लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   India News ›   Maharashtra: Neelam Gorhe reprimands Gulabrao Patil says You are ministers at your home

Maharashtra: नीलम गोरे ने गुलाबराव पाटिल को लगाई फटकार, कहा-आप अपने घर पर मंत्री हैं, यहां बैठ जाएं

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, मुंबई Published by: शिव शरण शुक्ला Updated Thu, 18 Aug 2022 10:15 PM IST
सार

हंगामे के दौरान उपसभापति नीलम गोरे ने कहा कि आप इधर-उधर की बातें कर रहे हैं। आप कृपया बैठ जाइए। यह प्रश्न आपके विभाग से संबंधित नहीं है। यह सवाल केसरकर के विभाग से संबंधित है। इसके बाद भी जब मामला शांत नहीं हुआ तो उन्होंने गुलाबराव पाटिल को फटकार लगा दी।

महाराष्ट्र सरकार में मंत्री गुलाबराव पाटिल
महाराष्ट्र सरकार में मंत्री गुलाबराव पाटिल - फोटो : facebook/gulabraojipatil
ख़बर सुनें

विस्तार

महाराष्ट्र विधान परिषद में गुरुवार को जमकर हंगामा हुआ। यहां मानसून सत्र के दौरान उपसभापति नीलम गोरे और राज्य के कैबिनेट सदस्य गुलाबराव पाटिल के बीच जुबानी जंग हो गई। बातचीत इतनी बढ़ गई कि अंत में उपसभापति नीलम गोरे ने गुलाबराव पाटिल को लताड़ते हुए कहा कि आप अपने घर में मंत्री हैं। 



क्या था मामला
ये बहस तब शुरु हुई जब राज्य के स्कूल शिक्षा मंत्री दीपक केसरकर उच्च सदन में एक प्रश्न का उत्तर दे रहे थे। वहीं विपक्ष केसरकर के जवाब से असंतुष्ट था और हंगामा कर रहा था। शिवसेना एमएलसी मनीषा कयांडे ने बताया कि विपक्ष के हंगामे के बीच ही जल आपूर्ति और स्वच्छता मंत्री गुलाबराव पाटिल ने अपनी सीट से बोलना शुरू कर दिया। उनके बोलने से विपक्षी विधायक और नाराज हो गए और सदन के वेल में आ गए। 


उपसभापति नीालम गोरे ने लगाई फटकार
इस पर नीलम गोरे ने कहा कि आप इधर-उधर की बातें कर रहे हैं। आप कृपया बैठ जाइए। यह प्रश्न आपके विभाग से संबंधित नहीं है। यह सवाल केसरकर के विभाग से संबंधित है। इसके बाद भी जब मामला शांत नहीं हुआ तो उन्होंने आगे कहा कि 'गुलाबराव पाटिल जी, मैंने समय-समय पर आपको चेतावनी दी है, आपसे अनुरोध किया है। तुरंत अपनी सीट ले लीजिए। सदन में यह कैसा व्यवहार है?' 

इस पर जवाब मांगते हुए गुलाबराव पाटिल ने कहा कि 'मैं मंत्री हूं और मुझे बोलने का मौका दिया जाना चाहिए।' उनके इस जवाब पर नीलम गोरे ने नाराज होते हुए कहा कि 'क्या होगा यदि आप मंत्री हैं। आप अपने घर में मंत्री हैं। अपना आसन ग्रहण करें।' सत्तारूढ़ सहयोगी भारतीय जनता पार्टी के विधान परिषद (एमएलसी) के सदस्य सुरेश धस ने बाद में उपसभापति से उनकी टिप्पणी को परिषद के रिकॉर्ड से हटाने का अनुरोध किया। जिस पर गोरे ने कहा कि वह उनकी जांच करेंगी।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00