लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   India News ›   Police issued show cause notice Even court granted permission for padyatra ysrtp chief

Politics: YSRTP प्रमुख शर्मिला बोलीं- कोर्ट से पदयात्रा की अनुमति के बाद भी पुलिस भेज रही नोटिस, डरते हैं KCR

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, हैदराबाद Published by: निर्मल कांत Updated Sun, 04 Dec 2022 05:49 PM IST
सार

वाईएसआर तेलंगाना पार्टी प्रमुख ने कहा कि वह अपनी पदयात्रा को फिर से शुरू करना चाहती हैं। लेकिन पुलिस ने उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया है। कोर्ट ने इसके लिए अनुमति दे दी थी।

YSR Sharmila
YSR Sharmila - फोटो : ANI

विस्तार

वाईएसआर तेलंगाना पार्टी प्रमुख ने कहा कि वह अपनी पदयात्रा को फिर से शुरू करना चाहती हैं। लेकिन पुलिस ने उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया है। कोर्ट ने इसके लिए अनुमति दे दी थी। वाई.एस. शर्मिला ने कहा कि तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसीआर वाईएसआरटीपी से डरते हैं, क्योंकि लोग उन्हें एक विकल्प के रूप में देखने लगे हैं। 


 

पीएम नरेंद्र मोदी।
पीएम नरेंद्र मोदी। - फोटो : सोशल मीडिया
केसीआर ने पीएम मोदी और भाजपा पर साधा निशाना
वहीं, राज्य के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने प्रधानमंत्री मोदी पर राज्यसरकार उखाड़ फेंकने की बात कहने का आरोप लगाया। केसीआर ने दावा किया कि कुछ चोर टीआरएस विधायकों को बांटने आए हैं और दोषियों को जेलों में डाल दिया गया है। 

एक जनसभा को संबोधित करते हुए केसीआर ने कहा, अगर केंद्र सरकार का सहयोग होता तो सकल घरेलू उत्पाद (जीएसडीपी) 11.50 करोड़ रुपये के बजाय 14.50 लाख करोड़ रुपये होता। 3 लाख करोड़ रुपये का घाटा हुआ है। 

 

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव
तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव - फोटो : फेसबुक/केसीआर
राजनीतिक लाभ के लिए फैलाई जा रही नफरत : केसीआर
उन्होंने बिना नाम लिए भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि आज देश की जीवन रेखा को संकीर्ण राजनीतिक लाभ के लिए खराब किया जा रहा है और विपक्षी नेताओं पर हमले किए जा रहे हैं, लोगों में नफरत फैलाई जा रही है। 

मुख्यमंत्री राव ने कहा, प्रधानमंत्री कहते हैं, केसीआर..मैं आपकी सरकार को बाहर कर दूंगा। हमें इससे क्या समझना चाहिए? क्या हम आपकी तरह एक चुनी हुई सरकार नहीं हैं? क्या हम लोगों के जनादेश के बिना जीते हैं? आप किस वजह मेरी सरकार को उखाड़ फेंकेंगे। उन्होंने सवाल किया, क्या कोई प्रधानमंत्री पश्चिम बंगाल जाकर कह सकता है कि आपके चालीस विधायक मेरे संपर्क में हैं। क्या वह ऐसा कह सकते हैं?

उन्होंने आगे कहा कि जनता तय करेगी कि किसकी क्या भूमिका होनी चाहिए। वह शासन करे या विपक्ष में बैठे। सत्ताधारी सरकार को इसमें दखल दिए बिना पांच साल तक काम करने दिया जाना चाहिए।
 

बिजली
बिजली - फोटो : अमर उजाला
गुजरात में नहीं चौबीस घंटे बिजली की आपूर्ति
उन्होंने कृष्णा नदी में राज्य के हिस्से के पानी को लेकर केंद्र की एनडीए सरकार की आलोचना की और कहा कि इस मुद्दे पर वह स्पष्ट रूप से सामने नहीं आ रही है। अपनी सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए उन्होंने कहा कि गुजरात में चौबीस घंटे बिजली की आपूर्ति नहीं है और पश्चिमी राज्यों में अभी भी पीने के पानी की सुविधा नहीं है।

राव ने आरोप लगाया, गुजरात में भी चौबीस घंटे बिजली आपूर्ति और पीने के पानी की सुविधा पूरी तरह से नहीं है। यहां तक कि राष्ट्रीय राजनधानी में भी बिजली कटौती और पेयजल की कमी है। 
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00