विज्ञापन
विज्ञापन
शरद पूर्णिमा पर कराएं श्री कृष्ण की विशेष पूजा, बांके बिहारी मंदिर, वृन्दावन 19 अक्टूबर 2021
Myjyotish

शरद पूर्णिमा पर कराएं श्री कृष्ण की विशेष पूजा, बांके बिहारी मंदिर, वृन्दावन 19 अक्टूबर 2021

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

उपचुनाव: दुनिया के सबसे ऊंचे मतदान केंद्र टशीगंग में पहली बार डाले जाएंगे लोकसभा सीट के लिए वोट

हिमाचल प्रदेश के लाहौल-स्पीति जिले में दुनिया के सबसे ऊंचे मतदान केंद्र टशीगंग में पहली बार मंडी लोकसभा सीट के लिए उपचुनाव में वोट डाले जाएंगे। यह मतदान केंद्र चीन की सीमा से मात्र 10 किलोमीटर दूर 15255 फीट (4650 मीटर) की ऊंचाई पर है। चुनाव आयोग ने इसे मॉडल पोलिंग बूथ घोषित किया है। यहां 65 मतदाता अपना वोट डालेंगे। भले ही इन दिनों यहां कड़ाके की ठंड पड़ रही हो, लेकिन यहां भी चुनावी हलचल गर्म है। 30 अक्तूबर को एक लोस और तीन विस सीटों के लिए मतदान होगा। 

जिला निर्वाचन अधिकारी एवं उपायुक्त लाहौल-स्पीति नीरज कुमार ने कहा कि यदि लोकसभा के उपचुनाव में मौसम खराब रहा तो टशीगंग में टीम को पहुंचाने में चॉपर की भी मदद भी ली जा सकती है। यहां शत-प्रतिशत मतदान करवाने का लक्ष्य रहेगा। वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव में पहली बार टशीगंग में मतदान केंद्र स्थापित किया गया था। विधानसभा के बाद यहां पंचायत चुनाव के लिए मतदान हुआ। पहली बार इस बूथ पर संसदीय सीट के लिए मतदान होगा।

15 घरों की आबादी वाले टशीगंग गांव में भले ही 65 मतदाता हो, लेकिन मौसम खराब हुआ तो यहां मतदान करवाना प्रशासन और चुनाव आयोग के लिए चुनौती से कम नहीं है। इससे पहले 4443 मीटर की ऊंचाई पर स्थित स्पीति का ही हिक्किम दुनिया का सबसे ऊंचा मतदान केंद्र था। स्पीति की किब्बर पंचायत के अंतर्गत टशीगंग गांव के 42 मतदाता विस चुनाव में अपने मत का इस्तेमाल कर चुके हैं। 

बताया जा रहा है कि टशीगंग में इन दिनों सुबह-शाम कड़ाके की ठंड पड़ रही है। यहां दिन-प्रतिदिन तापमान गिरने लगा है। बर्फबारी होने पर पोलिंग बूथ में चुनाव करवाना तो दूर पोलिंग टीमों का बूथों तक पहुंचना भी मुश्किल हो सकता है। इन दिनों लोकसभा उपचुनाव में भाजपा, कांग्रेस नेता और कार्यकर्ता टशीगंग गांव तक पहुंचकर वोट की अपील कर रहे हैं। 
... और पढ़ें
टशीगंग (फाइल फोटो) टशीगंग (फाइल फोटो)

मंडी उपचुनाव: भाजपा लेगी 14 विधायकों का इम्तिहान, चूके तो अगली बार टिकट पर संकट

मंडी लोकसभा सीट पर भाजपा 14 सिटिंग विधायकों का इम्तिहान लेने जा रही है। अगर इनके क्षेत्रों में उपचुनाव के नतीजे सही न रहे तो अगले साल इनके अपने ही टिकट पर संकट मंडराएगा। उपचुनाव वाली चारों सीटों में से भाजपा ने मंडी लोकसभा सीट पर खास फोकस कर दिया है। वरिष्ठ नेताओं ने मंडी संसदीय क्षेत्र के सभी विधायकों और पिछले विधानसभा चुनाव के प्रत्याशियों को रेड सिग्नल दे दिया है कि अगर वे अपने हलकों में चूके तो अगले विधानसभा चुनाव में वे टिकट भी नहीं पाएंगे। कमजोर प्रदर्शन वाले बोर्डों-निगमों के अध्यक्षों-उपाध्यक्षों की भी कुर्सी जाएगी। 

सीएम जयराम ठाकुर के लिए प्रतिष्ठा का सवाल बन चुके उनके गृह संसदीय क्षेत्र मंडी के तहत आने वाले सभी 17 विधानसभा हलकों में प्रचार की जिम्मेवारियां तय हैं। 17 हलकों में से भाजपा के 13 और एक भाजपा समर्थित निर्दलीय विधायक हैं। इस संसदीय क्षेत्र में मंडी जिला के नौ और कुल्लू के चार विधानसभा क्षेत्र हैं। चंबा जिला का एक भरमौर और शिमला जिला का एक रामपुर है। इनके अलावा लाहौल स्पीति और किन्नौर विधानसभा हलके आते हैं।

धर्मपुर को छोड़कर मंडी जिला की अन्य नौ विधानसभा सीटों में से आठ पर भाजपा और एक सीट जोगिंद्रनगर से भाजपा का समर्थन करते एक निर्दलीय विधायक हैं। कुल्लू जिला से भी भाजपा के तीन विधायक हैं और एक कांग्रेस के हैं। यहां मनाली से गोविंद ठाकुर मंत्री हैं। रामपुर और भरमौर से भी भाजपा विधायक हैं। लाहौल स्पीति से तो भाजपा सरकार में मंत्री मारकंडा हैं। किन्नौर और रामपुर में कांग्रेस के विधायक हैं।  

उपचुनाव के नतीजे आने के बाद विधायकों, पूर्व प्रत्याशियों, बोर्डों-निगमों के अध्यक्षों-उपाध्यक्षों की परफॉर्मेंस का आकलन होगा। रिपोर्ट कार्ड बनाकर केंद्रीय नेतृत्व को भेजा जाएगा। - विनोद ठाकुर, प्रदेश प्रवक्ता, भाजपा, हिमाचल प्रदेश
... और पढ़ें

उद्योग विभाग को दिया लक्ष्य: नवंबर महीने के दूसरे पखवाड़े में होगी सेकेंड ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी

हिमाचल प्रदेश में नवंबर के दूसरे पखवाड़े में सेकेंड ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी होगी। इसमें 15 हजार करोड़ रुपये के एमओयू साइन होंगे। सरकार ने उद्योग विभाग को कंपनियों के साथ संपर्क करने के लिए कहा है। हिमाचल में 8 करोड़ तक के एमओयू साइन करने के लिए कंपनियां तैयार हैं। आचार संहिता खत्म होने के बाद बड़ा इवेंट होगा। प्रदेश सरकार इसे शिमला या धर्मशाला में करवाना चाहती है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी या केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को कार्यक्रम में बुलाया जाना है।

उद्योग विभाग के पास 45 सौ एकड़ जमीन उपलब्ध है। प्रदेश सरकार पहले दिल्ली में इवेंट करवाना चाह रही थी। इसमें 5 हजार करोड़ के एमओयू साइन होने थे। उपचुनाव की घोषणा होने से यह मामला लटक गया। अब सरकार ने उद्योग विभाग को ज्यादा से ज्यादा कंपनियों से संपर्क करने के लिए कहा है। यह एमओयू मेडिकल डिवाइस, पर्यटन, एजूकेशन और फार्मा जैसी बड़ी कंपनियों के निवेशकों के साथ होगा। इथेनॉल और फूड प्रोसेसिंग यूनिट स्थापित करने के लिए भी एमओयू साइन होना है।

ये उद्योग स्थापित होने से प्रदेश के हजारों लोगों को रोजगार मिलेगा। उद्योग विभाग के पास 45 सौ एकड़ से ज्यादा जमीन है। इसमें इन उद्योगों को जमीनी स्तर पर उतारा जाना है। यह जमीन कांगड़ा के कंदरोड़ी, ऊना, सिरमौर, सोलन के नालागढ़ और हमीरपुर में है। उद्योग विभाग इथेनॉल प्लांट स्थापित करने पर भी जोर दे रही है। इथेनॉल मक्की और गन्ना से तैयार किया जाता है। इसे पेट्रोल-डीजल में मिलाया जाता है। यह पर्यावरण को प्रदूषित होने से बचाता है।

सेकेंड ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी में 15 हजार करोड़ के एमओयू साइन होने हैं। इसमें उद्योग विभाग को तैयारियां करने के लिए कहा गया है। आचार संहित खत्म होने के बाद यह इवेंट होगा। कोशिश की जा रही है कि इसे धर्मशाला या फिर शिमला में आयोजित किया जाए। - बिक्रम सिंह ठाकुर, उद्योग मंत्री
... और पढ़ें

राहत: एचआरटीसी कर्मचारी नहीं करेंगे हड़ताल, बैठक के बाद लिया फैसला

प्रदेश में सोमवार को होने वाली हिमाचल पथ परिवहन निगम के कर्मचारियों की हड़ताल रविवार देर शाम टल गई। सोमवार से सभी रूटों पर निगम की बसें नियमित दौडेंगी। हिमाचल परिवहन कर्मचारी संयुक्त समन्वय समिति के सचिव खेमेंद्र गुप्ता ने बताया कि सरकार सोमवार को जेसीसी की बैठक बुलाने के लिए तैयार हो गई है, जिसमें उनकी मांगों पर चर्चा होगी। इस कारण हड़ताल वापस ले ली गई है।

परिवहन विभाग के एसीएस जेसी शर्मा ने बताया कि अपराह्न 4 बजे शिमला सचिवालय में जेसीसी की बैठक बुलाई गई है, जिसमें निगम कर्मियों की मांगों पर चर्चा करेंगे। इससे पहले हिमाचल परिवहन कर्मचारी संयुक्त समन्वय समिति और चालक-परिचालक संघ ने यह एलान किया था कि सरकार उनकी दो साल से लंबित मांगें पूरी नहीं कर रही है।

इसलिए सोमवार को निगम के चालक-परिचालक और सभी कर्मचारी हड़ताल पर रहेंगे। निगम के कर्मचारियों की जनवरी 2016 से 13 प्रतिशत आईआर, डीए जनवरी 2019 से 4 प्रतिशत, 5 प्रतिशत जुलाई 2019 से और 6 प्रतिशत जुलाई 2021 से, कुल डीए 15 प्रतिशत, 35 माह का नाइट ओवर टाइम, पेंशन, ग्रेज्युटी आदि मांगें हैं। इन पर सोमवार को होने वाली जेसीसी की बैठक में चर्चा होगी।
... और पढ़ें

हिमाचल में बारिश और बर्फबारी: पर्यटकों के रोहतांग जाने पर रोक, मनाली-लेह मार्ग बंद

फाइल फोटो
हिमाचल में दो दिन के ऑरेंज अलर्ट के बीच रविवार को बारिश और बर्फबारी हुई है। विश्व प्रसिद्ध रोहतांग दर्रे में एक बार फिर बर्फ की सफेद चादर बिछ गई है। बारालाचा, कुंजुम पास, मनाली, लाहौल-स्पीति, धौलाधार और चंबा की ऊंची चोटियों मकरवे, शिकरवे, सेवन सिस्टर पीक, मनाली पीक, लद्दाखी पीक, पतालसू पीक, देउ टिब्बा, हनुमान टिब्बा, शेतीधार, दशोहर लेक, व्यास कुंड, मणिमहेश, कुगति, चौबिया, क्वारसी और जालसू में ताजा हिमपात हुआ है। ताजा बर्फबारी के बाद दो दिन के लिए रोहतांग दर्रे में पर्यटकों के जाने पर रोक लगा दी है। हालांकि, अटल टनल से आवाजाही सुचारु रहेगी। कुल्लू से काजा और किलाड़ से चंबा रूट पर भी बस सेवा बंद कर दी गई है। शनिवार रात से जारी रिमझिम बारिश से प्रदेश के अधिकतम तापमान में 8 और न्यूनतम तापमान में 5 डिग्री की गिरावट आई है। ऊंचे क्षेत्रों में धुंध भी छाई रही। पारे में गिरावट से ठंड बढ़ गई है।
... और पढ़ें

हिमाचल: सरचू में ऑक्सीजन की कमी से पर्यटक की मौत, कुंजुम दर्रे में फंसे सात सैलानियों को किया रेस्क्यू

हिमाचल प्रदेश में रविवार को बारिश और बर्फबारी हुई है। रोहतांग दर्रे में एक बार फिर बर्फ की सफेद चादर बिछ गई है। बारालाचा, कुंजुम पास, मनाली, लाहौल-स्पीति, धौलाधार और चंबा की ऊंची चोटियों के अलावा मणिमहेश में ताजा हिमपात हुआ है। बर्फबारी के बाद दो दिन के लिए रोहतांग दर्रे में पर्यटकों के जाने पर रोक लगा दी है। हालांकि, अटल टनल से आवाजाही सुचारु रहेगी। लाहौल के सरचू में ऑक्सीजन की कमी से पर्यटक की मौत हो गई है जबकि कुंजुम दर्रे से सात पर्यटकों को रेस्क्यू किया गया।

उधर, राजधानी शिमला समेत पूरे प्रदेश में रिमझिम बारिश से ठंड बढ़ गई है। कुल्लू से काजा और किलाड़ से चंबा रूट पर भी बस सेवा बंद कर दी है। शनिवार रात से जारी रिमझिम बारिश से प्रदेश के अधिकतम तापमान में 8 और न्यूनतम तापमान में 5 डिग्री की गिरावट आई है। ऊंचे क्षेत्रों में धुंध छाई रही। शिमला, कुल्लू, मनाली में बारिश के चलते अधिकतर पर्यटक होटलों में दुबके रहे। रविवार सुबह पर्यटक रोहतांग दर्रे में पहुंचे। बर्फ के फाहों में मस्ती की।
... और पढ़ें

उपचुनाव: वीरभद्र फैक्टर भुनाने की कोशिश में चेतन पर बरसे उनके खेमे के कांग्रेस नेता

कोरोना: हिमाचल में एक संक्रमित की मौत, 131 नए मामले, जानें सक्रिय केस

  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00