बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
बुध का तुला राशि गोचर, जानें क्या होगा आपके जीवन पर प्रभाव
Myjyotish

बुध का तुला राशि गोचर, जानें क्या होगा आपके जीवन पर प्रभाव

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

हरियाणा में हादसा: रतिया में टाटा एस से टकराई स्कूल वैन, कई बच्चे चोटिल, एक की बाजू कटी

रतिया से फतेहाबाद जा रही डीएवी स्कूल की वैन मंगलवार को टाटा एस गाड़ी से टकरा गई। इस टक्कर के कारण 12वीं कक्षा के एक विद्यार्थी की बाजू कट गई, वहीं, कई बच्चों को भी चोटें लगीं। बताया जा रहा है कि दूसरे बच्चों को टूटे शीशे के टुकड़े लगे। जिस छात्र की बाजू कटी है, पहले उसे रतिया के निजी अस्पताल ले जाया गया, वहां से उसे फतेहाबाद रेफर कर दिया गया। फतेहाबाद से बच्चे को हिसार भेज दिया गया।

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार छात्र ने हाथ को खिड़की से बाहर निकाला हुआ था। सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंची और स्कूल वैन व टाटा एस को थाने लाया गया। फिलहाल मामले की जांच जारी है। जानकारी के अनुसार फतेहाबाद के डीएवी स्कूल की तीन बसें रोजाना रतिया से बच्चों को स्कूल लेकर जाती हैं।

यह पढ़ें:
हरियाणा: 150 से कम बच्चों पर भी नियुक्त होंगे मुख्य शिक्षक, जल्द होगा पदों का वितरण

44 बच्चे सवार थे वैन में
सुबह करीब आठ बजे गांव अहरवां निवासी चालक सतबीर व परिचालक खजान सिंह 44 बच्चों को लेकर रतिया से वापस फतेहाबाद जा रहे थे। इसी दौरान गांव हमजापुर के पास सामने से आ रहे टाटा एस के साथ स्कूल वैन की बराबर से टक्कर हो गई। इससे खिड़की का शीशा टूट गया। शीशे के टुकड़े कुछ बच्चों को लगे, जबकि 12वीं कक्षा के छात्र अमन की बाजू कट गई। आनन-फानन में स्कूल वैन चालक ने छात्रों को रतिया के निजी अस्पताल पहुंचाया। जहां से चिकित्सक ने बाजू कटे छात्र को फतेहाबाद ले जाने को कहा। इसी बीच स्कूल प्रबंधन व छात्र के परिजनों को सूचना दी गई। परिजन बाद में छात्र को हिसार लेकर गए। वहीं, अन्य बच्चों को घर भेज दिया गया।
... और पढ़ें
रतिया में बस हादसा। रतिया में बस हादसा।

हरियाणा: 150 से कम बच्चों पर भी नियुक्त होंगे मुख्य शिक्षक, जल्द होगा पदों का वितरण

हरियाणा के शिक्षा विभाग ने बीते नौ अगस्त की छात्र संख्या को आधार मानते हुए जूनियर बेसिक टीचर (जेबीटी), प्राइमरी टीचर्स (पीआरटी) और मुख्य शिक्षक (एचटी) की रेशनेलाइजेशन को अंतिम रूप दे दिया है। स्कूलों में शिक्षकों के पदों का दोबारा वितरण जल्दी होगा। किसी मुख्य शिक्षक को सरप्लस नहीं किया गया है।

इसके लिए 150 से कम विद्यार्थियों पर भी मुख्य शिक्षकों की नियुक्ति को मंजूरी दी गई है। मौलिक शिक्षा निदेशक ने सोमवार को सभी जिला मौलिक शिक्षा अधिकारियों को रेशनेलाइजेशन का पत्र भेज दिया। इसके अनुसार कुल 422 शिक्षक सरप्लस हुए हैं। इनमें 108 नियमित, 314 अनुबंधित व तदर्थ शिक्षक हैं। इन्हें डाइट व नई शिक्षा नीति के कार्यक्रमों में समायोजित किया जाएगा।
 

निदेशक ने एक सप्ताह में मांगी जानकारी
निदेशक ने सभी जिलों से स्कूलों में सरप्लस हुए शिक्षकों की जानकारी एक सप्ताह में भेजने को कहा है। रेशनेलाइजेशन लागू करते समय 70 प्रतिशत दिव्यांग अतिथि शिक्षक सरप्लस नहीं होंगे। प्रदेश के 8672 स्कूलों में 2362 मुख्य शिक्षकों और 36,212 जेबीटी-पीआरटी की जरूरत है। इनकी कुल संख्या 38,574 बनती है। साठ बच्चों तक दो, 90 तक तीन, 120 तक चार, 150 तक पांच जेबीटी-पीआरटी नियुक्त किए जाएंगे। 200 बच्चों तक भी इनकी संख्या पांच ही रहेगी। इसके बाद हर 40 बच्चों को एक अतिरिक्त शिक्षक नियुक्त किया जाएगा।

यह पढ़ें:
Petrol Diesel Price: हरियाणा में बढ़े पेट्रोल और डीजल के दाम, 98.55 रुपये प्रति लीटर बिक रहा पेट्रोल
 
सबसे पहले जूनियर टीचर होंगे सरप्लस
बिना वर्कलोड वाले शिक्षकों में सबसे पहले कनिष्ठ अतिथि शिक्षक सरप्लस किए जाएंगे। यदि स्कूल में अतिथि या तदर्थ शिक्षक नहीं है, तो लंबे समय से स्कूल में जमे वरिष्ठ जेबीटी, पीआरटी सरप्लस किए जाएंगे। इनका समायोजन अस्थायी तौर पर किया जाएगा, निकट भविष्य में होने वाले ऑनलाइन तबादलों में इन्हें भाग लेना ही होगा। यदि एक-दूसरे के स्थान पर कोई सरप्लस होना चाहता है, तो दोनों शिक्षकों को सहमति पत्र देना पड़ेगा।
 
इन श्रेणियों को सामान्य स्थिति में नहीं छेड़ा जाएगा
एक साल में सेवानिवृत्त होने वाले, विधवा, परित्यक्ता, गंभीर बीमारियों से पीड़ित शिक्षकों को रेशनेलाइजेशन लागू करते समय बिल्कुल नहीं छेड़ा जाएगा। यदि किसी स्कूल में इसी श्रेणी के सभी शिक्षक हैं, तो सबसे अधिक ठहराव वाले शिक्षक को सरप्लस करना होगा।

यह भी पढ़ें: किसानों का भारत बंद: लंबी दूरी की 47 ट्रेनें प्रभावित, छह को 10 घंटे तक बीच रास्ते में रोका गया, 41 रहीं रद्द
 
2694 नई वैकेंसी, 5696 पद सुरक्षित पूल में रखे
रेशनेलाइजेशन के बाद 2694 नई वैकेंसी बनती हैं। जिनमें से मेवात कैडर के 852 पदों को भरने के लिए कर्मचारी चयन आयोग को मांग भेजी गई है। नूंह में सबसे अधिक 1375 नए पदों की मांग है। कुल स्वीकृत पद 44,270 हैं, जबकि 38,574 पदों की ही मांग विद्यार्थियों की संख्या के अनुसार है। 5696 को शिक्षा निदेशालय ने सुरक्षित पूल में रखा है। भविष्य में विद्यार्थी बढ़ने पर पूल से पदों का आवंटन स्कूलों को किया जाएगा। अभी 35,860 शिक्षक व मुख्य शिक्षक ही स्कूलों में कार्यरत हैं।
... और पढ़ें

Petrol Diesel Price: हरियाणा में बढ़े पेट्रोल और डीजल के दाम, 98.55 रुपये प्रति लीटर बिक रहा पेट्रोल

हरियाणा में 28 सितंबर को पेट्रोल और डीजल का दाम बढ़ गया। पेट्रोल का दाम बढ़कर 98.55 रुपये प्रति लीटर हो गया है। वहीं डीजल का दाम बढ़कर 89.73 रुपये प्रति लीटर हो गया है। राजधानी चंडीगढ़ में डीजल 89.31 रुपये और पेट्रोल का दाम बढ़कर 97.61 रुपये प्रति लीटर हो गया है।

यह भी पढ़ें - 
भगत सिंह : जिस गुप्त ठिकाने में काटे थे शहीद के केश और दाढ़ी, वहां यादगार बनाने का वादा भूले नवजोत सिद्धू 

जानिए आपके शहर में कितना है दाम
पेट्रोल-डीजल की कीमत आप एसएमएस के जरिए भी जान सकते हैं। इंडियन ऑयल की वेबसाइट के अनुसार, आपको RSP स्पेस अपने शहर का कोड लिखकर 9224992249 नंबर पर भेजना होगा। हर शहर का कोड अलग-अलग है, जो आपको आईओसीएल की वेबसाइट से मिल जाएगा।    ... और पढ़ें

करनाल में पटाखा फैक्टरी में धमाका: फुलझड़ी बनाते वक्त हुआ हादसा, पैकिंग यूनिट की छत ध्वस्त, एक कर्मी गंभीर झुलसा

हरियाणा के करनाल में मेरठ रोड पर नगला चौक के समीप सचदेवा फायर वर्क्स पटाखा फैक्टरी में सोमवार सुबह धमाका हो गया। जिसमें एक 23 वर्षीय कर्मचारी बुरी तरह से झुलस गया। हादसा उस समय हुआ जब फैक्टरी में बारूद और कैमिकल का मिश्रण किया जा रहा था। विस्फोट इतना जबरदस्त था कि पैकिंग यूनिट की छत पूरी तरह ध्वस्त हो गई। धमाके की आवाज सुनकर अन्य कर्मचारी भी फैक्टरी से बाहर निकल गए। धमाके से कमरे का शेड पूरी तरह टूट गया। सूचना पर पुलिस व फायर ब्रिगेड की दो गाड़ियां मौके पर पहुंची और आग पर काबू पाया। 

यह भी पढ़ें-
तस्वीरों में किसानों का भारत बंद: पंजाब भर में व्यापक असर, सड़क और बाजार दिखे सूने, 22 ट्रेनें रहीं रद्द

घायल कर्मचारी को कल्पना चावला मेडिकल कॉलेज में दाखिल कराया गया, जहां उसकी हालत गंभीर बनी है। मौके पर पहुंचकर फॉरेंसिक टीम ने भी जांच की। सोमवार सुबह 9 बजे फैक्टरी में कर्मचारी शाहरुख निवासी मेरठ एक कमरे में बैठकर फुलझड़ी बना रहा था। उस कमरे में बारूद ही बारूद पड़ा था। सुबह 9:20 पर फैक्टरी में जोरदार विस्फोट हो गया। बारूद में विस्फोट के बाद फैक्टरी की मिक्सिंग और पैकिंग यूनिट संख्या सात में आग लग गई जिससे शाहरुख आग में झुलस गया। धमाके के बाद वहां काम कर रहे करीब दो दर्जन कर्मचारियों में हड़कंप मच गया। कर्मचारियों ने सूचना पुलिस व दमकल विभाग को दी।

यह भी पढ़ें- Punjab Cabinet Expansion: ये है चरणजीत सिंह चन्नी का नया मंत्रिमंडल, पढ़ें नए-पुराने मंत्री चेहरों का राजनीतिक सफर
  
पुलिस व फॉरेंसिक टीम ने विस्फोट की जांच शुरू कर दी है। पटाखा फैक्टरी में विस्फोट से सहमे सभी कर्मचारी फैक्टरी से भाग गए। बताया जा रहा है कि जिस समय हादसा हुआ फैक्टरी में करीब 25 कर्मचारी काम कर रहे थे। मंगलौरा चौकी प्रभारी सतपाल का कहना है कि अभी तक फैक्टरी संचालक का पता नहीं चला है कि वह कौन है और कहां रहता है। देर शाम तक पुलिस उसका पता नहीं लगा पाई।
... और पढ़ें

भारत बंद: मालगाड़ी रुकवाने ट्रैक पर पहुंचे किसान, चालक ने लगाया आपातकालीन ब्रेक, सोनीपत में हादसा टला

करनाल में पटाखा फैक्टरी में धमाका।
किसान संगठनों के आह्वान पर कृषि कानूनों के खिलाफ भारत बंद के दौरान सोमवार सुबह किसान रेलवे ट्रैक पर आ गए और अंबाला से दिल्ली की तरफ रन थ्रू जा रही मालगाड़ी को रुकवाने का प्रयास किया। हादसे की आशंका को भांपते हुए मौके पर तैनात आरपीएफ टीम ने दौड़कर किसानों को ट्रैक से हटाया। रेलवे ट्रैक पर आए किसानों को देखते हुए मालगाड़ी के चालक को आपातकालीन ब्रेक लगानी पड़ी। जिससे बड़ा हादसा टल गया। 

यह भी पढ़ें-
तस्वीरों में किसानों का भारत बंद: पंजाब भर में व्यापक असर, सड़क और बाजार दिखे सूने, 22 ट्रेनें रहीं रद्द

मालगाड़ी के रुकने के बाद लगे इंकलाब जिंदाबाद के नारे
मालगाड़ी को रुकवाने के बाद किसान दोबारा ट्रैक पर आ गए और इंकलाब जिंदाबाद, किसान मोर्चा जिंदाबाद, केंद्र सरकार मुर्दाबाद, कृषि कानून रद्द करो के नारे लगाते रहे। उसके बाद धीरे-धीरे किसानों की संख्या बढ़ती चली गई। मालगाड़ी के रुकने के बाद किसान तिरपाल बिछाकर धरने पर बैठ गए।

ट्रैक पर जाने की जिद पकड़े रहे किसान 
सोमवार सुबह 8.35 बजे तक दिल्ली की तरफ रन थ्रू जा रही मालगाड़ी को रुकवाने के लिए ट्रैक पर आए किसानों को देखते हुए ड्यूटी पर तैनात आरपीएफ कर्मचारी उन्हें बचाने के लिए दौड़ पड़े। आरपीएफ कर्मचारियों ने अपनी जान की परवाह किए बिना किसानों को रेलवे ट्रैक से हटाया। तेज गति से आ रही मालगाड़ी को देखने के बावजूद किसान ट्रैक पर जाने की जिद पर अड़े रहे। हालांकि मालगाड़ी के चालक ने स्थिति को भांपते हुए तुरंत आपातकालीन ब्रेक लगा दिया।

यह भी पढ़ें- Punjab Cabinet Expansion: ये है चरणजीत सिंह चन्नी का नया मंत्रिमंडल, पढ़ें नए-पुराने मंत्री चेहरों का राजनीतिक सफर

चार बजे ट्रैक से हटे किसान
किसानों ने रेलवे ट्रैक पर बैठने के साथ ही चाय-पानी की भी व्यवस्था की। रेलवे स्टेशन के मालगोदाम में किसानों के साथ आई महिलाएं चाय बनाती रहीं। युवा पानी की बोतलें लेकर आते रहे। शाम चार बजने के बाद ही किसान रेलवे ट्रैक से हटे। जिसके बाद ही मालगाड़ी को दिल्ली की तरफ रवाना किया गया। 
... और पढ़ें

किसानों का भारत बंद: लंबी दूरी की 47 ट्रेनें प्रभावित, छह को 10 घंटे तक बीच रास्ते में रोका गया, 41 रहीं रद्द

भारत बंद की वजह से ट्रेनों और बसों की रफ्तार थम गई। लंबी दूरी की ट्रेनों को सुरक्षा कारणों से जहां बीच रास्ते के रेलवे स्टेशनों पर रोकना पड़ा, वहीं हरियाणा रोडवेज की बसें भी अपने-अपने डिपो में ही खड़ी रहीं। ट्रेनें और बसें बाधित होने से यात्री इधर-उधर भटकते रहे। बंद की वजह से अंबाला छावनी रेलवे स्टेशन से निकलने वाली 47 ट्रेनें प्रभावित हुईं, वहीं रोडवेज की 80 बसें भी नहीं चलीं। रेल मंडल वरिष्ठ वाणिज्य प्रबंधक हरी मोहन ने बताया कि शंभू टोल के पास रेलवे ट्रैक पर बैठे किसानों की वजह से 6 ट्रेनों को बीच रास्ते में रोका गया, वहीं 17 ट्रेनों को बीच रास्ते में रद करना पड़ा और 24 ट्रेनें पूर्णतया रद्द रहीं। 

बीच रास्ते रोकीं
ट्रेन नंबर 02331 हावड़ा-जम्मूतवी को शंभू रेलवे स्टेशन, 1078 जम्मूतवी-पूना को राजपुरा, 02462 श्री माता वैष्णो देवी कटरा-नई दिल्ली को सरहिंद, 04697 बरौनी जंक्शन-जम्मूतवी को अंबाला, 09804 श्री माता वैष्णो देवी कटरा-कोटा को अहमदगढ़ व 04649  जयनगर-अमृतसर को सहारनपुर स्टेशन पर 10 घंटे तक रोका गया।

यह भी पढ़ें-
तस्वीरों में किसानों का भारत बंद: पंजाब भर में व्यापक असर, सड़क और बाजार दिखे सूने

पूर्णतया रद्द रहीं ट्रेनें 
ट्रेन नंबर 02046 चंडीगढ़-नई दिल्ली शताब्दी, 04538 नंगलडैम-अमृतसर स्पेशल, 04537 अमृतसर-नंगलडैम, 04502 ऊना हिमाचल-सहारनपुर, 04532 अंबाला कैंट-सहारनपुर पैसेंजर, 04657 बठिंडा-फिरोजपुर कैंट, 04755 बठिंडा-श्रीगंगानर, 04603 बठिंडा-फिरोजपुर, 04736 अंबाला कैंट-श्रीगंगानगर, 04631 बठिंडा-फाजिल्का, 04067 नई दिल्ली-अमृतसर शान-ए-पंजाब, 04081 नई दिल्ली-मोगा, 04077 दिल्ली-पठानकोट, 02029 नई दिल्ली-अमृतसर शताब्दी, 02011 नई दिल्ली-कालका शताब्दी, 02231 लखनऊ-चंडीगढ़, 02053/54 हरिद्वार-अमृतसर-हरिद्वार जनशताब्दी, 04541 चंडीगढ़-अमृतसर, 04571 भिवानी-धूरी, 04373 सहारनपुर-देहरादून, 04701 बठिंडा-लालगढ़, 04507 दिल्ली-बठिंडा व ट्रेन नंबर 04526 अंबाला-श्रीगंगानगर इंटरसिटी एक्सप्रेस रद्द रही।

यह भी पढ़ें- Punjab Cabinet Expansion: ये है चरणजीत सिंह चन्नी का नया मंत्रिमंडल, पढ़ें नए-पुराने मंत्री चेहरों का राजनीतिक सफर

बीच रास्ते में रद्द ट्रेनें 
ट्रेन नंबर 02058 ऊना हिमाचल-नई दिल्ली जनशताब्दी को मोरिंडा स्टेशन, 02006 कालका-नई दिल्ली शताब्दी को चंडीगढ़, 04501 लखनऊ-नंगलडैम को यमुनानगर-जगाधरी, 04524 नंगलडैम-अंबाला कैंट को रोपड़, 04503 अंबाला कैंट-लुधियाना पैसेंजर को शंभू, 04574 लुधियाना-भिवानी को मलेरकोटला, 04508 लुधियाना-भिवानी को तपा, 04525 अंबाला कैंट-श्रीगंगानगर को दौनकलां, 02455 दिल्ली-बीकानेर सराय रोहिला को श्रीगंगानगर, 02471 श्रीगंगानगर-दिल्ली को हिंदूमल कोटे जंक्शन, 04712 श्रीगंगानगर-हरिद्वार जनशताब्दी को लहरा मोहब्बत जंक्शन, 09717 जयपुर-दौलतपुर चौक को धूलकोट, 04561 चंडीगढ़-अमृतसर इंटरसिटी को साहिबजादा अजीत सिंह नगर, 02231 लखनऊ-चंडीगढ़ को सहारनपुर, 09221 अहमदाबाद-जम्मूतवी को पठानकोट, 04217 प्रयागराज-चंडीगढ़ ऊंचाहार एक्सप्रेस को अंबाला व 04682 जालंधर-नई दिल्ली को खन्ना रेलवे स्टेशनों पर रोककर रद्द किया गया।
... और पढ़ें

तीन कृषि कानूनों के खिलाफ बुलाए गए भारत बंद को किसानों ने बताया सफल समेत हरियाणा-पंजाब की बड़ी खबरें

दुखद: कुंडली बॉर्डर पर किसान आंदोलन में शामिल पंजाब के एक और किसान की मौत

कुंडली बॉर्डर पर कृषि कानूनों को रद्द कराने की मांग को लेकर जारी आंदोलन में शामिल पंजाब के किसान की सोमवार सुबह मौत हो गई। शुरुआती जांच में मौत का कारण हार्ट अटैक बताया जा रहा है। हालांकि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने पर ही मौत के सही कारणों का पता लग सकेगा। पुलिस ने सामान्य अस्पताल में शव का पोस्टमार्टम करवाने के बाद परिजनों को सौंप दिया।
 
पंजाब के जिला जालंधर की तहसील फिल्लौर के गांव खेला के रहने वाले बघेल राम (55) कुंडली बॉर्डर पर जारी आंदोलन में शामिल होने आए थे। वह 18 सितंबर को दोबारा कुंडली पहुंचे थे। सोमवार सुबह वह अपने टेंट में मृत मिले। जब साथी किसानों ने उन्हें उठाने का प्रयास किया तो वह नहीं उठे। इस पर चिकित्सक को बुलाकर जांच कराई तो उन्हें मृत घोषित कर दिया। 

मामले की सूचना कुंडली थाना पुलिस को दी गई। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर सामान्य अस्पताल में भिजवा दिया। जहां शव का पोस्टमार्टम कराकर साथी किसानों को सौंप दिया गया। बघेल राम लगातार किसान आंदोलन में आकर सेवा कर रहे थे। वह कुछ दिन पहले ही वापस गए थे और अब 18 सितंबर से कुंडली में हनुमान मंदिर के पास अपने टेंट में रह रहे थे। साथी किसान गुरनाम सिंह ने बताया कि सभी ने भारत बंद को लेकर देर रात तक चर्चा की थी। जिसमें बघेल राम ने भी भाग लिया था लेकिन सुबह उनकी मौत हो गई। 

यह भी पढ़ें: 
पर्यटन दिवस विशेष: कोरोना के साये से निकला पर्यटन कारोबार, छह माह में चंडीगढ़ पहुंचे 24 हजार सैलानी
 
तीन बेटियों की शादी, बेटा अविवाहिता 
गुरनाम सिंह ने बताया कि बघेल राम काफी मेहनती था। उसके पास तीन बेटियां व एक बेटा है। उसने तीन बेटियों की शादी कर दी और बेटा अविवाहित है। उसके शव का मंगलवार को पैतृक गांव में अंतिम संस्कार किया जाएगा। उसने किसान आंदोलन के लिए अपने प्राणों की आहुति दी है।  ... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X