लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   India News ›   INS-Vikrant a historic event, it is an example of self-reliance... said Navy Chief Admiral R Hari Kumar

R Hari Kumar: चीन की निगरानी के लिए प्रिडेटर ड्रोन खरीदने की प्रक्रिया जारी, नौसेना प्रमुख ने दी जानकारी

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: प्रांजुल श्रीवास्तव Updated Sat, 03 Dec 2022 02:29 PM IST
सार

नौसेना अध्यक्ष ने कहा, आईएनएस-विक्रांत हमारी स्वदेशी क्षमता का प्रतीक है यह हमारे आत्मविश्वास को दर्शाता है।

नौसेना अध्यक्ष एडमिरल आर हरि कुमार
नौसेना अध्यक्ष एडमिरल आर हरि कुमार - फोटो : ANI

विस्तार

भारत, अमेरिका से प्रिडेटर ड्रोन खरीदने की तैयारी कर रहा है। शनिवार को नौसना प्रमुख एडमिरल आर हरि कुमार ने बताया कि तीन बिलियन अमेरिकी डॉलर से अधिक की लागत से 30 MQ-9B प्रिडेटर ड्रोन खरीदने की प्रक्रिया लंबित है। बता दें, यह वही प्रिडेटर ड्रोन है, जिनके माध्यम से हेलफायर मिसाइल को लॉन्च किया गया था और अलकायदा के आतंकी अल-जवाहिरी का खात्मा किया गया था। 



नौसेना दिवस से एक दिन पहले वार्षिक संवाददाता सम्मेलन के दौरान नौसेना प्रमुख ने कहा, हिंद महासागर में चीन की निगरानी के लिए यह खरीद प्रस्तावित है। उन्होंने बताया, लंबित प्रस्ताव के तहत भारतीय सेना की तीनों विंग को 10 ड्रोन मिलने की संभावना है।


नौसेना का 2047 तक आत्मनिर्भर बनने का लक्ष्य
नौसेना प्रमुख एडमिरल आर हरि कुमार ने शनिवार को कहा कि भारतीय नौसेना इस बात पर विचार कर रही है कि क्या स्वदेशी विमानवाहक पोत (आईएसी) II को अपनाया जाए या फिर आईएसी I के लिए दोबारा ऑर्डर दिया जाए। नौसेना का 2047 तक आत्मनिर्भर बनने का लक्ष्य है। नौसेना दिवस से पहले मीडिया से बात करते हुए, एडमिरल कुमार ने कहा कि अमेरिका से प्रीडेटर ड्रोन के एक बेड़े की प्रस्तावित खरीद की प्रक्रिया चल रही है और यह कि नौसेना असंख्य सुरक्षा चुनौतियों से निपटने के लिए एक प्रमुख क्षमता वृद्धि के रास्ते पर है।

चीनी गतिविधियों पर रहती है पैनी नजर 
वायु सेना अध्यक्ष ने कहा, हिंद महासागर क्षेत्र में बहुत सारे चीनी जहाज रहते हैं। इसमें  4-6 पीएलए नौसेना के जहाज हैं, फिर कुछ अन्य पोत हैं। उन्होंने कहा, हिंद महासागर क्षेत्र में बड़ी संख्या में चीनी जहाज मछली पकड़ने के लिए संचालित होते हैं। हम सभी घटनाक्रमों पर पैनी नजर रखते हैं। उन्होंने बताया, हिंद महासागर क्षेत्र में लगभग 60 अन्य अतिरिक्त-क्षेत्रीय बल हमेशा मौजूद रहते हैं। यह एक महत्वपूर्ण क्षेत्र है जहां बड़ी मात्रा में व्यापार होता है। हमारा काम यह देखना है कि समुद्री क्षेत्र में भारत के हितों की रक्षा हो।

INS-विक्रांत ऐतिहासिक घटना
नौसेना अध्यक्ष एडमिरल आर हरि कुमार ने आईएनएस विक्रांत के शामिल होने को को देश और नौसेना के इतिहास में एक ऐतिहासिक घटना करार दिया है। उन्होंने कहा, INS-विक्रांत आत्मनिर्भरता की मशाल वाहक है। बहुत कम देश ऐसे हैं, जिनके पास विमानवाहक पोत बनाने की क्षमता है और हम उन चुनिंदा देशों में शामिल हैं। यह बातें नौसेना अध्यक्ष ने नौसेना दिवस की पूर्व संध्या पर कहीं। नौसेना अध्यक्ष ने कहा, आईएनएस-विक्रांत हमारी स्वदेशी क्षमता का प्रतीक है यह हमारे आत्मविश्वास को दर्शाता है। उन्होंने कहा, इसने दुनिया में देश को कद को ऊंचा किया है। उन्होंने कहा, मुझे यकीन है कि विक्रांत आने वाले वर्षों में हिंद-प्रशांत क्षेत्र में गर्व से तिरंगा फहराएगा। 

प्रधानमंत्री मोदी ने किया था कमीशन 
एडमिरल आर हरि कुमार ने कहा, देश के पहले स्वदेशी विमान वाहक पोत आईएनएस विक्रांत को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा कोच्चि में कमीशन किया गया था। यह नौसेना के नेतृत्व, योजनाकारों, शिपयार्ड श्रमिकों, उद्योग और अन्य सहायक एजेंसियों के अथक प्रयास का दर्शाता है। 

विज्ञापन


अग्निवीर के पहले बैच में 341 महिलाएं 
नौसेना अध्यक्ष ने कहा, अग्निवीरों के पहले बैच में 3000 अग्निवीर नौसेना में शामिल हुए हैं। इसमें 341 महिलाएं हैं। उन्हाेंने कहा, हम महिला अधिकारियों को सभी ब्रांचों में शामिल करने पर विचार कर रहे हैं। अभी तक केवल सात से आठ ब्रांचों तक ही महिलाएं सीमित हैं। नौसेना अध्यक्ष ने कहा, यह पहली बार है जब महिलाओं को उनके पुरुष समकक्षों की तरह ही शामिल किया जा रहा है। यह चयन का एक समान तरीका है। वे समान परीक्षणों से गुजर रही हैं। नौसेना अध्यक्ष ने आगे कहा, महिलाओं को जहाजों, एयरबेसों और विमानों पर तैनात किया जाएगा। उन्हें हर चीज के लिए प्रशिक्षित किया जाएगा। महिलाओं के प्रशिक्षण में कोई अंतर नहीं आने वाला है। 

 

विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00