लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Haryana ›   Yamuna Nagar ›   Rain disturbed life, the wishes of the farmers washed away

बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त, धुले किसानों के अरमान

Amar Ujala Bureau अमर उजाला ब्यूरो
Updated Mon, 26 Sep 2022 02:12 AM IST
Rain disturbed life, the wishes of the farmers washed away
Rain disturbed life, the wishes of the farmers washed away - फोटो : Yamuna Nagar
विज्ञापन
ख़बर सुनें
यमुनानगर। जिले में पांच दिन से हो रही बारिश से जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया। पानी ने किसानों के अरमानों को धो डाला। भारी बारिश के कारण लोगों के दिनचर्या के काम नहीं हो पा रहे हैं। बच्चे स्कूल तो नौकरीपेशा काम पर नहीं जा पा रहे हैं। सड़कों का बुरा हाल हो गया है। नेशनल हाईवे गड्ढों में तब्दील होकर तालाब सा नजर आता है। रोज लोग गड्ढों के कारण चोटिल हो रहे हैं। वहीं रेहड़ी फड़ी लगाने वालों का कई दिन से धंधा चौपट पड़ा है। लोगों को अब भाजी तरकारी, दूध इत्यादि आवश्यक चीजों के लिए परेशान होना पड़ रहा है।

बारिश के कारण लोग बाजार नहीं जा पा रहे और सब्जी विक्रेता रेहड़ी नहीं लगा रहे। वहीं दूसरी तरफ पहले से चौपट शहर की व्यवस्था और भी बदहाल हो गई है। जगह जगह गंदगी फैली नजर आ रही है। पानी में सड़ने से कचरे से भरे कूड़ेदान भयंकर बदबू फैला रहे हैं। शहर के सभी नाले ओवरफ्लो होकर बह रहे हैं। ओवरफ्लो सीवरेज घरों में बैक मारने लगे हैं। बारिश से तापमान में भारी गिरावट आई और सुबह शाम ठंडक का एहसास होने लगा है। रविवार को अलसुबह शुरू हुई बारिश दोपहर तक जारी रही। शाम करीब चार बजे बारिश रुकी। इस दौरान अधिकतम तापमान 25.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। जबकि न्यूनतम तापमान 20.4 डिग्री रहा। मौसम विशेषज्ञों के अनुसार इस सप्ताह सोमवार व मंगलवार को भारी की संभावना है।

किसानों को भारी नुकसान, धान हुई बर्बाद
बारिश के कारण सबसे ज्यादा नुकसान किसानों को हुआ है। पककर तैयार हो चुकी धान की फसल कटाई के लिए तैयार है। ऐसे में बारिश व हवा ने किसानों की मेहनत पर पानी फेर दिया है। भारी से जिले में करीब 60 प्रतिशत धान प्रभावित हुई। कई स्थानों पर धान खेत में बिछ गई है। मेहनत पानी में डूबती देख किसानों की आंख से पानी आने लगा है। ऐसे में किसान सरकार की ओर आस भरी निगाहों से देख रहे हैं। भारतीय किसान यूनियन जिलाध्यक्ष संजू गुंदियाना ने बताया कि भारी बारिश से किसानों को बहुत नुकसान हुआ है। धान उत्पादक किसान बर्बाद हो गए हैं। कहा कि सरकार ने सही समय पर खरीद शुरू नहीं की। यदि समय पर खरीद शुरू होती तो अब तक किसान धान मंडी में पहुंचा चुके होते। बारिश के कारण धान का दाना प्रभावित हुआ है। दाना काला हो जाएगा। वहीं पौधे गिरने से धान बर्बाद हो चुकी है। इस बार पैदावार बहुत कम होगी।
डीसी ने शहर के नालों का किया निरीक्षण
यमुनानगर। बारिश के बीच रविवार को डीसी राहुल हुड्डा ने विभिन्न स्थानों का दौरा कर शहर में स्थिति का जायजा लिया। इस दौरान डीसी संत थॉमस स्कूल, त्रिमूर्ति कमेटी चौक, मटका चौक, सेक्टर-17 का नाला, विश्वकर्मा चौक, बस स्टैंड, बाईपास अग्रसेन चौक, जम्मू कॉलोनी इत्यादि क्षेत्रों का दौरा किया। यहां उन्होंने बारिश में जलभराव व निकासी की स्थिति का जायजा लिया। इस दौरान जन स्वास्थ्य एवं जलापूर्ति अभियांत्रिकी विभाग के कार्यकारी अभियंता सुमित गर्ग सहित अन्य अधिकारी भी साथ रहे। डीसी राहुल हुड्डा ने संत थॉमस स्कूल के पास व त्रिमूर्ति कमेटी चौक के पास, सेक्टर-17 के नालों का निरीक्षण किया। यहां उन्होंने एक्सईएन को निर्देश दिए कि नालों की सफाई नियमित रखे। शहर में जलभराव न हो इसका ध्यान रखा जाए।
बारिश से घर की छत गिरी, दादी घायल बाल बाल बचा पोता
साढौरा। पांच दिन से हो रही बारिश से मोहल्ला रामदासिया में कच्चे मकान की छत ढह गई। इस दौरान घर में मौजूद 80 वर्षीय महिला टूटी छत के मलबे में दब गई, जबकि पास मौजूद 15 साल का पोता बाल-बाल बच गया। पोते ने शोर मचाकर लोगों को एकत्र किया और तब जाकर वृद्धा को निकाला। जंगशेर ने बताया कि उसके घर की छत कच्ची है। पांच दिन से हो रही बारिश से घर की छत से पानी टपक रहा था। रविवार को उसकी 80 वर्षीय मां घर में उसके 15 साल के बेटे हर्ष के साथ मौजूद थी। तभी अचानक छत भरभरा कर गिर गई। जिससे उसकी मां मलबे में दबकर घायल हो गई। जबकि उसका बेटा बच गया।
हर्ष के शोर मचाने पर पड़ोसियों ने उसकी मां को मलबे से निकाला और अस्पताल पहुंचाया। चिकित्सकों ने बताया कि दबने शीला देवी की कमर में फैक्चर हो गया है। पार्षद सोनिया ने बताया कि मजदूर जंगशेर का एक कमरा कुछ साल पहले ढह गया था। उसने कई बार आवेदन किया, लेकिन पक्का मकान स्वीकृत नहीं हुआ। अब परिवार से वह छत भी छिन गई है।
विज्ञापन
बारिश से फसल बर्बाद, दोबारा अंकुरित होने लगी धान
प्रतापनगर। लगातार बारिश से फसल पूरी तरह से खराब हो गई है। खेतों में लगी तैयार धान दोबारा अंकुरित होने से किसानों की चिंता बढ़ गई है। धान की फसल दोबारा अंकुरित होने की फोटो व वीडियो किसान सोशल मीडिया पर वायरल कर रहे हैं। किसान अमित शर्मा, राजीव, भूपेंद्र सिंह, जगमाल सिंह ने बताया कि धान की फसल पूरी तरह से तैयार हो चुकी है। किसान धान कटाई की तैयारी कर रहे हैं, लेकिन एक सप्ताह से बे-मौसमी बारिश ने फसल तबाह कर दी है। खेतों में तैयार धान दोबारा अंकुरित होने लगा है। इससे किसानों की चिंता बढ़ गई है। उन्होंने बताया कि इस साल उनकी सारी मेहनत पर पानी फिर गया है। सरकार विशेष गिरदावरी करवाकर पीड़ित किसानों को मुआवजा दे।

Rain disturbed life, the wishes of the farmers washed away

Rain disturbed life, the wishes of the farmers washed away- फोटो : Yamuna Nagar

खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00