लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Entertainment ›   Movie Reviews ›   GoodBye Review Hindi Amitabh Bachchan Neena Gupta rashmika mandanna Vikas Behl Pavel Gulati Ashish Vidyarth

GoodBye Review: अमिताभ बच्चन का बर्थडे पर एडवांस रिटर्न गिफ्ट, विकास बहल से नहीं संभली लीक से इतर कहानी

Virendra Mishra वीरेंद्र मिश्र
Updated Thu, 06 Oct 2022 05:30 PM IST
सार

लेखक, निर्देशक विकास बहल की फिल्म में अमिताभ बच्चन का किरदार 'बागबान' की याद दिलाता है जिसमें अमिताभ बच्चन इसी तरह अपने बच्चों को सख्त अंदाज में सीख देते नजर आए थे। विचार के स्तर पर कहानी रुचिकर लगती है लेकिन लेखन के स्तर पर विकास बहल फिल्म में चूक गए दिखते हैं।

गुडबाय रिव्यू
गुडबाय रिव्यू - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
Movie Review
गुड बाय
कलाकार
अमिताभ बच्चन , रश्मिका मंदाना , नीना गुप्ता , आशीष विद्यार्थी , पावेल गुलाटी और सुनील ग्रोवर आदि
लेखक
विकास बहल
निर्देशक
विकास बहल
निर्माता
सरस्वती एंटरटेनमेंट , एकता कपूर , शोभा कपूर , विकास बहल और विराज सावंत
रिलीज डेट
7 अक्टूबर 2022
रेटिंग
2/5

विस्तार

इंसान की मृत्यु के बाद उसका अंतिम संस्कार उसकी इच्छा के अनुसार किया जाए या हजारों साल से जो रीति रिवाज और परंपराएं चली आ रही है उसके मुताबिक, आज की नई पीढ़ी का इस पर अपना अलग तर्क है और वर्षो से चली आ रही रीति रिवाज और परम्पराओं का अपना अलग मत। लेखक, निर्देशक विकास बहल ने इसी बहस पर अपनी नई फिल्म 'गुडबाय' का निर्माण किया है। फिल्म में अमिताभ बच्चन का किरदार 'बागबान' की याद दिलाता है जिसमें अमिताभ बच्चन इसी तरह अपने बच्चों को सख्त अंदाज में सीख देते नजर आए थे। मंगलवार को 80 साल के होने जा रहे अमिताभ बच्चन की कंपनी सरस्वती एंटरटेनमेंट इस फिल्म की निर्माता भी है।

गुडबाय रिव्यू
गुडबाय रिव्यू - फोटो : अमर उजाला, मुंबई

मित्र से सुनी कहानी पर फिल्म
फिल्म 'गुडबाय' के लेखक निर्देशक विकास बहल ने चार साल पहले बेंगलुरु के अपने एक मित्र से सुना कि उनके पिताजी को मृत्यु का भय नहीं था। वह तो इस बात से खुश थे कि मृत्यु के बाद वह भगवान कृष्ण के पास चले जाएंगे। उन्होंने कहा कि मेरे मरने के बाद तुमको जो भी करना होगा एक ही दिन कर देना। हर साल मेरा श्राद्ध मत करना क्योंकि मैं ठीक उसी तरह से डिस्टर्ब हो जाऊंगा जिस तरह से अगर तुम किसी पार्टी में इंजॉय कर रहे हो और मैं बार बार फोन करूं।’ इसी थीम पर विकास बहल ने 'गुडबाय' बनाई और पिता के बजाय कहानी के केंद्रबिंदु में मां को रख दिया। विचार के स्तर पर कहानी रुचिकर लगती है लेकिन लेखन के स्तर पर विकास बहल फिल्म में चूक गए दिखते हैं।

Vikram Vedha Week 1: ‘विक्रम वेधा’ पहले हफ्ते में ही ढेर, बीते 10 साल में फ्लॉप होने वाली ऋतिक की दूसरी फिल्म

गुडबाय रिव्यू
गुडबाय रिव्यू - फोटो : सोशल मीडिया

रीति रिवाज को लेकर बाप बेटी में टकराव
मृत शरीर को नहलाकर उसके कान और नाक में रुई डाली जाती है। इसके पीछे वैज्ञानिक मान्यता यह है कि मृतक के शरीर के अंदर कोई कीटाणु ना जा सके। पैर के दोनों अंगूठों को बांध दिया जाता है ताकि शरीर की दाहिनी नाड़ी व बाईं नाड़ी के सहयोग से मृत शरीर सूक्ष्म कष्टदायक वायु से मुक्त हो जाए। बेटी को यह सब अंधविश्वास लगता है। उनका मानना है कि मां को यह सब पसंद नहीं था। उसकी अपने पिता से बहस हो जाती है। पिता का कहना है कि हजारों साल से चले आ रहे रीति रिवाज अंधविश्वास कैसे हो सकते हैं? वह अपने बच्चों को डांटते हुए कहते हैं, 'हजारों सालों से ये रीति रिवाज चले आ रहे हैं, अगर तुम्हें उनमें विश्वास नहीं है तो, इसमें दुनिया की गलती नहीं है।' बाद में उन्हें भी एहसास होता है कि उन्होंने यह कभी जानने की कोशिश ही नहीं की कि आखिर में उनकी पत्नी क्या चाहती थी?

Inspirational Story: ‘गुल्लक’ के अन्नू को छोटे भाई ने दिया बड़ा ब्रेक, पढ़िए हरदोई से मुंबई तक की रामकहानी

गुडबाय रिव्यू
गुडबाय रिव्यू - फोटो : अमर उजाला, मुंबई

कहानी के किरदारों का कन्फ्यूजन
इंसान अपनी मौत किस तरह से चाहता है और, मौत के बाद परिवार वाले किस रीति रिवाज से मृतक का दाह संस्कार करते हैँ? रीति रिवाज के वैज्ञानिक कारण क्या हैं? इस विषय के इर्द गिर्द विकास बहल ने फिल्म बनाने की कोशिश की है। लेकिन वह लेखन और निर्देशन दोनों स्तर पर चूक गए हैं। फिल्म के एक सीन में दिखाया गया है कि अमिताभ बच्चन और नीना गुप्ता अनाथालय  में एक सिख बच्चे को गोद लेने जाते है। मां कहती है कि बच्चे पाने का यह तरीका बहुत अच्छा है। इससे फीगर भी ठीक रहता है और बच्चा भी मिल जाता है। लेकिन, पूरी फिल्म में इस बात का कहीं भी जिक्र नहीं है कि दंपती के बाकी तीन बच्चे भी गोद लिए गए हैं या उनकी खुद की संतानें हैं। 

Maja Ma Review: कमजोर किरदार ने तोड़ दिया माधुरी का सारा तिलिस्म, प्रौढ़ वर्ग की पसंद पर बहस से चूकी ‘मजा मा’

गुडबाय रिव्यू
गुडबाय रिव्यू - फोटो : अमर उजाला, मुंबई

अमिताभ बच्चन का दमदार अभिनय
अभिनय के लिहाज से रश्मिका मंदाना को इस फिल्म से बहुत आस रही होगी। फिल्म 'पुष्पा: द राइज' के जरिए पैन इंडिया स्टार बनी रश्मिका मंदाना ने इस फिल्म से हिंदी सिनेमा डेब्यू किया है। लेकिन, एक डेब्यू फिल्म के लिए जैसा किरदार और जैसा अभिनय उनका होना चाहिए था, वैसा असरदार ये किरदार नहीं है। बीती सदी के महानायक कहलाए अमिताभ बच्चन के अभिनय में भी ऐसा कुछ नहीं है जो वह पहले न कर चुके हों। अभिनय उनका शानदार है लेकिन ऐसा ही अभिनय वह पहले भी कर चुके हैं। हां, अस्थि विसर्जन के बाद वाले दृश्य में जरूर वह दर्शकों को रुला देते हैं। फिल्म में बड़े छोटे कलाकारों की भरमार है जिनमें नीना गुप्ता, आशीष विद्यार्थी और सुनील ग्रोवर अपना अपना काम ढंग से निभा जाते हैं। पावेल गुलाटी, एली अवराम और साहिल मेहता का अभिनय भी बस ठीक ठाक सा ही है।

Laal Singh Chaddha: साल 2022 में आमिर की इस हरकत की वजह से शुरू हुआ था #बायकॉट, आज भी जारी है प्रदर्शन

गुडबाय रिव्यू
गुडबाय रिव्यू - फोटो : सोशल मीडिया

तकनीकी रूप से कमजोर फिल्म
कहानी से लेकर निर्देशन, अभिनय और गीत-संगीत के स्तर पर  अंत तक समझ नहीं आता कि आखिर विकास बहल कहना क्या चाहते हैं? बेटी अपनी जीत की खुशी अपनी मां से नहीं शेयर कर पाई, इसका उसे दुख होता है। लेकिन, ये जीत क्या थी, इसका फिल्म में कहीं भी जिक्र नहीं है। फिल्म में कहने को नौ गाने हैं, लेकिन 'जय काल महाकाल' के अलावा ऐसा कोई गीत नहीं, जो आपको याद रह सके। फिल्म की शूटिंग देहरादून और ऋषिकेश में भी की गई है लेकिन यहां की खूबसूरती परदे पर अपने नैसर्गिक रूप में नजर नहीं आती। फिल्म का संपादन भी और चुस्त हो सकता था।

विज्ञापन

खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें Entertainment News से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। मनोरंजन जगत की अन्य खबरें जैसे Bollywood News, लाइव टीवी न्यूज़, लेटेस्ट Hollywood News और Movie Reviews आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00