लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   India News ›   Bihar: From murder, robbery to kidnapping, know what are the allegations against 23 ministers of Bihar?

Bihar: हत्या, लूट से लेकर अपहरण तक, जानें बिहार के 23 मंत्रियों पर क्या-क्या आरोप लगे हैं?

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: हिमांशु मिश्रा Updated Fri, 19 Aug 2022 05:50 PM IST
सार

16 अगस्त को कुल 33 सदस्यों ने मंत्री पद की शपथ ली। इसमें सबसे ज्यादा आरजेडी के 17 में से 15 मंत्रियों पर आपराधिक मामले दर्ज हैं। जेडीयू के 11 में से चार मंत्रियों पर आपराधिक केस दर्ज है। 

नीतीश कुमार
नीतीश कुमार - फोटो : अमर उजाला
ख़बर सुनें

विस्तार

बिहार की नई महागठबंधन सरकार लगातार चर्चा में है। सरकार के मंत्रियों पर आए दिन नए-नए आरोप लग रहे हैं। नीतीश की कैबिनेट के 33 में से 23 मंत्रियों पर आपराधिक मामले दर्ज हैं। आरजेडी के 17 में से 15 मंत्रियों पर आपराधिक मामले दर्ज हैं। जेडीयू के 11 में से चार मंत्रियों पर आपराधिक केस दर्ज है। इसके अलावा कांग्रेस कोटे से दो, हिंदुस्तानी आवाम मोर्च (सेक्युलर) के एक और एक निर्दलीय विधायक को भी नीतीश कुमार की कैबिनेट में शामिल किया गया है। इन सभी पर भी आपराधिक मुकदमे हैं। 




जिन 23 मंत्रियों पर आपराधिक मामले हैं, उनमें से 17 पर हत्या, लूटपाट, हत्या की कोशिश समेत गंभीर आरोप हैं। आइये जानते हैं किस मंत्री पर कितने और क्या-क्या लगे हैं आरोप? 
 

नीतीश कुमार
नीतीश कुमार - फोटो : अमर उजाला
1. नीतीश कुमार, मुख्यमंत्री : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर कुल तीन धाराओं में एक मुकदमा दर्ज है। इनमें हत्या, हत्या की कोशिश, दंगा भड़काने जैसे गंभीर आरोप हैं। नीतीश आठवीं बार बिहार के मुख्यमंत्री बने हैं। इन्होंने इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है। 
 

तेजस्वी यादव
तेजस्वी यादव - फोटो : अमर उजाला
2. तेजस्वी यादव: बिहार के उप-मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव नीतीश कैबिनेट के सबसे दागी मंत्री हैं। उनके ऊपर 11 मुकदमे चल रहे हैं। चार गंभीर धाराओं में ये मामले दर्ज हैं। डिप्टी सीएम पर घातक हथियार से हमला करने, हत्या, धोखाधड़ी जैसे आरोप शामिल हैं। तेजस्वी ने केवल आठवीं तक की पढ़ाई की है। तेजस्वी के पास कुछ 5.88 करोड़ रुपये की संपत्ति है।  
 

बिहार मंत्रिमंडल
बिहार मंत्रिमंडल - फोटो : अमर उजाला
3. सुरेंद्र प्रसाद यादव: 61 साल के आरजेडी विधायक सुरेंद्र प्रसाद यादव भी नीतीश कैबिनेट में मंत्री बनाए गए हैं। तेजस्वी यादव के बाद सुरेंद्र दूसरे ऐसे मंत्री हैं, जिनपर सबसे ज्यादा आपराधिक मामले दर्ज हैं। हत्या का प्रयास, दूसरों की प्रॉपटी पर कब्जा करना, चुनाव को प्रभावित करने जैसे आरोप हैं। 

4. आलोक कुमार मेहता : समस्तीपुर के उजियारपुर से राजद विधायक आलोक कुमार मेहता पर तीन आपराधिक मामले दर्ज हैं। इसमें सरकारी सड़क, पुल को क्षति पहुंचाने, दंगा भड़काने, सरकारी आदेश की अवहेलना करने जैसे आरोप हैं। 

5. कार्तिक कुमार : राजद नेता कार्तिकेय कुमार को लेकर ही सबसे पहले विवाद शुरू हुआ। उनके ऊपर अपहरण के मामले में कोर्ट में पेश नहीं होने का आरोप लगा। बाहुबली अनंत सिंह के करीबे 53 साल के कार्तिक पर कुल चार मुकदमे दर्ज हैं। तीन गंभीर धाराएं लगी हैं। कार्तिक पर चोरी, अपहरण, दंगा भड़काने जैसे गंभीर आरोप हैं। 

6. संजय कुमार झा : जदयू विधायक संजय कुमार झा भी कैबिनेट में शामिल हुए हैं। संजय पर दो आपराधिक मामले दर्ज हैं। इसमें एक गंभीर आरोप है। संजय पर चुनाव के दौरान पैसा बांटने का आरोप है। 

7. ललित कुमार यादव : राजद कोटे से मंत्री बने ललित कुमार यादव पर एक मुकदमा दर्ज है। उन पर कोरोना महामारी के नियमों के उल्लंघन, सरकारी अफसर के आदेशों की अवहेलना करने का आरोप है। ललित के पास कुल दो करोड़ रुपये की संपत्ति है। इन्होंने परास्नातक तक की पढ़ाई की है। 

8. डॉ. रामानंद यादव : राजद कोटे से मंत्री बने डॉ. रामानंद यादव पर कुल छह धाराओं में चार आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं। इसमें जान से मारने की धमकी देना, रंगदारी मांगना, दूसरों की जमीन पर कब्जा करने जैसे आरोप है। रामानंद ने डॉक्टरेट किया है। इनके पास 10 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति है। 

9. सुधाकर सिंह : राजद के सुधाकर सिंह पर भी दो आपराधिक मामले दर्ज हैं। 420, 406, 341, 342 जैसी धाराएं लगी हैं। सुधाकर के पास कुल पांच करोड़ रुपये की संपत्ति है। 

10. जितेंद्र कुमार राय : मरहौरा से राजद विधायक जितेंद्र कुमार राय पर कुल पांच आपराधिक मामले दर्ज हैं। इनमें 506, 379, 171-H, 354 जैसी गंभीर धाराएं लगी हैं। इन धाराओं के अंतर्गत चोरी, चुनाव के दौरान गलत तरीके से पैसे बांटने जैसा आरोप है। 
 

राजद नेता तेज प्रताप यादव
राजद नेता तेज प्रताप यादव - फोटो : फेसबुक/तेज प्रताप यादव
11. तेज प्रताप यादव : लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव पर पांच मुकदमे दर्ज हैं। इनमें तीन गंभीर धाराएं लगी हैं। उनके ऊपर हत्या, चोट पहुंचाने, सरकारी आदेश की अवहेलना करने जैसे आरोप लगे हैं। 

12. संतोष कुमार सुमन : हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा कोटे से मंत्री बने संतोष कुमार सुमन पर भी दो आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं। संतोष पर आईपीसी की 325, 188, 143, 109, 147 जैसी गंभीर धाराएं लगीं हैं। इनमें दंगा भड़काना, किसी को गंभीर चोट पहुंचाना, सरकारी आदेश की अवहेलना करने जैसा आरोप है। 

13. चंद्रशेखर : राजद कोटे के मंत्री चंद्रशेखर पर भी दो आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं। आईपीसी की धारा 188, 269, 270, 482, 427, 353 के तहत चंद्रशेखर पर एफआईआर है। 

14. मदन सहनी : जदयू के मदन साहनी पर दो धाराओं में दो केस दर्ज हैं। ये दोनों सरकारी आदेश की अवहेलना के आरोप में दर्ज हुए थे। 

15. सुरेंद्र राम : राजद  सुरेंद्र राम पर चार आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं। सुरेंद्र पर धोखाधड़ी, किसी को नुकसान पहुंचाना, दंगा भड़काने जैसे आरोप लगे हैं। 

16. मोहम्मद इजराइल मंसूरी : कांति विधानसभा सीट से विधायक मोहम्मद इजराइल मंसूरी पर दो आपराधिक मुकदमे हैं। दंगा भड़काना, पब्लिक रोड, ब्रिज आदि को नुकसान पहुंचाने का भी आरोप लगा है।

17. मोहम्मद जमा खान : जदयू के जमा खान पर हत्या के प्रयास, सरकारी आदेशों की अवहेलना करना, किसी को चोट पहुंचाने जैसे आरोप लगे हैं। 

इन पर एक-एक मुकदमे 
कुमार सर्वजीत,  सुमित कुमार सिंह, शहनवाज, अनीता देवी, मोहम्मद अफाक आलम, मुरारी प्रसाद गौतम पर हत्या, हत्या के प्रयास जैसे आरोप लगे हैं।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00