफ्तार किया गया और उनकी पहचान हनुमान बिश्नोई और मलराम बिश्नोई के रूप में की गई।

सिरोही और सवाई माधोपुर में पुलिसकर्मी निलंबित
सवाई माधोपुर में, दो पुलिस कांस्टेबलों को उनकी पत्नियों के लिए धोखाधड़ी की सुविधा के लिए कथित संलिप्तता के लिए निलंबित कर दिया गया था। दोनों से पूछताछ चल रही है। एसपी राजेश सिंह ने कहा कि दोनों कांस्टेबल को निलंबित कर दिया गया है। हमने उनकी पत्नियों को भी हिरासत में लिया है और उनसे पूछताछ की जा रही है। हमारा ऑपरेशन चल रहा है। सिरोही में एक और कांस्टेबल को सस्पेंड कर दिया गया है।

उम्मीदवारों को छह-छह लाख रुपये की चप्पलें दीं

बीकानेर की पुलिस अधीक्षक प्रीति चंद्रा ने बताया कि गंगाशहर थाना क्षेत्र से पांच लोगों को परीक्षा में नकल करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। उनमें से तीन रीट के इच्छुक थे, जो एक सिम कार्ड से जुड़े एक छोटे कॉलिंग डिवाइस के साथ लगे हुए चप्पल पहने पाए गए थे। उन्होंने कहा कि उम्मीदवारों के कानों में एक छोटा, बमुश्किल दिखाई देने वाला ब्लूटूथ उपकरण पाया गया। गिरफ्तार किए गए लोगों में से दो गिरोह के सदस्य थे जिन्होंने उम्मीदवारों को छह-छह लाख रुपये की चप्पलें दीं। 



चप्पलों में सिम कार्ड और बैटरी भी

आईजी बीकानेर प्रफुल्ल कुमार ने कहा कि एक छोटी बैटरी और एक सिम कार्ड चप्पल के तलवों के नीचे छिपा हुआ था। एक ब्लूटूथ सक्षम माइक्रो-इयरपीस उत्तर सुनने में मदद करने के लिए उम्मीदवारों के कानों में गहराई से लगाया गया था। मामले में एक आरोपी निलंबित सब-इंस्पेक्टर है और हम उसे गिरफ्तार करने के प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि अजमेर और सीकर जिलों में चप्पल की आपूर्ति की गई थी।

ये हैं आरोपी और मास्टरमाइंड
आरोपियों की पहचान मदनलाल, ओम प्रकाश, गोपाल कृष्ण, किरण और त्रिलोक चंद के रूप में हुई है। उनके पास से सिम कार्ड, ब्लूटूथ डिवाइस और अन्य उपकरण बरामद किए गए। पुलिस ने मास्टरमाइंड की पहचान तुलसी राम कलेर के रूप में भी की है, जो बीकानेर में एक कोचिंग सेंटर का मालिक है। पुलिस ने कहा कि राम को पहले भी इसी तरह के धोखाधड़ी के मामलों में गिरफ्तार किया जा चुका है। वह अभी फरार है।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें शिक्षा समाचार आदि से संबंधित ब्रेकिंग अपडेट।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00