बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW
विज्ञापन
विज्ञापन
SBI भर्ती 2021: शुरू होने वाली है भारतीय स्टेट बैंक में क्लर्क भर्ती, ऐसे करें तैयारी
Safalta

SBI भर्ती 2021: शुरू होने वाली है भारतीय स्टेट बैंक में क्लर्क भर्ती, ऐसे करें तैयारी

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

शोक : रेजांगला युद्ध के हीरो कैप्टन रामचंद्र का निधन, 1300 चीनियों का धूल चटा जिंदा लौटा था अहीरवाल का वीर 

1962 में लद्दाख में चुशुल घाटी की 18 हजार फुट ऊंची रेजांगला पोस्ट पर चीनी सेना को धूल चटाने वाले वीर चक्र विजेता रेवाड़ी के गांव मंदौला निवासी कैप्टन रामचंद्र का निधन हो गया है। अपने पैतृक गांव मंदोला में 13 अप्रैल को उन्होंने 92 साल की उम्र में अंतिम सांस ली। कैप्टन रामचंद्र वे योद्धा थे जो चीन के हजारों सैनिकों से लड़कर जीवित लौटे थे। अहीरवाल के वीर के निधन पर अनेक सामाजिक संगठनों व राजनीति दलों के लोगों की ओर से श्रद्धांजलि दी गई। 1962 के भारत-चीन युद्ध में 13 कुमाऊं यूनिट का एक दस्ता रेजांगला पोस्ट पर तैनात था। अल सुबह भारी मात्रा में हथियारों के साथ चीनी सेना के 5-6 हजार जवानों ने लद्दाख पर हमला बोल दिया था। मेजर शैतान सिंह के नेतृत्व वाली 13 कुमाऊं की एक टुकड़ी चुशुल घाटी की हिफाजत के लिए रेजांगला पोस्ट पर तैनात थी। ... और पढ़ें
रेजांग ला युद्ध के हीरो कैप्टन रामचंद्र का निधन। रेजांग ला युद्ध के हीरो कैप्टन रामचंद्र का निधन।

आंदोलन: दुष्यंत चौटाला ने पीएम मोदी को लिखी चिट्ठी, कहा- किसानों से दोबारा शुरू करें बातचीत

हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला किसान आंदोलन के लंबा खिंचने से चिंतित हैं। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी है। चौटाला ने प्रधानमंत्री को लिखी चिट्ठी में आंदोलनकारी किसानों से दोबारा बातचीत शुरू करने का आग्रह किया है। उन्होंने कहा है कि इसके लिए 3-4 वरिष्ठ मंत्रियों की समिति बनाई जाए जो किसान नेताओं से दोबारा बातचीत शुरू करे।

दुष्यंत का मानना है कि किसान आंदोलन का लंबा चलना चिंता का विषय है। दिल्ली सीमा पर बैठा किसान हमारा अन्नदाता है। बातचीत से हर समस्या का हल संभव है। किसानों की मांगों का सौहार्दपूर्ण समाधान होना चाहिए।



डिप्टी सीएम ने चिट्ठी में प्रधानमंत्री को गेहूं खरीद के बारे में भी जानकारी दी है। उन्होंने बताया है कि रबी की 6 फसलों को हरियाणा में एमएसपी पर खरीदा जा रहा है। दुष्यंत से पहले किसानों से बातचीत करने के लिए गृह मंत्री अनिल विज भी केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर को पत्र लिख चुके हैं। उन्होंने कोरोना के मद्देनजर नए सिरे से आंदोलनकारी किसानों से बातचीत शुरू करने की मांग की थी। 

इससे पहले हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने भी रविवार को केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को पत्र लिखा था। उन्होंने लिखा था कि एक बार फिर से आंदोलन पर बैठे किसानों से बात की जाए। अनिल विज ने कहा कि कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच उन्हें किसानों के स्वास्थ्य की भी चिंता है, क्योंकि आंदोलन में कोरोना गाइडलाइंस का पालन नहीं हो रहा है। ... और पढ़ें

ट्रेन में लावारिस बैग से हड़कंप : पुलिसवालों ने खोला तो मिली तीन साल के बच्चे की लाश, आरोपी की हो रही तलाश

हरियाणा के चरखी दादरी में रेवाड़ी-गंगानगर ट्रेन में शुक्रवार दोपहर एक लावारिस बैग में बच्चे का शव मिला है। दादरी जीआरपी ने शव को कब्जे में ले लिया और पोस्टमार्टम के लिए सिविल अस्पताल पहुंचाया। बच्चे की अभी शिनाख्त नहीं हो पाई है। पुलिस ने इस संबंध में हत्या का केस दर्जकर कार्रवाई शुरू कर दी है। 

जानकारी के अनुसार रेवाड़ी-गंगानगर ट्रेन दोपहर 2:10 बजे दादरी रेलवे स्टेशन पर पहुंची थी। इसमें सवार यात्रियों ने जीआरपी चौकी में सूचना दी कि ट्रेन में काफी देर से एक लावारिस पिट्ठू बैग रखा हुआ है। सूचना मिलने के बाद पुलिस टीम ट्रेन में पहुंची और बैग को अपने कब्जे में ले लिया। पुलिस ने जब बैग खोला तो इसमें से करीब तीन वर्षीय बच्चे का शव मिला। बच्चा आधी बाजू की पीली और संतरी रंग की टी शर्ट और नीली जींस की निक्कर में है। 

यह भी पढ़ें-
हरियाणा का पहला मामला : जन्म के तुरंत बाद नवजात मिला कोरोना पॉजिटिव, 10 अस्पतालों ने नहीं की डिलिवरी

जीआरपी चौकी इंचार्ज एसआई कृष्ण कुमार ने बताया कि बच्चे के शव की शिनाख्त के प्रयास जारी हैं। इस संबंध में हत्या का केस दर्जकर कार्रवाई शुरू कर दी है। शरीर पर चोट के निशान नहीं हैं इसलिए पोस्टमार्टम के बाद स्थिति स्पष्ट होगी कि बच्चे की हत्या कैसे की गई है। शनिवार सुबह शव का पोस्टमार्टम करवाया जाएगा। 

यह भी पढ़ें- वीकेंड लॉकडाउन : सभी जिम व स्पा बंद, शादी में मेहमानों की संख्या भी सीमित, पढ़ें- क्या खुलेगा और क्या रहेगा बंद
... और पढ़ें

कोरोना संक्रमण बेकाबू : हरियाणा में 6277 नए पॉजिटिव मिले, 24 मरीजों की मौत, नए स्ट्रेन ने भी दी दस्तक

हरियाणा में तमाम प्रयासों के बावजूद कोरोना संक्रमण बेकाबू हो जा रहा है। शुक्रवार को संक्रमण के 6277 नए मामले सामने आए हैं, जबकि अलग अगल जिलों में 24 मरीजों की मौत हो गई। पहली बार गंभीर मरीजों की संख्या का आंकड़ा 500 के पार पहुंच गया है। 415 लोगों को ऑक्सीजन और 88 मरीजों को वेंटिलेटर सेवा दी गई है।

राज्य में संक्रमण दर 5.07 और रिकवरी दर घटकर 89.13 प्रतिशत पहुंच गई है। प्रदेश में अब एक्टिव केसों की संख्या बढ़कर 33817 पहुंच गई। बेकाबू होते हालात को देखते हुए अंबाला जिला अस्पताल, छावनी अस्पताल और नारायणगढ़ अस्पताल में ओपोडी और सामान्य सर्जरी बंद कर दी गई है। यहां पर केवल इमरजेंसी सेवाएं और गर्भवती महिलाओं के लिए सेवाएं जारी रहेंगी। 

यह भी पढ़ें-
हरियाणा का पहला मामला : जन्म के तुरंत बाद नवजात मिला कोरोना पॉजिटिव, 10 अस्पतालों ने नहीं की डिलिवरी

इसी प्रकार, जींद और नारनौल के सामान्य अस्पताल में भी सामान्य ऑपरेशन बंद कर दिए गए हैं। फतेहाबाद में मनोरोग विशेषज्ञ पॉजिटिव आने पर विभाग की ओपीडी बंद कर दी गई है। हिसार, सिरसा, फतेहाबाद, भिवानी और चरखी दादरी समेत अन्य जिलों में फिलहाल ओपीडी जारी है।
... और पढ़ें

हरियाणा : सभी मंडियों में दो दिन नहीं होगी गेहूं की खरीद, इस वजह से सरकार ने लिया फैसला

कोरोना की जांच के लिए सैंपल लेता स्वास्थ्य कर्मी।
उठान प्रक्रिया सुस्त होने से हरियाणा की अनाज मंडियां गेहूं से पट गईं हैं। तय समय में गेहूं का उठान नहीं होने के कारण प्रदेश सरकार ने मंडियों में खरीद बंद करने का निर्णय लिया है। इस बार शनिवार व रविवार दो दिन तक मंडियों में खरीद कार्य नहीं होगा, बल्कि केवल उठान कार्य किया जाएगा। इस संबंध में सरकार ने किसानों से अपील की है कि वे दो दिनों तक फसल मंडियों में न लेकर आएं।

खरीद कार्य 19 अप्रैल से शुरू होगा। उधर, भाकियू ने कड़ा विरोध करते हुए कहा कि एक तो मौसम बदल रहा है, दूसरा सरकार किसानों का सिस्टम बिगाड़ने पर लगी है। 13 अप्रैल को भी प्रदेश सरकार की ओर से 18 मंडियों में 24 घंटे के लिए खरीद प्रक्रिया पर रोक लगा दी थी। इनमें यमुनानगर, करनाल, अंबाला, कैथल, सोनीपत और पानीपत जिले की बड़ी मंडियों को बंद कर दिया था।

यह भी पढ़ें-
फसल खरीद : लुधियाना में 1.20 लाख मीट्रिक टन गेहूं की आवक, लेकिन ओटीपी न आने से किसान परेशान

बारदाने की कमी बन रही बाधा
हरियाणा में एक अप्रैल से गेहूं की खरीद शुरू हुई थी। सरकार ने दावा किया था कि गेहूं का उठान 24 घंटे में सुनिश्चित किया जाएगा, हालांकि अभी तक ऐसा संभव नहीं हो पाया है। उठान नहीं होने से सभी मंडियां अनाज से भर गईं हैं। इसमें सबसे बड़ी बाधा बारदाने की कमी आ रही है। आढ़ती और खरीद एजेंसी बारदाने के लिए भाग दौड़ कर रहे हैं। 

सरकार किसानों की फसल खरीद सही तरीके से नहीं कर पा रही है। पहले 18 मंडियां 24 घंटे के लिए बंद की और अब सभी मंडियां। एक तो मौसम खराब हो रहा है और बारिश की आशंका है। ऐसे में किसान कटी फसल को कहां लेकर जाएगा। सरकार को तुरंत यह फैसला वापस लेना चाहिए और खरीद चालू करनी चाहिए। - रतन मान, प्रदेशाध्यक्ष, भाकियू।

तो लाइसेंस होगा सस्पेंड 
बदलते मौसम और बारिश से किसानों की फसलों को बचाने की जिम्मेदारी आढ़तियों की होगी। इसके लिए उनको तिरपाल समेत पॉलिथीन की व्यवस्था करनी होगी। अगर कोई ऐसा नहीं करता है तो उस आढ़ती का लाइसेंस सस्पेंड किया जाएगा। हरियाणा राज्य कृषि विपणन बोर्ड के मुख्य प्रशासक ने शुक्रवार को ये आदेश जारी किए हैं। सभी जोनल प्रशासक, जेडएमईओ और डीएमईओ को भेजे पत्र में साफ कहा गया है कि इन आदेश का पालन करने को लेकर सचिव निजी तौर पर जिम्मेदार होंगे। 

यह भी पढ़ें- पंजाब : मौसम ने बढ़ाई किसानों की चिंता, मंडियों में लगे गेहूं के ढेर, बरदाना के अभाव में खरीद भी धीमी
 
... और पढ़ें

कोरोना संक्रमण : हरियाणा में लॉकडाउन व वीकेंड कर्फ्यू लगेगा या नहीं ? अनिल विज ने कही बड़ी बात

कोरोना के बढ़ते संक्रमण की वजह से कई राज्य अपने यहां वीकेंड कर्फ्यू लगाना शुरू कर दिया है। ऐसे में हरियाणा में लोग वीकेंड कर्फ्यू की आशंका जता रहे हैं। लेकिन सरकार ने अपनी स्थिति साफ कर दी है। गृह मंत्री अनिल विज ने कहा कि हरियाणा सरकार लॉकडाउन पर विचार नहीं कर रही है। वहीं प्रदेश में वीकेंड लॉकडाउन भी नहीं लगाया जाएगा।

अनिल विज ने किसानों को आंदोलन से उठाने की खबरों का भी खंडन किया। विज ने कहा कि मिशन क्लीन जैसा कोई भी मिशन नहीं चलाया जा रहा है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने सिर्फ इतना कहा कि किसान कोरोना संक्रमण को देखते हुए धरना प्रदर्शन बंद कर दें। कोरोना संक्रमण खत्म होते ही दोबारा धरनास्थल पर आ जाएं।

यह भी पढ़ें-
हरियाणा का पहला मामला : जन्म के तुरंत बाद नवजात मिला कोरोना पॉजिटिव, 10 अस्पतालों ने नहीं की डिलिवरी

नए स्ट्रेन की दस्तक, छह मामले
हरियाणा में कोरोना के नए स्ट्रेन ने दस्तक दे दी है। प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने बताया कि नए स्ट्रेन के छह मामले सामने आए हैं।विज ने बताया कि प्रदेश में वायरस को रोकने के लिए कड़े निर्णय लिए गए हैं। अगर जरूरत पड़ी तो स्कूलों, धर्मशालाओं को अस्पताल बना सकते हैं, इसको लेकर अधिकारियों को आदेश दे दिए हैं। 

स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि हरियाणा में करीब 36 हजार रोजाना टेस्ट किए जा रहे हैं और 2 प्रतिशत दिल्ली लैब में जीनोम फ्रोडिन्स के लिए भेज रहे हैं, इसमें से छह मामले नए स्ट्रेन के आए हैं। विज ने कहा कि इसका इलाज भी मौजूद है। ऑक्सीजन की कमी के सवाल पर विज ने कहा हरियाणा में ऑक्सीजन, वेंटिलेटर और बेड की कमी नहीं है।

ग्रामीण इलाकों में वैक्सीनेशन को लेकर भ्रम की स्थिति के सवाल पर स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि पहले विरोधियों ने लोगों को भ्रम में डाला था लेकिन अब लोग सामने आ रहे हैं और संस्थाओं को हमने इसमें जोड़ा तो वे पूरा सहयोग कर रही हैं। 30 लाख लोगों को टीका लगा चुके हैं। टीकाकरण को लेकर प्रदेश की जनता जागरुक हो रही है और अभियान में साथ दे रही है। विज ने कहा कि वैक्सीन के साथ साथ हमें खुद भी कड़े नियमों का पालन करना होगा, तभी कोरोना को हराया जा सकता है।

यह भी पढ़ें- वीकेंड लॉकडाउन : सभी जिम व स्पा बंद, शादी में मेहमानों की संख्या भी सीमित, पढ़ें- क्या खुलेगा और क्या रहेगा बंद
... और पढ़ें

Petrol Diesel Price : हरियाणा में पेट्रोल-डीजल के दाम घटे, 87.86 रुपये प्रति लीटर हुआ पेट्रोल 

कोरोना का कहर : दिल्ली में बिगड़ रहे हालात, नहीं मिल रहे बेड, हरियाणा के अस्पतालों का रुख कर रहे मरीज

कोरोना संक्रमण की दूसरी घातक लहर के बीच दिल्ली में बिगड़ते हालात का असर आने वाले दिनों में हरियाणा के अस्पतालों में भी देखने को मिल सकता है। हालांकि, प्रदेश सरकार का दावा है कि हरियाणा में पर्याप्त मात्रा में बेड और आईसीयू वेंटिलेटर हैं। लेकिन एक तो प्रदेश में ही रोजाना 5 हजार अधिक नए केस मिल रहे हैं और इधर दिल्ली में बेड नहीं मिलने पर वहां के मरीजों ने प्रदेश के अस्पतालों का रुख कर लिया है। एनसीआर के जिले गुरुग्राम व फरीदाबाद के साथ साथ जीटी बेल्ट के जिलों में मजबूरी के चलते दिल्ली के मरीज आने शुरू हो गए हैं।  कुछ इसी प्रकार के हालात पिछले साल सितंबर माह में हुए थे। 

प्रदेश में 2100 आईसीयू बेड, एक्टिव केस 27 हजार
सरकार ने करीब 2100 आईसीयू बेड की व्यवस्था की है और इस समय करीब 360 मरीज आईसीयू में दाखिल हैं। प्रदेश में कुल क्वारंटीन बेड 45 हजार हैं और आइसोलेट बेड 11500 हैं। प्रदेश में 181 समर्पित कोविड हेल्थ सेंटर, 526 कोविड केयर सेंटर और 43 कोविड अस्पताल हैं। अहम बात ये है कि इस समय हरियाणा में एक्टिव केसों की संख्या 27 हजार के पास पहुंच गई है।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X