लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   India News ›   Controversy on gender-neutral oath of Kudumbashree in Kerala

Kerala: पिता की संपत्ति पर बेटा-बेटी के लिए समान अधिकार की शपथ, विरोध में उतरे मुस्लिम धर्म गुरु

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, कोझिकोड Published by: गुलाम अहमद Updated Sat, 03 Dec 2022 07:54 PM IST
सार

कुदुम्बश्री मिशन केरल सरकार की योजना है। हाल ही में एक बयान में कहा गया है कि शपथ एक सर्कुलर का हिस्सा है, जो राज्य सरकार के गरीबी उन्मूलन मिशन कुदुम्बश्री के जिला समन्वयक की बैठकों के दौरान जारी किया गया है। सर्कुलर में कहा गया है कि हम संपत्ति पर बेटा और बेटी दोनों के लिए समान अधिकार प्रदान करेंगे।

प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर - फोटो : फाइल फोटो

विस्तार

केरल में कुदुम्बश्री स्वयंसेवकों को दिलाई जाने वाली एक प्रतिज्ञा पर विवाद हो गया है। कुछ इस्लामी विद्वानों ने इसका विरोध किया है और कहा कि प्रतिज्ञा के कुछ हिस्से धार्मिक स्वतंत्रता का उल्लंघन करते हैं. साथ ही ये कुरान के सिद्धांतों के खिलाफ हैं। बता दें, प्रतिज्ञा का एक भाग कहता है कि पिता की संपत्ति पर बेटे और बेटियों  का समान अधिकार होना चाहिए। केरल की एक प्रभावशाली मुस्लिम संस्था के प्रमुख नेता नसर फैजी कूडाथाई ने इसका खुल कर विरोध किया है। 


कुदुम्बश्री मिशन केरल सरकार की योजना है। हाल ही में एक बयान में कहा गया है कि शपथ एक सर्कुलर का हिस्सा है, जो राज्य सरकार के गरीबी उन्मूलन मिशन कुदुम्बश्री मिशन के जिला समन्वयक की बैठकों के दौरान जारी किया गया है। सर्कुलर में कहा गया है कि हम संपत्ति पर बेटा और बेटी दोनों के लिए समान अधिकार प्रदान करेंगे।


'प्रतिज्ञा धार्मिक स्वतंत्रता के खिलाफ'
इसका विरोध करते हुए कूडाथाई ने एक फेसबुक पोस्ट में कहा कि प्रतिज्ञा संविधान द्वारा दी गई धार्मिक स्वतंत्रता के मौलिक अधिकारों के खिलाफ है। उन्होंने कहा कि केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय के लिंग अभियान के तहत केरल सरकार कुदुम्बश्री मिशन के जरिए कई सराहनीय योजनाएं चला रही है। साथ ही उन्होंने दावा किया कि उनमें से कुछ धार्मिक स्वतंत्रता के मौलिक अधिकारों का उल्लंघन करने वाले हैं।

कूडाथाई ने कहा कि कुदुम्बश्री की बैठक के चौथे सप्ताह में एक प्रतिज्ञा लेने का प्रस्ताव है। जिसका अंतिम भाग महिला सदस्यों से यह संकल्प लेने के लिए कहता है- हम बेटे और बेटियों को समान रूप से संपत्ति का अधिकार देंगे। उन्होंने दावा किया कि कुरान के सिद्धांत के मुताबिक पिता की संपत्ति में बेटे का हिस्सा दो बेटियों के बराबर होता है। उन्होंने आगे कहा कि इसे बेटियों के प्रति भेदभाव नहीं माना जा सकता क्योंकि परिवार की देखभाल की पूरी जिम्मेदारी पुरुष की होती है। इस सिद्धांत में भेदभाव का आरोप लगाने वालों को यह नहीं दिख रहा कि पुरुष सदस्य को सबकुछ सहन करना पड़ता है। इस्लामी विद्वान ने चेतावनी दी कि कुदुम्बश्री की प्रतिज्ञा निश्चित रूप से विवाद को जन्म देगी।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00