विज्ञापन
विज्ञापन
गंभीर से गंभीर परेशानी होगी दूर,ललिता देवी शक्तिपीठ-नैमिषारण्य पर कराएं ललिता सहस्रनाम पाठ, मात्र रु:51/- में,अभी बुक करें
Myjyotish

गंभीर से गंभीर परेशानी होगी दूर,ललिता देवी शक्तिपीठ-नैमिषारण्य पर कराएं ललिता सहस्रनाम पाठ, मात्र रु:51/- में,अभी बुक करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

क्लैट 2019 : सोशल मीडिया से दूरी बनाकर की तैयारी, पाई 26वीं रैंक, दिए कारगर टिप्स

क्लैट में ऑल इंडिया 26वीं रैंक हासिल करने वाली अदिति सेठ ने सोशल मीडिया से दूरी बनाकर तैयारी की।

16 जून 2019

Digital Edition

गुजरात: बार-बार क्यों चूक जाते हैं नितिन पटेल? मोदी ने बनाई नए नेताओं की खेप तैयार करने की रणनीति

गुजरात की मुख्यमंत्री आनंदी बेन पटेल के मुख्यमंत्री पद से हटने के बाद इस पद के सबसे प्रबल दावेदार उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल थे। लेकिन ताज सजा केंद्रीय गृहमंत्री और तत्कालीन भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की खास पसंद विजय रूपाणी के सिर। पांच साल गुजर गए। विजय रूपाणी ने अचानक इस्तीफा दिया। भाजपा मुख्यालय के सूत्र बताते हैं कि रूपाणी को इस्तीफा देने के लिए प्रधानमंत्री और गृहमंत्री ने कहा। रूपाणी ने बात मान ली और इस्तीफा देने की घोषणा कर दी। एक बार फिर नितिन पटेल के पास संभावना आई थी, लेकिन इस बार फिसलकर उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल के करीबी और पहली बार के विधायक भूपेन्द्र पटेल के पास चली गई।

नितिन पटेल के हिस्से में एक बार फिर भाजपा के सिपाही की तरह पार्टी की सेवा और जिम्मेदारियों के निर्वहन का विकल्प बचा है। गुजरात भाजपा के एक पूर्व वरिष्ठ नेता कहते हैं कि आप समय से पहले और भाग्य से ज्यादा कुछ नहीं पा सकते। वहीं गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के पहले कार्यकाल में उनके साथ काम कर चुके सूत्र का कहना है कि प्रधानमंत्री जनसेवक हैं। उन्हें पता होता है कि दूसरे जन सेवक और जन नेता के साथ कैसा व्यवहार जरूरी है। वह हमेशा नए दृष्टिकोण वाले नेताओं और लोगों को प्रोत्साहित करते हैं।

केंद्र में भी मोदी का गणित ऐसे ही चलता है

प्रधानमंत्री मोदी सक्रिय राजनीति में एक आयु सीमा को लागू करने के प्रस्ताव को लेकर आए। वह प्रस्ताव लेकर नहीं आए, बल्कि एक दो अपवाद को छोड़कर इसे दृढ़ता से लागू भी किया। हालांकि इस विषय पर भाजपा के नेता चर्चा नहीं करना चाहते, लेकिन राजनीति को जानने समझने वालों को भाजपा के मार्गदर्शक मंडल के दो वरिष्ठ नेताओं का राजनीतिक सन्यास याद करना चाहिए। डा. मुरली मनोहर जोशी की कुछ स्तर पर नाराजगी भी। राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र समेत कई नेताओं का केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा भी। प्रधानमंत्री ने हाल के अपने मंत्रिमंडल विस्तार में भी कई विश्वसनीय माने जाने वाले सहयोगियों को केंद्रीय मंत्रिमंडल से संगठन की तरफ का रास्ता दिखाया। इसमें प्रकाश जावड़ेकर, रविशंकर प्रसाद, रमेश पोखरियाल निशंक, डा. हर्षवर्धन के मंत्रिमंडल से इस्तीफे ने सबको चौंकाया। प्रधानमंत्री के प्रिय थावर चंद गहलोत की मंत्रिमंडल से छुट्टी और कर्नाटक का राज्यपाल बनाना। अश्विन वैष्णव को रेलमंत्री और दूर संचार मंत्री, अनुराग ठाकुर को केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री, मनसुख मंडाविया को केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय जैसा प्रभार देकर संदेश देने की कोशिश की।

'भाग्य' ने नहीं दिया नितिन पटेल का साथ?

इस बारे में कोई स्पष्ट खुलकर नहीं बोलना चाहता। समझा जाता है कि प्रधानमंत्री की सहमति के बिना भूपेंद्र पटेल का नाम तय नहीं हुआ है। लेकिन राजनीति के गलियारे में दो चर्चा जोर पकड़ रही है। पहली यह कि शांत, सौम्य भूपेंद्र पटेल पाटीदार समाज को साध सकते हैं। दूसरा यह कि भाजपा को गुजरात की राजनीति में एक संतुलन बनाना है। इसमें नितिन पटेल का नाम कुछ कारणों से फिट नहीं बैठ रहा था। वह अंदरूनी राजनीति का भी शिकार बन रहे थे। दबी जुबान से एक चर्चा यह भी है कि केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने भावी राजनीति और चुनौतियों को ध्यान में रखकर अपनी सलाह दी है। प्रधानमंत्री के बारे में आम है कि वह संबंधित लोगों की सलाह लेकर ही अपना मन बनाते हैं, लेकिन आखिरी निर्णय की जानकारी कम लोगों को होती है। इसलिए निष्कर्ष पर पहुंचने के पहले भेद खुलना मुश्किल होता है।
... और पढ़ें

जानिए कौन हैं भूपेंद्र पटेल, 2017 में चुनावों में हासिल की थी रिकॉर्ड जीत

भूपेंद्र पटेल होंगे गुजरात के नए सीएम, भाजपा विधायक दल की बैठक में लिया गया फैसला

Police Constable Recruitment 2021: इस सूबे में 10 हजार से ज्यादा पदों पर होगी लोकरक्षकों की भर्ती, यहां पढ़ें विस्तार से

सरकारी नौकरी का सपना देखने वाले उम्मीदवारों के लिए गुजरात लोकरक्षक भर्ती बोर्ड (एलआरबी) ने बड़ी सौगात दी है। गुजरात पुलिस में बड़े स्तर पर भर्ती जारी की गई है। गुजरात लोकरक्षक भर्ती बोर्ड ने गुजरात पुलिस विभाग में कांस्टेबल भर्ती के लिए 10,459 रिक्तियां जारी की है। यह भर्ती अनआर्म्ड पुलिस कांस्टेबल, आर्म्ड पुलिस कांस्टेबल और एसआरपीएफ कांस्टेबल के पदों के लिए जारी की गई है। 

गुजरात लोकरक्षक भर्ती बोर्ड (एलआरबी) ने कांस्टेबल भर्ती के पदों पर भर्ती के लिए ऑनलाइन आवेदन की लिंक भी शुरू कर दी है। यह लिंक आधिकारिक वेबसाइट
ojas.gujarat.gov.in पर उपलब्ध है। योग्य और इच्छुक उम्मीदवार आखिरी तारीख से पहले आवेदन कर दें। गुजरात पुलिस कांस्टेबल भर्ती 2021 के लिए आवेदन करने की आखिरी तारीख 9 नवंबर 2021 है। उम्मीदवारों को आवेदन करते समय 100 रुपए शुल्क भी भरने होंगे। 

उम्मीदवारों को सलाह दी जाती है कि गुजरात पुलिस कांस्टेबल भर्ती 2021 में आवेदन करने से पहले आधिकारिक नोटिफिकेशन और उसमें दिए गए निर्देशों को अच्छी तरह से पढ़ लें।

गुजरात पुलिस कांस्टेबल भर्ती 2021 की महत्वपूर्ण तिथियां
... और पढ़ें
Gujrat Police Constable Recruitment 2021 Gujrat Police Constable Recruitment 2021

Gujarat Police Recruitment 2021 : गुजरात पुलिस में हो रही है 1382 पदों पर भर्ती, जल्दी आवेदन करें 

पुलिस भर्ती की तैयारी कर रहे उम्मीदवारों के लिए अच्छी खबर है। गुजरात पुलिस विभाग में पुलिस सब-इंस्पेक्टर (पीएसआई), आर्म्ड सब-इंस्पेक्टर (एएसआई) और इंटेलिजेंस ऑफिसर के लिए 1382 पदों पर भर्ती की प्रक्रिया चालू है। जिन उम्मीदवारों ने अब तक इस भर्ती के लिए आवेदन नहीं किया है, वह गुजरात राज्य के सरकारी भर्ती के पोर्टल ojas.gujarat.gov.in पर जाकर आवेदन कर सकते हैं। 

इस पोर्टल पर उम्मीदवारों को ऑनलाइन आवेदन फॉर्म उपलब्ध कराए जा रहे हैं, इस फॉर्म के माध्यम से वह गुजरात पुलिस भर्ती के लिए आवेदन कर सकते हैं। उम्मीदवार ध्यान दें कि पीएसआई, एएसआई और इंटेलीजेंस ऑफिसर की इस भर्ती के लिए आवेदन की अंतिम तारीख 27 अक्तूबर 2021 है। भर्ती के लिए आवेदन प्रक्रिया की शुरुआत 5 अक्तूबर 2021 को की गई थी। योग्य उम्मीदवारों का चयन फिजिकल टेस्ट, प्रारंभिक परीक्षा और मुख्य परीक्षा के माध्यम से होगा

गुजरात पुलिस भर्ती में सीटों की संख्या

पुलिस सब इंस्पेक्टर (पुरुष)- 202
पुलिस सब इंस्पेक्टर (महिला)- 98
आर्म्ड पुलिस सब इंस्पेक्टर (पुरुष)- 72
इंटेलिजेंस ऑफिसर (पुरुष)- 09
एएसआई (पुरुष)- 659
एएसआई (महिला)- 324

जानें भर्ती के लिए क्या है जरूरी योग्यता
गुजरात पुलिस विभाग के द्वारा जारी की गई भर्ती की अधिसूचना के अनुसार आवेदन करने वाले उम्मीदवारों के पास किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से किसी भी विषय में स्नातक की डिग्री होनी चाहिए। उम्मीदवारों की आयु 21 से 35 वर्ष के बीच होनी चाहिए। राज्य में आरक्षित वर्ग के उम्मीदवारों को आयु सीमा में छूट दी गई है। 

इस भर्ती में उम्मीदवारों के लिए शारीरिक मापदंडों को भी पूरा करना होगा। उम्मीदवारों की निर्धारित लंबाई 164 सेंटीमीटर से कम नहीं होनी चाहिए। शारीरिक मापदंडों में आरक्षित वर्ग के साथ -साथ महिला उम्मीदवारों को छूट प्रदान की गई है।

शारीरिक मापदंड

पुरुष (सामान्य वर्ग)
लंबाई- 164 सेंटीमीटर
वजन- 50 किग्रा
सीना बिना फुलाए- 79 सेंमी
सीना फुलाने के बाद- 84 सेंमी

पुरुष (आरक्षित वर्ग)
लंबाई- 162 सेंटीमीटर
वजन- 50 किग्रा
सीना बिना फुलाए- 79 सेंमी
सीना फुलाने के बाद- 84 सेंमी

महिला(सामान्य वर्ग)
लंबाई- 158 सेंटीमीटर
वजन- 40 किग्रा

महिला(आरक्षित वर्ग)
लंबाई- 156 सेंटीमीटर
वजन- 40 किग्रा
... और पढ़ें

राहत : कोरोना काल में गुजरात सरकार का बड़ा फैसला, सरकारी नौकरियों के लिए ऊपरी आयु सीमा में मिलेगी एक वर्ष की छूट

कोरोना वायरस महामारी के कारण नौकरी गंवाने और नौकरी ढ़ूंढ़ने वालों को गुजरात सरकार ने बड़ी राहत दी है। गुजरात सरकार ने कोविड-19 लॉकडाउन से हुए एक साल के नुकसान की भरपाई के लिए, गुजरात सरकार ने बुधवार को विभिन्न रिक्तियों के लिए आगामी भर्ती में ऊपरी आयु सीमा में एक वर्ष की छूट प्रदान करने का निर्णय किया है। एक आधिकारिक विज्ञप्ति में कहा गया है कि मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने कैबिनेट बैठक के दौरान इस तथ्य के मद्देनजर निर्णय लिया था कि सरकारी नौकरियों में भर्ती लगभग एक साल तक नहीं हो सकती थी। आगामी भर्ती प्रक्रिया में अधिक से अधिक युवाओं को भाग लेने की अनुमति देने के लिए, मुख्यमंत्री ने ऊपरी आयु सीमा बढ़ाने का फैसला किया है, यह कहते हुए कि छूट 01 सितंबर, 2021 से 31 अगस्त, 2022 तक प्रभावी रहेगी। 

इसके साथ ही न्यूनतम योग्यता के रूप में स्नातक के साथ नौकरियों के लिए आवेदन करने वाले सामान्य वर्ग के पुरुष उम्मीदवारों की आयु सीमा 35 वर्ष से बढ़ाकर 36 वर्ष कर दी गई है। इसी तरह जिन नौकरियों के लिए न्यूनतम योग्यता के रूप में स्नातक की आवश्यकता नहीं है, उनके लिए आयु सीमा 33 वर्ष से बढ़ाकर 34 वर्ष कर दी गई है। न्यूनतम योग्यता के रूप में स्नातक होने वाली नौकरियों के लिए आवेदन करने वाले आरक्षित वर्ग के पुरुष उम्मीदवारों की आयु सीमा 40 वर्ष से बढ़ाकर 41 वर्ष कर दी गई है। जिन नौकरियों के लिए न्यूनतम योग्यता के रूप में स्नातक की आवश्यकता नहीं है, उनके लिए आरक्षित श्रेणी के पुरुषों की आयु सीमा 38 वर्ष से बढ़ाकर 39 वर्ष कर दी गई है।

सामान्य वर्ग की महिलाओं के लिए, नौकरी के मामले में आयु सीमा 40 वर्ष से बढ़ाकर 41 वर्ष कर दी गई है, जिसमें स्नातक होना आवश्यक है। विज्ञप्ति में कहा गया है कि जिन नौकरियों के लिए न्यूनतम योग्यता के रूप में स्नातक की आवश्यकता नहीं है, सामान्य श्रेणी की महिलाओं के लिए यह सीमा 38 से बढ़ाकर 39 वर्ष कर दी गई है। विशेष रूप से, न्यूनतम योग्यता के रूप में स्नातक होने वाली नौकरियों के लिए आवेदन करने वाली आरक्षित श्रेणियों की महिला उम्मीदवारों की आयु सीमा वर्तमान में 45 वर्ष है और यह यथावत रहेगी। हालांकि, उन नौकरियों के लिए जिन्हें न्यूनतम योग्यता के रूप में स्नातक की आवश्यकता नहीं है, आरक्षित श्रेणी की महिला उम्मीदवारों के लिए आयु सीमा 43 वर्ष से बढ़ाकर 44 वर्ष कर दी गई है।
... और पढ़ें

गुजरात : गृह राज्य मंत्री हर्ष संघवी ने कहा- जो व्यक्ति ड्रग्स की जानकारी देगा और उसे नकद इनाम दिया जाएगा

गुजरात सरकार बुधवार को नशीली दवाओं के खतरे को रोकने के लिए एक इनाम योजना लेकर आई है। गृह राज्य मंत्री हर्ष संघवी ने कहा, इस योजना के तहत चाहे वह सरकारी अधिकारी हो या निजी व्यक्ति, को प्रतिबंधित नशीले पदार्थों के संबंध में जब्त मूल्य का 20 प्रतिशत तक नकद राशि दी जाएगी। 
 
राज्य सरकार द्वारा यह कदम ऐसे समय में उठाया गया है जब गुजरात अपनी लंबी तटरेखा के कारण अफगानिस्तान, पाकिस्तान और ईरान से तस्करी की जाने वाली दवाओं जैसे- ड्रग्स, हेरोइन, गांजा, चरस आदी  के लिए प्रवेश बिंदु के रूप में उभरा है।
 
पिछले महीने कच्छ जिले के मुंद्रा बंदरगाह से करीब 21,000 करोड़ रुपये की 2,988.21 किलोग्राम हेरोइन जब्त की गई थी। हमें ड्रग सप्लायर्स और पेडलर्स के नेटवर्क को खत्म करना होगा वरना यह कमजोर युवाओं को बर्बाद कर सकता है। गृह राज्य मंत्री हर्ष संघवी ने मीडिया से कहा कि यह योजना कुछ समय से चर्चा में थी और राज्य सरकार ने बुधवार को इसे लागू करने का फैसला किया।
 
उन्होंने कहा कि जिन व्यक्तियों द्वारा नशीले पदार्थ जब्त किए गए हैं, चाहे वह किसी भी सरकारी विभाग से हो या जनता से हों, एनडीपीएस अधिनियम के तहत सूचीबद्ध जब्त दवाओं के मूल्य का 20 प्रतिशत तक इनाम होगा। संघवी ने कहा कि इनाम की राशि अनुग्रह राशि के रूप में दी जाएगी और सक्षम राज्य अधिकारियों द्वारा तय की जाएगी।

गृह राज्य मंत्री हर्ष संघवी ने कहा कि सरकारी सेवकों के लिए, उनके पूरे सेवा कार्यकाल के दौरान इस पुरस्कार की ऊपरी सीमा 20 लाख रुपये होगी, जबकि एक मामले में व्यक्तिगत कर्मियों या अधिकारी को अधिकतम 2 लाख रुपये का भुगतान किया जा सकता है।

सरकारी कर्मचारियों को पुरस्कृत नहीं किया जाएगा यदि उन्होंने अपने कर्तव्यों के हिस्से के रूप में प्रतिबंधित जब्ती में भूमिका निभाई है। इस योजना के नियमों के अनुसार अतिरिक्त जोखिम उठाने वालों को ही इनाम दिया जाएगा।

नशा हमारे समाज को कमजोर कर रहा है और करेगा। इसलिए युवाओं का इससे दूर रहना जरूरी है। यह नशीली दवाएं एक अस्थायी उच्च भावना दे सकती हैं लेकिन लंबे समय में यह हमारे शरीर को अपरिवर्तनीय क्षति पहुंचाती हैं। उन्होंने कहा कि ड्रग्स कहां बेचा जा रहा है, यदि किसी युवा को पता है चले तो उसे पुलिस और राज्य के गृह विभाग को सूचित करना चाहिए।
... और पढ़ें

ICSI CS Result: कल जारी होंगे आईसीएसआई सीएस जून 2021 की परीक्षाओं के परिणाम, इन आसान स्टेप्स से देख सकेंगे रिजल्ट

गुजरात गृह राज्य मंत्री हर्ष संघवी
इंस्टीट्यूट ऑफ कंपनी सेक्रेटरीज ऑफ इंडिया (आईसीएसआई) बुधवार, 13 अक्तूबर, 2021 को सीएस प्रोफेशनल, सीएस एग्जीक्यूटिव (ओल्ड और न्यू प्रोग्राम) और सीएस फाउंडेशन पाठ्यक्रम का परीक्षा परिणाम घोषित करेगा। आईसीएसआई सीएस परिणाम जून 2021 की परीक्षा के लिए आईसीएसआई की आधिकारिक वेबसाइट https://www.icsi.edu/ पर उपलब्ध कराया जाएगा। उम्मीदवार जो कंपनी सचिव के लिए ऑनलाइन परीक्षा के लिए उपस्थित हुए थे, उन्हें कंपनी सचिव फाउंडेशन, कंपनी सचिव व्यावसायिक और कंपनी सचिव कार्यकारी परीक्षा परिणाम तक पहुंचने के लिए अपने लॉगिन विवरण का उपयोग करना होगा। ICSI CS परिणाम में उम्मीदवार के अंकों के खंड-वार विवरण को दर्शाने वाला एक स्कोर कार्ड होगा।

आधिकारिक वेबसाइट पर कहा गया है कि सीएस प्रोफेशनल, सीएस एग्जीक्यूटिव (ओल्ड और न्यू प्रोग्राम) और सीएस फाउंडेशन पाठ्यक्रम की जून 2021 परीक्षा सत्र का परिणाम निम्नलिखित समय पर जारी किया जाएगा - 

परिणाम जून - 2021 सत्र
  • सीएस प्रोफेशनल - 13 अक्तूबर, 2021 को पूर्वाह्न 11:00 बजे घोषित किया जाएगा।
  • सीएस एग्जीक्यूटिव - 13 अक्तूबर, 2021 को दोपहर 2:00 बजे घोषित किया जाएगा।
  • सीएस फाउंडेशन - 13 अक्तूबर, 2021 को शाम 4:00 बजे घोषित किया जाएगा।

ICSI CS परिणाम 2021 डाउनलोड करने के चरण
  • उम्मीदवार आईसीएसआई की आधिकारिक वेबसाइट icsi.edu पर जाएं।
  • होम पेेज स्क्रीन पर निर्दिष्ट सीएस परिणाम लिंक पर क्लिक करें।
  • रोल नंबर और नाम सहित विवरण दर्ज करें।
  • सीएस 2021 परिणाम सबमिट करें और एक्सेस करें।
 
सीएस परीक्षा परिणाम जानने के लिए इस सीधे लिंक पर भी क्लिक कर सकते हैं।

स्कोर कार्ड की हार्ड कॉपी नहीं जारी होगी
सीएस फाउंडेशन परीक्षा के लिए एक औपचारिक ई-परिणाम-सह-अंक विवरण परिणाम घोषित होने के बाद आधिकारिक वेबसाइट पर अपलोड किया जाएगा। आईसीएसआई ने बताया कि कार्यकारी कार्यक्रम (ओल्ड और न्यू प्रोग्राम) और फाउंडेशन कार्यक्रम परीक्षाओं का औपचारिक ई-परिणाम-सह-अंक विवरण उम्मीदवारों द्वारा उनके संदर्भ, उपयोग के लिए डाउनलोड करने के लिए परिणाम की घोषणा के तुरंत बाद संस्थान की वेबसाइट www.icsi.edu पर अपलोड किया जाएगा। परिणाम-सह-अंक विवरण की कोई भौतिक प्रति जारी नहीं की जाएगी। 
... और पढ़ें

गुजरात: गरबा इवेंट बंद कराने को लेकर यूनिवर्सिटी कैंपस में पुलिस से झड़प, सात छात्र घायल

गुजरात के सूरत से पुलिस और छात्रों के बीच झड़प का मामला सामने आया है। इसमें सात छात्रों के घायल होने की खबर है, जिन्हें स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया है। घटना सूरत की वीर नर्मद साउथ गुजरात यूनिवर्सिटी की है। बताया जा रहा है यहां नवरात्रि में गरबा इवेंट को लेकर पुलिस और छात्रों के बीच कहासुनी हुई, इसके बाद मामला बिगड़ गया और छात्र उपद्रव करने लगे, जिसके बाद पुलिस को सुख्ती से निपटना पड़ा। 

गरबा बंद कराने पहुंची थी पुलिस 
जानकारी के मुताबिक, यूनिवर्सिटी कैंपस में गरबा इवेँट का आयोजन किया जा रहा था। करीब नौ बजे के बाद पुलिस वहां पहुंची और कोरोना का हवाला देते हुए इवेंट बंद कराने लगी। इसका कुछ छात्रों ने विरोध किया और उपद्रव करने लगे, जिसके बाद मामला बढ़ गया और पुलिस को सख्ती से निपटना पड़ा। इस झड़प में सात छात्रों को चोट आई है। वहीं कुछ छात्रों को हिरासत में भी लिया गया है। 

पुलिस कमिश्नर ने दिए जांच के आदेश 
सूरत पुलिस कमिश्नर अजय तोमर का कहना है कि पूरे मामले की जांच कराई जा रही है और तीन दिन के अंदर रिपोर्ट तलब की गई है। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार ने कोरोना को देखते हुए गरबा की इजाजत नहीं दी है। छोटे स्तर पर गरबा की इजाजत है। इसके बावजूद यूनिवर्सिटी कैंपस में गरबा का अयोजन किया गया था। जब पुलिस को इसका पता चला तो वह कैंपस पहुंची थी, जहां छात्रों से झड़प हुई। 

एबीवीपी ने लगाया पुलिस पर आरोप 
अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने पुलिस के इस व्यवहार को गलत ठहराया है। एबीवीपी कार्यकर्ताओं का कहना है कि पुलिस की तीन गाड़ियां कैंपस में दाखिल हुई थीं। आते ही पुलिस वाले गाली-गलौज करने लगे। वहां पर छात्राएं भी थीं। इसी का विरोध छात्रों द्वारा किया गया था, जिसके बाद पुलिस वालों ने छात्रों को पीटना शुरू कर दिया।
... और पढ़ें

गुजरात: शादी के बाद जरबन धर्मांतरण के खिलाफ हाईकोर्ट पहुंचा बेटी का पिता, पुलिस ने नहीं दर्ज की थी एफआईआर

बेटी की शादी के बाद उसका जबरन धर्मांतरण कराए जाने के खिलाफ एक पिता ने गुजरात हाईकोर्ट में गुहार लगाई है। पिता का आरोप है कि पुलिस ने उसकी शिकायत पर एफआईआर दर्ज नहीं की और तीन महीने तक टहलाती रही। इसके बाद पीड़ित पिता ने हाईकोर्ट में याचिका दायर की है। जिस पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने इस मामले में और जानकारियां तलब की हैं। 

क्या है मामला 
याचिकाकर्ता मोहम्मद सईद का कहना है कि उनकी बेटी 16 जून को लापता हो गई थी। बाद में पता चला कि उसने एक युवक ने शादी कर ली थी। लेकिन बाद में उसका जबरन हिंदू धर्म में धर्मातंरण कराया गया। जबकि, यह हाल ही में धर्मांतरण को लेकर कानून में हुए संशोधन का उल्लंघन है। मोहम्मद सईद का कहना है उन्होंने इसके खिलाफ 24 जून 2021 को आनंद जिला पुलिस के समक्ष शिकायत दी थी, लेकिन उनकी एफआईआर अबतक नहीं दर्ज की गई है। 

27 अक्टूबर को हाईकोर्ट करेगा सुनवाई
हाईकोर्ट ने इस मामले में सुनवाई करते हुए इसकी जांच के आदेश दिए हैं। वहीं इसकी अलगी सुनवाई 27 अक्टूबर को होगी। 
... और पढ़ें

मुलाकात: राष्ट्रपति से मिले भूपेंद्र पटेल, गुजरात के सीएम बनने के बाद पहली बार पहुंचे राष्ट्रपति भवन

गुजरात के नए मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने सोमवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात की। मुख्यमंत्री बनने के बाद राष्ट्रपति से उनकी यह पहली मुलाकात है। बता दें, हाल ही में गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद भाजपा नेतृत्व ने भूपेंद्र पटेल को गुजरात की बागडोर सौंपी थी। 

राष्ट्रपति से मुलाकात के बाद गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल गृह मंत्री अमित शाह से भी मिलने पहुंचे। इस दौरान उन्होंने गृह मंत्री को एक मूर्ति भेंट की। अपने ट्विटर हैंडल पर भूपेंद्र पटेल ने बताया कि राष्ट्रपति और गृह मंत्री से शिष्टाचार भेंट की। 
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00