लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Entertainment ›   Bollywood ›   Sudipto Sen talks about Nadav Lapid statement on The Kashmir Files says Its unethical

The Kashmir Files: कश्मीर फाइल्स पर लापिड के बयान पर सुदीप्तो सेन ने तोड़ी चुप्पी, बोले- पावर का दुरुपयोग हुआ

एंटरटेनमेंट डेस्क, अमर उजाला Published by: ज्योति राघव Updated Sun, 04 Dec 2022 06:02 PM IST
सार

आईएफएफआई के अन्य जूरी सदस्य सुदीप्तो सेन ने एक बार फिर नादव लापिड के बयान पर प्रतिक्रिया दी है।

Sudipto Sen,Nadav Lapid
Sudipto Sen,Nadav Lapid - फोटो : सोशल मीडिया
विज्ञापन

विस्तार

हाल ही में गोवा में आयोजित हुए इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ इंडिया (आईएफएफआई) के समापन दिवस पर इस्राइल के फिल्मकार नादव लापिड का एक बयान खूब चर्चा में रहा। लापिड का यह बयान विवेक अग्निहोत्री की फिल्म 'द कश्मीर फाइल्स' पर था। दरअसल, लापिड ने 'कश्मीर फाइल्स' को प्रोपेगेंडा फिल्म करार दिया। इसके बाद उनके बयान पर खूब हंगामा हुआ। आईएफएफआई के अन्य जूरी सदस्य सुदीप्तो सेन ने भी लापिड के बयान से किनारा किया था। एक बार फिर सुदीप्तो सेन ने लापिड के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए इसे अनैतिक कहा है। 


Aamir Khan: मुफलिसी के दिनों को याद कर रो पड़े आमिर खान, बोले- अब्बाजान को देखकर बहुत तकलीफ होती थी

कश्मीरी पंडितों के नरसंहार को उजागर करने वाली फिल्म 'द कश्मीर फाइल्स' पर नादव लापिड के बयान पर खूब हंगामा हुआ था। बॉलीवुड के मशहूर लेखक और निर्देशक सुदीप्तो सेन ने नादव लापिड के बयान से किनारा करते हुए इसे उनकी निजी राय बताया था। हालांकि, एक बार फिर सुदीप्तो सेन लापिड के बयान पर चर्चा करते नजर आए। इस बार उन्होंने कहा कि निश्चित रूप से किसी एक ही फिल्म पर बात करना, अनैतिक था। उस दिन मंच और पावर का दुरुपयोग हुआ।
Manoj Bajpayee: मनोज बाजपेयी की कोर्टरूम ड्रामा फिल्म की शूटिंग पूरी, खुशी से केक काटकर मनाया जश्न

सुदीप्तो सेन ने कहा, 'किसी एक ही फिल्म के बारे में बात करना कलात्मक रूप से अनैतिक है। फिल्म 'द कश्मीर फाइल्स' हमारे मानदंड पर खरी नहीं उतरी। उस पर चर्चा हुई थी, तभी तो उस फिल्म को अवॉर्ड नहीं मिला। आर्टिस्टिकली वो फिल्म हमारे क्राइटेरिया में नहीं आ रही थी। बाकी जो पांच फिल्म जिन्हें अवॉर्ड मिला वो आ रही थीं, इसलिए उन्हें अवॉर्ड मिला।' सुदीप्तो सेन ने आगे कहा, 'बतौर जज, मेरी जिम्मेदारी उन फिल्मों के बारे में है, जिन्हें अवॉर्ड मिला है। मैं बाकी उन 17 फिल्मों पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहता, जिन्हें अवॉर्ड नहीं मिला। आपको एक फिल्म अच्छी लग सकती है, मुझे वो खराब लग सकती है। लेकिन, ये एक पब्लिक के हिसाब से ओपिनियन है। फिल्म मेकर के हिसाब से ओपिनियन है। लेकिन, जब आप एक जज हैं, जूरी के सदस्य हैं तो एक किसी निश्चित फिल्म के बारे में बात करना अनैतिक है। ऐसा करके जूरी बोर्ड नियमों को तोड़ते हैं।'

सुदीप्तो सेन ने कहा, 'मुझे लगता है उस दिन पावर का दुरुपयोग हुआ है। वो नहीं करना चाहिए था। जूरी मेंबर को जो करना था, कर चुके थे। डायरेक्टर को अपना फैसला दे चुके थे। प्रेस के सामने दे चुके थे। दोबारा किसी फिल्म पर टिप्पणी की जरूरत नहीं थी। उस दिन बहुत अच्छा माहौल था स्टेज पर। हम एक-एक करके फिल्म को अवॉर्ड दे रहे थे। जिन फिल्मों को अवॉर्ड नहीं मिला ऐसी 17 फिल्में थीं। लेकिन, एक फिल्म को उठाकर बात करना सही नहीं था।' 
Most Expensive Outfits: इन सितारों ने फिल्मों में पहने सबसे महंगे कपड़े, कीमत जान नहीं होगा यकीन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें मनोरंजन समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। मनोरंजन जगत की अन्य खबरें जैसे बॉलीवुड न्यूज़, लाइव टीवी न्यूज़, लेटेस्ट हॉलीवुड न्यूज़ और मूवी रिव्यु आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00