लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Haryana ›   Yamuna Nagar News ›   Focus on long routes, rural routes without buses

Yamuna Nagar News: ांग रूटों पर फोकस, ग्रामीण रूट बे-बस

Amar Ujala Bureau अमर उजाला ब्यूरो
Updated Mon, 05 Dec 2022 08:00 AM IST
रोडवेज बस। फाइल फोटो
रोडवेज बस। फाइल फोटो - फोटो : Yamuna Nagar
विज्ञापन
यमुनानगर। हरियाणा रोडवेज के यमुनानगर डिपो से बसों की सर्विस के मामले में अफसरों का फोकस ज्यादा आमदनी वाले लंबे रूटों पर है जबकि जिले के ग्रामीणों रूटों पर सर्विस बढ़ाने पर ध्यान नहीं है। यही कारण है हिमाचल के चार, यूपी के तीन, उत्तराखंड के दो रूटों पर सर्विस देने के साथ डिपो की बसों दिल्ली के 19 व चंडीगढ़ के 16 फेरे लगा रही हैं, वहीं जिले में महज 26 से 30 ग्रामीणों रूटों पर ही बसें हैं।

कई ग्रामीण रूटों पर तो लंबे अर्से से बस सेवाएं बंद हैं और जो ग्रामीण रूट चल रहे हैं, उन पर भी बसों के एक या दो फेरे ही हैं। जबकि जिले में रोडवेज बसों के ज्यादा पास होल्डर ग्रामीणों रूटों के ही हैं, इनमें शामिल विद्यार्थी व नौकरीपेशा वर्ग अपने रूटों पर बसें न होने या कम होने की परेशानी झेेल रहे हैं। अभी यमुनानगर डिपो से साढौरा, मंगलौर, पाबनी, अजीतपुर, लाल छप्पर, गुमथला, गढ़ी बीरबल, सरस्वती नगर, गुमथला, हिरन छप्पर, जमालपुर, गिलोर माजरी, मुस्तफाबाद, दौलतपुर, जागधोली, रणजीतपुर, कोटला, गाढ़वाली, नगली, मदीपुर, डारपुर, बनियावाला, प्रतापनगर, हाफिजपुर, बेगमपुरा, भूड़कलां, थाना छप्पर रूटों पर ही बसों की सर्विस है। इनमें ज्यादातर पर बसें दिन में एक ही फेरा लगाती हैं।

इनके अलावा दूसरे जिलों के रूटों की बसें रास्ते में पड़ने वाले जिले के ग्रामीण इलाकों के बसें स्टॉप पर बसें भी रुकती हैं। बाकी ग्रामीण रूटों पर बस सर्विस नहीं है। दर्जनों ग्रामीण रूट हैं, जो लंबे अर्से से बंद हैं। इससे ज्यादा परेशानी नौकरीपेशा व शिक्षण संस्थानों के छात्र-छात्राओं को हो रही है।
ग्रामीण रूटों पर ही ज्यादा पास होल्डर, तब भी सर्विस कम
हरियाणा रोडवेज के यमुनानगर डिपो पर ज्यादा बस पास होल्डर जिले के ग्रामीण रूटों के ही हैं, जिनमें काफी संख्या में विद्यार्थी व नौकरीपेशा लोग शामिल हैं। इसके बाद भी ग्रामीण रूटों पर सर्विस कम है या बंद है। इसके चलते परेशानी झेल रहे लक्ष्य, रोहित, लोकेश, अनिता, सोनिया, अंजनी ने बताया कि अपने-अपने ग्रामीण इलाकों से वह यमुनानगर व जगाधरी के शिक्षण संस्थानों में पढ़ने आते हैं। कई विद्यार्थियों को उनके गांव से कई किलोमीटर दूर से सुबह बस मिलती है, उसमें भी भीड़ ज्यादा होती है। इस कारण खासकर छात्राएं बस में नहीं चढ़ पाती हैं। बस पास बनाने के बाद भी उन्हें ज्यादातर दिन किराया खर्च करके या अपने निजी वाहनों पर आना-जाना पड़ता है। वापसी में यमुनानगर व जगाधरी बस स्टैंड से देर शाम ग्रामीण रूटों के लिए बसें नहीं मिलती या कई घंटे इंतजार के बाद मिलती हैं। इन सब के बीच सर्दियों में घर से शिक्षण संस्थानों तक आना-जाना मुसीबत सा लगता है। यही परेशानी रोडवेज बसों से ग्रामीण इलाकों से रोज आते-जाते नौकरीपेशा लोगों को है। इसलिए उनकी मांग है कि लांग रूटों के बजाय रोडवेज की बसों से जिले के सभी ग्रामीण रूटों पर सर्विस दी जाए।
वर्जन
मांग के मुताबिक ग्रामीण सहित दूसरे रूटों पर बसों की सर्विस दी जा रही है। पूरा प्रयास है कि रोडवेज के यात्रियों को किसी तरह की परेशान न आने दी जाए। - बलिंद्र शर्मा, ड्यूटी इंस्पेक्टर, यमुनानगर डिपो।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00