लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Bihar ›   Dilkhush Kumar Paddle Rickshaw Driver Founder And CEO Of Rodbez Arya Go Cab Company Know In Details

Success Story: कभी दिल्ली की सड़कों पर रिक्शा खींचने वाला शख्स आज है दो कैब कंपनियों का मालिक

एजुकेशन डेस्क, अमर उजाला Published by: सुभाष कुमार Updated Fri, 07 Oct 2022 03:44 PM IST
सार

दिलखुश ने साल 2016 में अपनी कंपनी AryaGo की स्थापना की। इसके अलावा उन्होंने  RodBez नाम के कैब कंपनी की भी स्थापना की है। आज उनकी कंपनी के नेटवर्क में करीब 4000 कार हैं।

Dilkhush Kumar
Dilkhush Kumar - फोटो : Social Media
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

कभी चपरासी की नौकरी से रिजेक्ट होने वाला, दिल्ली की सड़कों पर रिक्शा खींचने वाला शख्स आज करोड़ों की कैब कंपनी का मालिक है। उसके पास में एक नहीं दो कंपनियां हैं। जी हां, ये कहानी है बिहार के सहरसा जिले के दिलखुश कुमार की। बेहद खराब और गरीबी के हालात में जीवन जीने वाले दिलखुश कुमार की कहानी आज अनेक लोगों की प्रेरणा है। आज दिलखुश खुद ही सैकड़ों लोगों को रोजगार मुहैया करा रहे हैं। आइए इस खबर में जानते हैं दिलखुश की कहानी को...

रिक्शा चलाते थे दिलखुश
दिलखुश ने शुरू में कार की ड्राइवरी करनी चाही थी। उनके पिता भी बिहार में बस ड्राइवर थे। उन्होंने पटना में चपरासी की नौकरी के लिए इंटरव्यू दिया था हालांकि, इसमें वो रिजेक्ट हो गए थे। इसके बाद वह नौकरी के लिए दिल्ली पहुंचे। हालांकि, यहां भी उन्हें विफलता ही हाथ लगी। किसी भी कार के मालिक ने उन्हें अपनी कार चलाने नहीं दी। इसके बाद उन्होंने पैडल वाली रिक्शा चलाने का फैसला किया। 

तबीयत खराब होने पर घर लौटे
रिक्शा चलाने के कुछ ही दिनों बाद दिलखुश की तबीयत बिगड़ने लगी। इसके बाद उनके घर वालों ने उन्हें वापस बुला लिया। इसके बाद उन्होंने पटना में फायरवर्क का काम किया और एक मारुति 800 चलाने की नौकरी भी की। दिलखुश के पिता भी बेहद कम वेतन पाते थे। इस कारण बचपन से ही उनकी पढ़ाई अच्छी नहीं हो सकी। दिलखुश, 12वीं में सेकंड डिविजन और 10वीं में थर्ड डिविजन से पास हुए थे। इसके अलावा 18 साल की ही उम्र में उनकी शादी भी हो गई थी। 

आज दो कंपनियां शुरू कर चुके
दिलखुश ने साल 2016 में अपनी कंपनी AryaGo की स्थापना की। इसके अलावा उन्होंने  RodBez नाम के कैब कंपनी की भी स्थापना की है। आज उनकी कंपनी के नेटवर्क में करीब 4000 कार हैं। इसके माध्यम से वह 500 के करीब लोगों को रोजगार मुहैया करा रहे हैं। 29 साल के दिलखुश आज कईयों की प्रेरणा हैं। 
 
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all Education News in Hindi related to careers and job vacancy news, exam results, exams notifications in Hindi etc. Stay updated with us for all breaking news from Education and more Hindi News.

विज्ञापन
विज्ञापन
Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00