बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW
विज्ञापन
विज्ञापन
SBI भर्ती 2021: शुरू होने वाली है भारतीय स्टेट बैंक में क्लर्क भर्ती, ऐसे करें तैयारी
Safalta

SBI भर्ती 2021: शुरू होने वाली है भारतीय स्टेट बैंक में क्लर्क भर्ती, ऐसे करें तैयारी

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

अरनिया-आरएस पुरा जम्मू नार्को-टेररिज्म मामला: एनआईए ने सात के खिलाफ दायर किया आरोप पत्र

एनआईए ने अरनिया-आरएस पुरा जम्मू नार्को-टेररिज्म मामले में सात तस्करों के खिलाफ आरोप-पत्र दायर किया है। जांच में यह तथ्य सामने आया है कि आरोपी आतंकवादी संगठन बब्बर खालसा(बीकेआई) के नार्को-आतंकवाद मॉड्यूल का हिस्सा थे। अभी मामले की जांच चल रही है।

इस मॉड्यूल का मुख्य उद्देश्य बीकेआई के लिए नशीले पदार्थों की आय के माध्यम से धन जुटाना था। इस साजिश में मॉड्यूल के हर सदस्य की भूमिका और जिम्मेदारी थी। जम्मू क्षेत्र में अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर मादक पदार्थों और हथियारों की तस्करी और पंजाब में आपूर्ति और बिक्री शामिल थी।

नशीले पदार्थों की आय का उपयोग बीकेआई की आतंकवादी गतिविधियों के वित्तपोषण के लिए किया जाना था। तस्करी किए गए हथियारों का इस्तेमाल बीकेआई के सदस्यों द्वारा आतंकवादी कृत्यों के लिए किया जाना था। अभियुक्तों की गिरफ्तारी के बाद और आगे की कार्रवाई में 9,06,300 रुपये की नशीली दवाओं की बरामदगी हुई थी।

ये भी पढ़ें-
कोबरा कमांडो राकेश्वर सिंह की कहानी: जानिए कौन हैं वो छह लोग जिन्होंने नक्सलियों की कैद से छुड़ाया    
... और पढ़ें
एनआईए, फाइल फोटो एनआईए, फाइल फोटो

बडगाम पुलिस को बड़ी कामयाबी: आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के तीन मददगार गिरफ्तार

घाटी में पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। लश्कर-ए-तैयबा के तीन मददगारों को गिरफ्तार किया गया है। जिसने पूछताछ जारी है। जिसमें कई अहम खुलासे होने की संभावना भी जताई जा रही है।

बता दें कि बडगाम पुलिस को इलाके में आतंकी गतिविधि की सूचना मिली थी। इसी सूचना के आधार पर पुलिस ने ऑपरेशन शुरू किया और आतंकियों के तीन मददगारों को गिरफ्तार करने में सफलता पाई। सूत्रों का कहना है कि यह तीनों आतंकियों को शरण देने, रसद मुहैया कराने के साथ ही रेकी करने में भी शामिल थे। पुलिस ने संबंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया है।

ये भी पढ़ें-
कोबरा कमांडो राकेश्वर सिंह की कहानी: जानिए कौन हैं वो छह लोग जिन्होंने नक्सलियों की कैद से छुड़ाया    
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर: जेके बोर्ड की 11वीं की परीक्षाएं स्थगित, सार्वजनिक कार्यक्रमों में 100 से अधिक लोगों के शामिल होने पर रोक

जम्मू-कश्मीर में कोरोना संक्रमण को बढ़ता हुआ देखकर जम्मू-कश्मीर बोर्ड की 11वीं कक्षा की परीक्षाओं को स्थगित कर दिया गया है। वहीं सार्वजनिक कार्यक्रमों में 100 से अधिक लोगों के शामिल होने पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई है। यदि किसी भी कार्यक्रम में 100 से अधिक लोग होंगे उनपर सख्त कार्रवाई की जाएगी। बता दें कि इससे पहले जम्मू-कश्मीर में सार्वजनिक कार्यक्रमों में 200 लोग शामिल हो सकते थे, जिसे अब प्रशासन द्वारा घटाकर 100 कर दिया गया है।


जम्मू-कश्मीर में कोविड संक्रमण की रफ्तार लगातार बढ़ती जा रही है। शुक्रवार को छठे दिन भी प्रदेश में एक हजार से ऊपर 1144 नए संक्रमित मामले मिले। इसमें कश्मीर संभाग से 730 मामले हैं। प्रदेश में सक्रिय मामलों का आंकड़ा बढ़कर 10620 तक पहुंच गया है। पिछले चौबीस घंटे में जम्मू और कश्मीर संभाग में 1-1 व्यक्ति की कोरोना से मौत हो गई। प्रदेश में अब तक 2048 लोगों की कोविड से मौत हो चुकी है, जिसमें कश्मीर संभाग में 1289 मौतें हुई हैं।

यह भी पढ़ें-
कोरोना का कहर: मंदिरों के शहर में 15 मई तक बंद हुई यह 12 धरोहरें, जानिए किन जगहों पर जाने में लगी रोक

नए संक्रमित मामलों में जिला श्रीनगर सबसे अधिक प्रभावित है। यहां 407 नए संक्रमित मामले मिले हैं, जिसमें 64 यात्री हैं। इस जिले में सर्वाधिक 3770 सक्रिय मामले हैं और अब तक 485 लोगों की कोविड से मौत हो चुकी है। प्रदेश में शुक्रवार को कुल आए संक्रमित मामलों में से 180 यात्री हैं। जिला जम्मू भी लगातार प्रभावित हो रहा है। जिले में 223 नए संक्रमित मामले मिले हैं, जिसमें 215 स्थानीय स्तर के हैं। जम्मू जिले में 2182 सक्रिय मामले हैं और अब तक 396 लोगों की कोविड से मौत हो चुकी है।

... और पढ़ें

जम्मू और श्रीनगर में सामुदायिक स्तर पर बढ़ रहा संक्रमण, लगातार बन रहे माइक्रो कंटेनमेंट जोन

vaishno devi

जम्मू जिले में सामुदायिक स्तर पर कोरोना संक्रमण का तेजी से प्रसार हो रहा है। पिछले पांच दिनों के आंकड़ों पर नजर डालें तो कुल संक्रमित मामलों में से 96 फीसदी स्थानीय हैं और सिर्फ चार फीसदी यात्री हैं। वहीं श्रीनगर में भी स्थानीय स्तर के मामले 80 फीसदी मिले हैं, जबकि 20 फीसदी पर्यटक हैं। वहीं उधमपुर में 92 फीसदी मामले यात्री श्रेणी के मिले हैं, जबकि रियासी में यह आंकड़ा 84 फीसदी रहा है।

जम्मू जिले में 12 से 15 अप्रैल तक 969 संक्रमित मामले मिले हैं, जिसमें 931 स्थानीय हैं, यानी सामुदायिक स्तर पर कोविड संक्रमण का प्रसार बढ़ रहा है। शहर के पांच स्थानों को अब तक माइक्रो  कंटेनमेंट जोन बना दिया गया है और आगामी दिनों में ऐसे कई संक्रमण प्रभावित क्षेत्रों को भी इस श्रेणी में लाया जा सकता है।

यह भी पढ़ें-
जम्मू-कश्मीर: कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच कैसी होगी पर्याप्त चिकित्सा स्टाफ के बिना अमरनाथ यात्रा

शहर के कई इलाकों में नियमित रूप से संक्रमित मामले सामने आ रहे हैं। चिंता यह है कि इनमें 95 फीसदी से ज्यादा स्थानीय स्तर के मामले हैं। वहीं श्रीनगर में इन पांच दिनों में 2024 संक्रमित मामले मिले, जिसमें 1693 स्थानीय हैं। यानी यहां भी व्यापक पैमाने पर स्थानीय स्तर पर संक्रमण का प्रसार बढ़ रहा है।

उधमपुर और रियासी में यात्री श्रेणी के मामले बढ़े
उधमपुर में 531 संक्रमित मामले मिले हैं, जिसमें 489 यात्री श्रेणी के हैं। इनमें अधिकतर मामले सुरक्षाबलों से जुड़े हैं, जो देश के विभिन्न हिस्सों से होकर यहां पहुंचे हैं। इसी तरह रियासी में 395 संक्रमित मामले मिले हैं, जिसमें 335 यात्री हैं। यहां देशभर से पहुंचे वैष्णो देवी के यात्री संक्रमित पाए जा रहे हैं। इसके अलावा कश्मीर के बारामुला में 13 फीसदी यात्री और 87 फीसदी स्थानीय, पुलवामा में 13 फीसदी यात्री और 87 फीसदी स्थानीय, कठुआ में 17 फीसदी यात्री और 83 फीसदी स्थानीय और सांबा में 20 फीसदी यात्री व 80 फीसदी स्थानीय स्तर के मामले हैं।

... और पढ़ें

कोबरा कमांडो राकेश्वर सिंह की कहानी: जानिए कौन हैं वो छह लोग जिन्होंने नक्सलियों की कैद से छुड़ाया

जम्मू-कश्मीर: उप-राज्यपाल के सलाहकार बोले- परियोजनाओं को निर्धारित समय में पूरा करें

Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X