बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW
विज्ञापन
विज्ञापन
SBI भर्ती 2021: शुरू होने वाली है भारतीय स्टेट बैंक में क्लर्क भर्ती, ऐसे करें तैयारी
Safalta

SBI भर्ती 2021: शुरू होने वाली है भारतीय स्टेट बैंक में क्लर्क भर्ती, ऐसे करें तैयारी

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

क्लैट 2019 : सोशल मीडिया से दूरी बनाकर की तैयारी, पाई 26वीं रैंक, दिए कारगर टिप्स

क्लैट में ऑल इंडिया 26वीं रैंक हासिल करने वाली अदिति सेठ ने सोशल मीडिया से दूरी बनाकर तैयारी की।

16 जून 2019

विज्ञापन
Digital Edition

आरोप: बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट पर महाराष्ट्र सरकार का 'रेड सिग्नल', रेलमंत्री पीयूष गोयल ने बताई देरी की वजह

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट 'बुलेट ट्रेन' में हो रही देरी का ठीकरा महाराष्ट्र सरकार पर फोड़ा है। उन्होंने कहा है कि गुजरात में हाई स्पीड रेल का काम तेजी से चल रहा है, लेकिन महाराष्ट्र में काम ठप है। उन्होंने आरोप लगाया कि देश में हाईस्पीड ट्रेन चलाने का जो सपना है, उसमें महाराष्ट्र सरकार रोड़े अटकाए हुए है। जिस जमीन से हाईस्पीड ट्रेन शुरू होनी है, वह अभी तक रेलवे को नहीं मिली है। यदि वह जमीन ही नहीं मिलेगी तो आगे का काम कैसे होगा।

बुधवार को लोकसभा में महाराष्ट्र के बुलढाणा से सांसद प्रतापराव जाधव और मुंबई दक्षिण से सांसद अरविंद सावंत ने रेल मंत्री से बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट और राज्य की रेलवे परियोजनाओं को लेकर सवाल किए। गोयल ने जवाब दिया कि गुजरात में तेज गति से जमीन अधिग्रहण हुआ, आज 95 फीसदी जमीन का अधिग्रहण हो चुका है, दादरा नगर हवेली में भी अधिग्रहण कर लिया गया है लेकिन महाराष्ट्र में नई सरकार के काम न करने की वजह से केवल 24 फीसदी जमीन ही मिल पाई है और हाई स्पीड रेल का काम वहां आगे नही बढ़ पा रहा है।

रेलमंत्री गोयल ने सदन को बताया कि कुछ लोग झूठ बोलने का काम करते हैं, उनकी मंशा मुझे समझ नहीं आती कि वे विकास के कार्य में भी हमें सहयोग क्यों नहीं करना चाहते हैं। महाराष्ट्र में सहयोग मिले तो हम जल्द से जल्द मुंबई से नागपुर में भी हाईस्पीड ट्रेन लाने के काम को आगे बढ़ा सकेंगे। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र सरकार का सहयोग न मिलने के कारण रेलवे की कई प्रोजेक्ट का काम अटका हुआ है। मेट्रो शेड के लिये पूरा प्रोजेक्ट तैयार है लेकिन राज्य सरकार ने अहंकार के कारण केंद्र सरकार की जमीन हड़पने के लिये कानून बना दिया है। ।

रेलमंत्री गोयल ने प्रधानमंत्री मोदी को धन्यवाद दिया कि उन्होंने उत्तर प्रदेश के पांच आकांक्षात्मक जिलों को जोड़ने वाली लाइन को स्वीकृति दी। इनके विस्तृत सर्वे का काम तेज गति से चल रहा है। 2014 के पहले 40,000-45,000 करोड़ रुपये का जो निवेश औसतन इन्फ्रास्ट्रक्चर और सुरक्षा के लिये होता था, वह इस वर्ष के बजट में पांच गुना बढाकर 2,15,000 करोड़ रुपये कर दिया गया।

पश्चिम बंगाल में एक रेलवे लाइन का काम 1974 से चल रहा है, आज से 47 साल पहले उस लाइन पर काम शुरू हुआ। राज्य सरकार जमीन नहीं दे रही है। अब समय आ गया है कि सभी राज्य सरकारें सहयोग दें, जमीन दें, तो हम जल्द से जल्द प्रोजेक्ट खत्म कर सकें।

गौरतलब है कि मुंबई-अहमदाबाद के बीच 508.17 किमी लंबे बुलेट ट्रेन कॉरिडोर का 155.76 किमी हिस्सा महाराष्ट्र में, 348.04 किमी गुजरात में और 4.3 किमी दादरा एवं नगर हवेली में है। इस परियोजना की लागत राशि 1.1 लाख करोड़ रुपये है।
... और पढ़ें

गुजरात के आणंद में खुदकुशी : मां और बेटे की जहर खाने से मौत, बेटी की हालत गंभीर

गुजरात के आणंद जिले में एक मां ने अपने नाबालिग बेटे व बेटी को जहर देने के बाद खुद भी खा लिया। इससे मां व 12 साल के बेटे की मौत हो गई, जबकि नाबालिग बेटी अस्पताल में भर्ती है और उसकी हालत गंभीर है।
पुलिस ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। पुलिस उप अधीक्षक बीडी जडेजा ने बताया कि टीना प्रकाश शाह (38) ने अपने बेटे मीत और बेटी (15) को बृहस्पतिवार को कथित तौर पर जहर दे दिया और उसके बाद खुद भी जहर पी लिया। उन्होंने कहा कि तीनों को अस्पताल ले जाया गया जहां इलाज के दौरान महिला और लड़के की मौत हो गई। लड़की बच गई। उसका अस्पताल में इलाज चल रहा है। उन्होंने कहा कि संभव है कि महिला ने आर्थिक परेशानियों के कारण ऐसा कदम उठाया। वास्तविक कारण का पता लगाने के लिए मामले में जांच चल रही है।
... और पढ़ें

अहमदाबाद: पोल्ट्री फार्म में बर्ड फ्लू का मामला आया सामने

गुजरात: महिला ने नाइट कर्फ्यू में सड़क पर किया डांस, वायरल वीडियो देख पुलिस ने कसा शिकंजा

देश में बेकाबू हुई कोरोना संक्रमण की रफ्तार पर ब्रेक लगाने के लिए कई तरह की पाबंदियां लगाईं हैं। गुजरात में लगातार बढ़ते संक्रमण पर काबू पाने के लिए नाइट कर्फ्यू  लगाया गया है। नाइट कर्फ्यू के दौरान एक महिला का सड़क पर डांस करने का वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। इसके बाद शहर की पुलिस ने कोरोना नियमों का उल्लंघन करने के लिए महिला पर मामला दर्ज किया है।

गुजरात सरकार ने बिगड़ते हालात को देखते हुए राजकोट समेत राज्य के 20 प्रमुख शहरों में नाइट कर्फ्यू लगा दिया है। कोरोना संक्रमण के बीच लापरवाही का एक मामला सामने आया है। राजकोट की एक युवती ने महिला कॉलेज चौक अंडरब्रिज के पास नाइट कर्फ्यू के दौरान डांस वीडियो बनाया और उसे सोशल मीडिया पर पोस्ट किया। यह वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो गया। इसके बाद पुलिस ने कार्रवाई करते हुए महिला पर कोरोना नियमों का उल्लंघन करने के लिए मामला दर्ज किया है। 

जानकारी के मुताबिक, आरोपी महिला की पहचान पायलबा उर्फ प्रिशा राठौड़ के तौर पर हुई है। महिला इवेंट मैनेजमेंट के बिजनेस से जुड़ी है। युवती ने नाइट कर्फ्यू के दौरान डांस करने का वीडियो 12 अप्रैल को अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर अपलोड किया था। राजकोट के एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि युवती ने नाइट कर्फ्यू के दौरान रात 11 बजे के आसपास महिला कॉलेज अंडरपास के पास डांस वीडियो शूट किया। वीडियो में प्रिशा लाल रंग के टॉप पहने अंग्रेजी गाने पर थिरकती नजर आ रही हैं। वीडियो किसी ऐसे व्यक्ति ने रिकॉर्ड किया गया था, जो उसका परिचित था। हालांकि, बाद में युवती ने वीडियो डिलीट कर दिया।

कानून के डर से युवती ने मांगी माफी
राजकोट पुलिस की ओर से मामला दर्ज किए जाने के बाद युवती ने सोशल मीडिया पर माफी मांगी है। प्रिशा ने कहा, ''मुझे अपनी गलती का एहसास होने के बाद मैंने सोशल मीडिया से अपना वीडियो डिलीट कर दिया, जिसे कुछ लोगों ने वायरल कर दिया था। मैं सभी कोविड नियमों का कड़ाई से पालन करूंगी। साथ ही ऐसी गलती फिर कभी नहीं दोहराऊंगी।''

 
... और पढ़ें
राजकोट में नाइट कर्फ्यू में सड़क पर डांस करती महिला राजकोट में नाइट कर्फ्यू में सड़क पर डांस करती महिला

सरकारी नौकरियां : इस सूबे में स्नातकों के लिए बंपर नौकरियां, आवेदन की अंतिम तिथि भी नजदीक

सरकारी नौकरी चाहने वालों के लिए एक अच्छी खबर है। गुजरात में सरकारी भर्ती निकली है। यहां राज्य सरकार की ओर से समग्र शिक्षा अभियान ने नैदानिक अनुसंधान समन्वयक यानी क्लीनिकल रिसर्च कॉर्डिनेटर शार्ट में कहें तो सीआरसी के पदों पर भर्ती प्रक्रिया शुरू हो गई है। समग्र शिक्षा अभियान (SSA) ने सीआर कॉर्डिनेटर के कई पदों के लिए अधिसूचना जारी कर आवेदन आमंत्रित किए हैं।

गुजरात सरकार के समग्र शिक्षा अभियान भर्ती के तहत इन पदों पर आवेदन ऑनलाइन स्वीकार किए जाएंगे। आवेदन के इच्छुक एवं योग्य उम्मीदवार समग्र शिक्षा अभियान की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन आवेदन कर सकते है। आवेदन करने की अंतिम तिथि नजदीक आ गई है। कुल पदों की संख्या 250 है। 
... और पढ़ें

इंजेक्शन की किल्लत: देश के कई राज्यों में क्यों है रेमडेसिविर की कमी? जानिए यहां

देश में प्रतिदिन बढ़ रहे कोविड-19 संक्रमण के मामलों के बीच, अब महाराष्ट्र, दिल्ली, गुजरात, छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश से एंटी-वायरल रेमडेसिविर की किल्लत की खबरें सामने आने लगी हैं। रविवार को वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के अधीन विदेश व्यापार निदेशालय ने आदेश जारी कर रेमडेसिविर और इसके उत्पादन में उपयोग की जाने वाली दवा सामग्री (एपीआई) के निर्यात पर रोक लगा दी है। यह प्रतिबंध अगले आदेश तक जारी रहेगा। 
गंभीर मरीजों पर रेमडेसिविर का कम प्रभाव
रेमडेसिविर एक एंटी-वायरल इंजेक्शन है। इसका काम वायरस की प्रतिकृति को रोकना है। इसका निर्माण 2014 में इबोला के इलाज के लिए किया गया था, और तब से इसका उपयोग सार्स (SARS) और मर्स (MERS) के इलाज के लिए किया जाने लगा। अब वर्ष 2020 में कोविड-19 के उपचार के लिए इसे पुनर्निर्मित किया गया था। अभी तक के उपयोग में रेमडेसिविर का सबसे ज्यादा असर कोविड-19 के हल्के लक्षणों और अस्पतालों में शुरुआती दौर में भर्ती होने वाले मरीजों पर देखा गया है। वहीं देर से भर्ती होने वाले मरीजों में इसका बहुत कम प्रभाव होता है।

महाराष्ट्र को प्रतिदिन 40 से 50 हजार रेमडेसिविर की जरूरत
खाद्य और औषधि निरीक्षक सांसद शोभित कोस्टा बताते हैं कि भारत में कुल मरीजों में से 11 लाख सक्रिय मरीज केवल महाराष्ट्र में हैं, जिन्हें अब रोजाना 40,000-50,000 रेमडेसिविर की जरूरत पड़ने वाली है, जबकि पिछले साल प्रतिदिन अधिकतम 30,000 रेमडेसिविर की आवश्यकता पड़ी थी। रेमडेसिविर की इतनी मांग का मुख्य कारण, लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मामलें और मैन्युफैक्चरिंग व सप्लाई में आनी वाली समस्याएं हैं। रेमडेसिविर के कुल उत्पादन का लगभग 70% महाराष्ट्र की ओर मोड़ दिया जाता है। शेष 30% अन्य राज्यों को वितरित किया जाता है। यदि हमें 7,000 शीशियों की आवश्यकता है, तो हमें केवल 1,500-2,000 शीशियां ही मिलती हैं।

... और पढ़ें

सरकारी भर्ती : समग्र शिक्षा अभियान के तहत स्नातकों के लिए यहां निकलीं बंपर नौकरियां

प्रतीकात्मक तस्वीर
सरकारी नौकरी चाहने वालों के लिए एक अच्छी खबर है। गुजरात में सरकारी भर्ती निकली है। यहां राज्य सरकार की ओर से समग्र शिक्षा अभियान ने नैदानिक अनुसंधान समन्वयक यानी क्लीनिकल रिसर्च कॉर्डिनेटर शार्ट में कहें तो सीआरसी के पदों पर भर्ती प्रक्रिया शुरू हो गई है। समग्र शिक्षा अभियान (SSA) ने सीआर कॉर्डिनेटर के कई पदों के लिए अधिसूचना जारी कर आवेदन आमंत्रित किए हैं।

गुजरात सरकार के समग्र शिक्षा अभियान भर्ती के तहत इन पदों पर आवेदन ऑनलाइन स्वीकार किए जाएंगे। आवेदन के इच्छुक एवं योग्य उम्मीदवार समग्र शिक्षा अभियान की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन आवेदन कर सकते है। आवेदन करने की अंतिम तिथि 15, अप्रैल, 2021 है। कुल पदों की संख्या 250 है। 
 
... और पढ़ें

गुजरात के वडोदरा में जुड़वां नवजात बच्चे मिले कोरोना संक्रमित, अभी हालत स्थिर

शक: 71 साल की पत्नी ने की पति की हत्या, जानिए क्या है पूरा माजरा?

गुजरात के सूरत शहर में दिल दहला देने वाली खबर सामने आई है। गुजरात के वलसाड शहर में शक के आधार पर एक पत्नी ने अपने पति की हत्या कर दी। बताया जा रहा है कि पति को अपनी पत्नी पर किसी के साथ संबंध होने का शक था। इसी को लेकर दोनों के बीच आए दिन विवाद हो रहे थे। सोमवार की रात में दोनों के बीच इसी बात को लेकर कहासुनी हुई जिसपर पत्नी ने पति को लकड़ी के डंडे से हमला किया पति वहीं पर गिर गया । फिलहाल पुलिस ने आरोपी महिला को गिरफ्तार कर पूछताछ शुरू कर दी है। 
आए दिन आपस में लड़ते थे दंपती 
महिला का भतीजा ने पुलिस को बताया कि ये दोनों आए दिन आपस में छोटी-छोटी बातों को लेकर लड़ते थे। होली के दिन चाची यानी लक्षमी पटेल मंदिर गई थी। जब वह घर लौटी तो उसके पति ने उसपर किसी आदमी से मिलने का आरोप लगाते हुए गालीगलौज शुरू कर दी। साथ ही मृतक ने महिला पर कांच की बोतल से मारने की कोशिश की। हालांकि लक्ष्मी अपनी जान बचाते हुए लकड़ी के मोटे डंडे से उसपर हमला किया जिससे मौके पर ही उसकी मौत हो गई। 
... और पढ़ें

कोरोना का कहर : कई राज्यों में स्कूल-कॉलेज फिर से बंद, जानिए- कहां और कब तक बंद रहेंगे?

देशभर में एक बार फिर वैश्विक संक्रामक महामारी कोरोना वायरस के मामलों में लगातार बढ़ोतरी देखी जा रही है। कई राज्यों में हाल ही में संक्रमण के बेतहाशा बढ़े हैं। इसका कारण चाहे अब लॉकडाउन के दौरान जैसी सख्ती न होना हो या लोगों की मास्क न लगाने की आदत को लापरवाही कहा जाए है। लेकिन कोरोना के बढ़ते मामलों ने एक बार फिर कई राज्यों में स्कूल, कॉलेज, विश्वविद्यालयों समेत तमाम शिक्षा संस्थानों को बंद किए जाने की स्थिति में पहुंचा दिया है। 
हाल ही में उत्तर प्रदेश, पंजाब, मध्य प्रदेश, तमिलनाडु, तेलंगाना और पुडुचेरी सहित कई राज्यों में सरकारों ने फिर से सख्ती बढ़ाई है और कोरोना संक्रमण के नए मामलों को काबू करने के लिए स्कूल और कॉलेज बंद करने जैसे कई अहम कदम उठाए हैं। ऐसे ही हालात केंद्र शासित प्रदेशों में भी हैं। यहां भी स्थानीय प्रशासन की ओर से स्कूल और कॉलेज बंद रखने के निर्देश दिए गए हैं।
स्कूल-कॉलेज बंद करने वाले राज्यों में उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, गुजरात, पंजाब, हिमाचल प्रदेश, पुडुचेरी, तेलंगाना और तमिलनाडु शामिल हैं। गौरतलब है कि पिछले साल यानी मार्च 2020 में, सभी राज्यों में कोविड-19 के कारण घोषित राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के तहत, भौतिक कक्षाओं और शिक्षण संस्थानों को बंद कर दिया गया था।
अधिकांश राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में फरवरी महीने से शिक्षण संस्थानों को खोलना शुरू किया था, लेकिन अब फिर से बंद करना पड़ गया है। जबकि कई राज्यों में स्कूल और बोर्ड कक्षाओं की परीक्षाएं रद्द कर दी थीं। आइए जानते हैं किस राज्य में क्या-क्या और कब तक बंद रहेंगे ...




 
... और पढ़ें

गुजरात:  अमरेली में महिला ने की बेटे की हत्या, मानसिक रूप से बीमार बहन को कर रहा था तंग

गुजरात के अमरेली जिले के खेड़ा गांव में एक महिला ने अपने 30 वर्षीय बेटे की कथित रूप से हत्या कर दी जो मानसिक रूप से बीमार बहन को परेशान कर रहा था। पिपावाव थाने के एक अधिकारी ने सोमवार को बताया कि सावजी शियाल को उसकी मां दुधीबेन और मुन्ना बरैया नाम के पड़ोसी ने रविवार देर रात डंडे से पीटा जिससे उसकी मौत हो गई।

सावरकुंडला के पुलिस उपाधीक्षक के जे चौधरी ने बताया, चार बच्चों का पिता शियाल मानसिक रूप से बीमार अपनी 22 वर्षीय बहन को परेशान कर रहा था। दुधीबेन ने शियाल को शांत करने के लिए अपने पड़ोसी मुन्ना को बुलाया।

जब सारे प्रयास नाकाम हो गए तो दोनों ने उसे डंडे से पीटा। जब उसकी मौत हो गई तो वे उसके शव को घर पर छोड़कर भाग गए। उन्होंने बताया कि शियाल की पत्नी की शिकायत पर दुधीबेन और मुन्ना के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया गया है और उन्हें पकड़ने की कोशिशें की जा रही हैं।
... और पढ़ें

सरकारी नौकरी : इस सूबे में निकली हैं टैक्स इंस्पेक्टर के पदों पर बंपर भर्ती, जल्दी करें आवेदन

सरकारी नौकरी के लिए बाट जोह रहे युवा ध्यान दें। अगर आप समय रहते हुए उचित कदम उठाकर यहां बताई जा रही सरकारी भर्तियों के लिए आवेदन कर दें तो संभव है कि आपके इंतजार की घड़ियां समाप्त हो जाएं। केंद्र और राज्य सरकारों की ओर से कई पदों पर सरकारी भर्तियां निकाली गईं हैं।

इसी क्रम में गुजरात ने भी कई पदों पर नौकरियां निकली हैं। हाल ही में गुजरात लोक सेवा आयोग यानी जीपीएससी ने स्टेट टैक्स इंस्पेक्टर (क्लास-3) के पदों पर आवेदन आमंत्रित किए हैं। साथ ही इन पदों पर भर्ती के लिए आधिकारिक अधिसूचना भी जारी कर दी गई है। 

गुजरात लोक सेवा आयोग यानी जीपीएससी ने योग्य उम्मीदवारों से तीसरी श्रेणी के स्टेट टैक्स इंस्पेक्टर के 243 पदों पर आवेदन मंगवाए हैं। भर्ती के लिए जारी अधिसूचना के तहत स्टेट टैक्स इंस्पेक्टर के पद पर आवेदन के योग्य एवं इच्छुक उम्मीदवार
जीपीएससी की आधिकारिक वेबसाइट पर विजिट कर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। आपको बता दें कि स्टेट टैक्स इंस्पेक्टर के 243 पदों के लिए आवेदन की अंतिम तिथि 31 मार्च, 2021 है। 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X