लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Entertainment ›   Bollywood ›   Karthikeya 2 Movie Review in Hindi Amar Ujala Nikhil Siddharth Chandu Modenti Anupam Kher Anupaman

Karthikeya 2 Review: धर्म और आधुनिकता का सटीक सम्मिश्रण, कृष्ण के आकर्षण से सधी कहानी

अमर उजाला ब्यूरो, मुंबई Published by: मेघा चौधरी Updated Sun, 14 Aug 2022 09:41 AM IST
सार

तेलुगू फिल्म 'कार्तिकेय 2' मूल भाषा के साथ ही तमिल, मलयालम, कन्नड़ और हिंदी में रिलीज हो गई है। 'कार्तिकेय 2' साल 2014 में रिलीज हुई फिल्म 'कार्तिकेय' का सीक्वल है। 

कार्तिकेय 2 रिव्यू
कार्तिकेय 2 रिव्यू - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
Movie Review
कार्तिकेय 2
कलाकार
निखिल सिद्धार्थ , अनुपमा परमेश्वरन , श्रीनिवास रेड्डी , विवा वर्मा , आदित्य सेनन और अनुपम खेर
लेखक
चंदू मोंडेती
निर्देशक
चंदू मोंडेती
निर्माता
अभिषेक अग्रवाल और टीजी विश्व प्रसाद
रिलीज डेट
13 अगस्त 2022
रेटिंग
3/5

विस्तार

मौजूदा दौर के हिंदुस्तान की भावनाओं का उफान समझकर उसी के हिसाब से बन रहे दक्षिण भारतीय सिनेमा में भले इन दिनों फिल्में बनाने के बजट को लेकर तगड़ी बहस चल रही हो, लेकिन वहां की फिल्मों की तरफ हिंदी पट्टी के दर्शक अब भी आशा भरी नजरें लगाए रहते हैं।‘बाहुबली’ सीरीज की फिल्मों के बाद 'आरआरआर' की कामयाबी ने अतीत की कहानियों को भारतीय संस्कृति की खुशबू के साथ परोसने का एक नया दौर शुरू किया है और इसी दौर की नई तेलुगू फिल्म है, 'कार्तिकेय 2'। ये फिल्म अपनी मूल भाषा के साथ ही तमिल, मलयालम, कन्नड़ और हिंदी में भी रिलीज हुई है।

कार्तिकेय 2
कार्तिकेय 2 - फोटो : अमर उजाला, मुंबई

सनातन संस्कृति का गौरवशाली इतिहास
कृष्णा इज ट्रुथ यानी कृष्ण ही सत्य है, को फिल्म 'कार्तिकेय 2' ने अपना आधार बनाया है। फिल्म की कहानी डॉक्टर कार्तिक से शुरू होती है जिसे हॉस्पिटल से एक हफ्ते के लिए सस्पेंड कर दिया जाता है तो वह अपनी मां के साथ द्वारकापुरी घूमने आता है। वहां कुछ लोग उसके जान के पीछे पड़ जाते है, लेकिन उसको समझ में नहीं आता है कि क्यों ये लोग उसे मरना चाहते है? तभी उसे द्वारका के एक रहस्य के बारे में पता चलता है जिसकी खोज में वह वृन्दावन से होता हुआ हिमालय पहुंचता है। यहां उसकी मुलाकात धन्वन्तरि से होती है, जो कृष्ण के स्वरूप और उनके कार्यों को बताते है। इस खोज में उसकी मदद करने के लिए कहानी के बाकी किरदार आगे आते हैं। फिल्म 'कार्तिकेय 2' के माध्यम से हिन्दू धर्म की सनातन परंपरा को दिखाया गया है जिसने पश्चिमी सभ्यता को बहुत कुछ दिया है और अब भी दे रही है।

कार्तिकेय 2
कार्तिकेय 2 - फोटो : अमर उजाला, मुंबई

ईष्टदेव के निर्वाण से जुड़ी कथा
'कार्तिकेय 2'  दरअसल साल 2014 में रिलीज हुई फिल्म 'कार्तिकेय' का सीक्वल है। डॉक्टर कार्तिक भगवान कृष्ण का कड़ा हासिल करके आता है और दुनिया को उसके फायदे बताता है कि किस तरह से आगे आने वाली महामारी को उस कड़े से रोका जा सकता है। यहां इस फिल्म की कहानी खत्म होती है और आगे की कहानी का क्लू छोड़ देती है। इससे समझ में आता है कि इस फिल्म का पार्ट 3 भी बनेगा। फिल्म में कृष्ण का किरदार ग्राफिक्स के जरिये पेश किया गया है। फिल्म में कृष्ण को लेकर तमाम खुलासे हैं। हिंदू धर्म की मान्यताओँ के अनुसार अपने ईष्टदेव के अवसान की कहानियां सुनाना, पढ़ना या सुनना वर्जित है। इसी के चलते तुलसीदास लिखित रामचरित मानस का आठवां अध्याय यानी लवकुश कांड नहीं पढ़ा जाता है। फिल्म 'कार्तिकेय 2' कृष्ण के अवसान की कहानी कहने में इन वर्जनाओं को तोड़ती है। 

अनुपम खेर
अनुपम खेर - फोटो : सोशल मीडिया

अनुपम खेर का प्रभावशाली अभिनय
फिल्म 'कार्तिकेय 2' में डॉक्टर कार्तिक की भूमिका में निखिल सिद्धार्थ ने निभाई है। हर सीन में उनकी मेहनत साफ झलकती है। फिल्म में बहुत सारे एक्शन सीन भी है, जिसे उन्होंने बखूबी किया है। फिल्म ‘कश्मीर फाइल्स’ के निर्माताओँ की साझेदारी में बनी इस फिल्म में अनुपम खेर भी अरसे बाद किसी दक्षिण भारतीय फिल्म में दिखे हैं। अपनी चिर परिचित अदाकारी से अनुपम खेर ने फिर अपना प्रभाव फिल्म के कथानक पर छोड़ा है। वह कहानी के कथन में उत्प्रेरक की भूमिका निभाते हैं। मुग्घा के किरदार में अनुपमा परमेश्वरन, सदानंद के किरदार में श्रीनिवास रेड्डी, सुलेमान के किरदार में हर्ष चेमूडु और शांतनु के किरदार में आदित्य मेनन का काम सराहनीय है। फिल्म के बाकी कलाकारों ने भी संतोषजनक काम किया है।    

कार्तिकेय 2
कार्तिकेय 2 - फोटो : अमर उजाला, मुंबई

कहीं चमकी, कहीं चूकी फिल्म
निर्देशक चंदू मोंडेती ने फिल्म 'कार्तिकेय 2' की कहानी भी खुद ही लिखी है। फिल्म का जो विषय उन्होंने चुना है, उसको पूरी तरह से पर्दे पर अच्छे तरीके से पेश करने की कोशिश भी भरपूर की है। इंटरवल के पहले कुछ जगह सीन थोड़े कमजोर लगते है, लेकिन फिल्म की खासियत यह है कि वह अपने विषय से भटके नहीं। इस फिल्म का सबसे मजबूत पक्ष इसकी सिनेमैटोग्राफी है। फिल्म की कहानी जब द्वारकापूरी से वृंदावन होते हुए हिमायल पर पहुंचती तो उस दृश्य को देखते हुए ऐसा महसूस होता है कि दर्शक वाकई हिमालय की खूबसूरत वादियों में पहुंच गए हों। सिनेमैटोग्राफर कार्तिक घट्टामनेनी ने ही इस फिल्म को सम्पादित भी किया है। फिल्म का कमजोर पक्ष है इसका संगीत जो उत्तर भारतीय संवेदनाओं पर खरा नहीं उतरता। फिल्म के स्पेशल इफेक्ट्स ध्यान खींचते हैं।

कार्तिकेय 2
कार्तिकेय 2 - फोटो : social media

देखें कि न देखें
एक घंटे पचास मिनट की फिल्म 'कार्तिकेय 2' में सनातन धर्म को विज्ञान से जोड़कर दिखया गया है। साथ में ये भी बताने की कोशिश की गई है कि आज के युग में भी कृष्ण हमारे लिए कितने उपयोगी है। फिल्म उन्हें एक अच्छे वास्तुशिल्पी और एक बेहतर संगीतकार के तौर पर भी प्रस्तुत करती है। दक्षिण भारतीय सिनेमा में रुचि रखने वालों के लिए य फिल्म 'कार्तिकेय 2' पारिवारिक मनोरंजन का अच्छा माध्यम दिखती है।

विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें मनोरंजन समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। मनोरंजन जगत की अन्य खबरें जैसे बॉलीवुड न्यूज़, लाइव टीवी न्यूज़, लेटेस्ट हॉलीवुड न्यूज़ और मूवी रिव्यु आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00