लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Haryana ›   Hisar News ›   Cows of Sahiwal breed will grow in the womb of indigenous cows through surrogacy

शोध: सरोगेसी के जरिये देसी गायों की कोख में पलेंगी साहीवाल नस्ल की गायें, तीन गुना बढ़ेगा दूध का उत्पादन

उदयभान त्रिपाठी, अमर उजाला ब्यूरो, हिसार (हरियाणा) Published by: भूपेंद्र सिंह Updated Sat, 26 Nov 2022 06:29 PM IST
सार

लुवास विवि के डायरेक्टर रिसर्च डॉ. नरेश जिंदल की अगुवाई में शोध कार्य चल रहा है। हरियाणा नस्ल की देसी गायें अधिकतम पांच लीटर, जबकि साहीवाल 15 लीटर प्रतिदिन दूध देती हैं। प्रथम चरण की सरकारी गोशाला में पल रही देसी गायों को सरोगेसी काऊ बनाया जाएगा।

सांकेतिक तस्वीर (गाय)
सांकेतिक तस्वीर (गाय)
विज्ञापन

विस्तार

कम दूध देने वाली देसी गायें अब साहीवाल नस्ल को बढ़ावा देने के काम आएंगी। ऐसा संभव होगा सरोगेसी के जरिये। हरियाणा के हिसार में लाला लाजपतराय पशु चिकित्सा एवं पशु विज्ञान विश्वविद्यालय (लुवास) के वैज्ञानिक अधिक दूध देने वाली साहीवाल नस्ल की गायों की संख्या बढ़ाने के लिए ऐसा प्रयोग कर रहे हैं। इसके तहत इन देसी गायों में सरोगेसी के जरिये साहीवाल नस्ल के भ्रूण को विकसित कराया जाएगा। तीन साल की इस परियोजना के अगले साल पूरा होने के बाद दूध उत्पादन में करीब तीन गुना वृद्घि की संभावना जताई गई है।



हरियाणा नस्ल की देसी गायों का प्रतिदिन औसतन दूध उत्पादन तीन लीटर है। इस प्रजाति की गायें अधिकतम पांच लीटर तक दूध देती हैं। जबकि शारीरिक बनावट के आधार पर चारा अन्य प्रजाति की गायों के बराबर ही खाती हैं। इससे इन्हें पालने वाले किसानों को कोई फायदा नहीं मिलता।

 

जब तक खेती में बैलों का प्रयोग हो रहा था, इन गायों के बछड़े उपयोगी थे, लेकिन मशीनों के बढ़े प्रयोग के बाद इनके बछड़े भी बेकार हो गए। कम दूध उत्पादन व खास उपयोगिता नहीं होने के कारण पशुपालक इन्हें सड़क पर खुला छोड़ देते हैं।

 

इस समस्या से निपटने में सरोगेसी तकनीक से बड़ी राहत मिलने की उम्मीद है। लुवास के वैज्ञानिकों ने प्रथम चरण में हरियाणा नस्ल की गायों से सरोगेसी के जरिये साहीवाल नस्ल के बछड़े-बछिया का जन्म कराया है। अब इसे वृहद स्तर पर लागू करने की तैयारी है।


बछियों की संख्या बढ़ने से होगा बदलाव
इस प्रयोग का निर्देशन कर रहे लुवास के डायरेक्टर रिसर्च डॉ. नरेश जिंदल ने बताया कि सरोगेसी में पहले साल से बछिया पैदा होने की संभावना 80 प्रतिशत होगी। क्योंकि इसके लिए बछड़ों की संख्या कम होने और बछियों की संख्या बढ़ने से एक तो दूध उत्पादन बढ़ेगा, दूसरे सड़कों पर छुट्टा घूमने वाले सांड़ों की संख्या में भी कमी आएगी।

गोशालाओं में बढ़ेगा दूध उत्पादन
हिसार की गोशालाओं में करीब 55 हजार गोवंशीय पशु हैं। इनमें से बड़ी संख्या में हरियाणा नस्ल की देसी गाये हैं। इनकी देखरेख में खर्च तो हो रहा है, लेकिन दूध का उत्पादन काफी कम है। इसलिए सरोगेसी के जरिये नस्ल संवर्द्घन की शुरुआत इन्हीं गोशालाओं से होगी। प्रयोग सफल रहने पर सड़कों पर घूमने वाले गायों की संख्या में भी कमी आएगी।
विज्ञापन

अभी यह परियोजना प्रायोगिक स्तर पर है। हरियाणा नस्ल की गायों के दूध उत्पादन की क्षमता कम होने के चलते ही लोग इन्हें सड़कों पर छोड़ रहे हैं। प्रयोग सफल रहा तो आने वाले वर्षों में न केवल गायों की दूध उत्पादन क्षमता में तीन गुना वृद्घि होगी, बल्कि सड़कों पर से लावारिस पशुओं की समस्या में भी काफी हद तक कमी आ जाएगी। -डॉ. नरेश जिंदल, डायरेक्टर रिसर्च, लुवास

विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00