विज्ञापन
विज्ञापन
गंभीर से गंभीर परेशानी होगी दूर,ललिता देवी शक्तिपीठ-नैमिषारण्य पर कराएं ललिता सहस्रनाम पाठ, मात्र रु:51/- में,अभी बुक करें
Myjyotish

गंभीर से गंभीर परेशानी होगी दूर,ललिता देवी शक्तिपीठ-नैमिषारण्य पर कराएं ललिता सहस्रनाम पाठ, मात्र रु:51/- में,अभी बुक करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

जम्मू-कश्मीर: धोखाधड़ी से शादी व दुष्कर्म पर पूर्व उप जज को 17 साल जेल

जम्मू फास्ट ट्रैक कोर्ट ने धोखे से शादी और दुष्कर्म के दोषी पूर्व उप जज राजेश कुमार अबरोल को 17 साल की कैद और 70 हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई है। धोखे से शादी के लिए जुर्माने सहित सात साल सामान्य कैद व दुष्कर्म के लिए जुर्माने समेत दस साल कठोर कारोवास की सजा सुनाई गई है। दोनों सजाएं अलग-अलग भुगतनी होंगी।

पूर्व उप जज राजेश कुमार अबरोल पर नौकरानी से फर्जी शादी करने के बाद दुष्कर्म करने का मामला 12 जनवरी 2018 में दर्ज हुआ था। अभियोजन प्रक्रिया के तहत आरोपी पर दोष साबित हो गया। फास्ट ट्रैक कोर्ट के प्रीसाइडिंग अफसर (पीठासीन अधिकारी) खलील चौधरी ने फैसले में कहा कि जुर्माना राशि न देने पर दोषी को तीन माह की अतिरिक्त जेल की सजा भुगतनी होगी।

अभियोजन के अनुसार महिला नगरोटा के बन टोल प्लाजा के पास अपनी बेटी के साथ रहती थी, जो पति से मतभेद के मामले में उप जज से मिली थी। एक महिला के जरिये पीड़ित की राजेश अबरोल से मुलाकात हुई। सब जज ने महिला से कहा कि वह उसकी कानूनी मदद करेगा। इसके साथ ही उसे अपने घर में नौकर रख लिया। अभियोजन के अनुसार जब जज को एक दिन पता चला कि वह अपने घर जा रही है, तो उसने नौकरानी की मांग भर दी।

वहीं, बच्ची को पढ़ाने सहित हर माह पांच हजार रुपये देने का आश्वसन दिया। इसके बाद उसने दुष्कर्म किया। बाद में पता चला कि उप जज की एक और पत्नी भी है। इसे लेकर उप जज और पीड़ित में बहस हुई। मामला कोर्ट में पहुंचा और एसएसपी जम्मू को मामले की जांच के आदेश दिए गए। 

फैसले में पीठासीन अधिकारी खलील चौधरी ने कहा कि जुर्म की पर्याप्त सजा देना अदालत के अलावा एक सामाजिक और कानूनी दायित्व भी है। दोषी को आरपीसी की धारा 420 के तहत जुर्माने सहित सात साल के साधारण कारावास की सजा सुनाई जाती है। वहीं आरपीसी की धारा 376 (2) के दस साल कठोर कारावास और 70,000 रुपये जुर्माना लगाया जाता है। जेएनएफ
... और पढ़ें

अमित शाह बोले: संसद में किया वादा पूरा करेंगे, परिसीमन के बाद होंगे चुनाव, राज्य का दर्जा भी मिलेगा

गृहमंत्री अमित शाह ने शनिवार को लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि जीवन में लक्ष्य सदैव बड़ा होना चाहिए। बड़े लक्ष्य रखने वालों की ईश्वर मदद करता है। कश्मीर के विकास के लिए पीएम मोदी प्रतिबद्ध हैं। कश्मीर के विकास के लिए सरकार हर संभव फैसला ले रही है और भविष्य में भी लेगी।

शाह ने कश्मीर के युवाओं से कहा कि आप बड़े सपने देखें। सरकार आपके सपनों को साकार करेगी। उन्होंने अपना उदाहरण देते हुए कहा कि मैं किसी विधायक या मुख्यमंत्री का बेटा नहीं हूं। भाजपा ही एक ऐसी पार्टी है जिसमें लोकतंत्र है। जिसके बल पर ही मैं आज आपके सामने हूं। इसी लोकतंत्र के दम पर आप जम्मू-कश्मीर के सरपंच से लेकर मुख्यमंत्री भी बन सकते हैं।

मैं बताना चाहता हूं कि जम्मू-कश्मीर की शांति और विकास को जो लोग नुकसान पहुंचाने की कोशिश और साजिश रचेंगे, उनसे सख्ती से निपटने के लिए हम प्रतिबद्ध हैं। विकास की पहली शर्त ही कि कश्मीर में शांति हो। कश्मीर में दहशतगर्दी को समाप्त करने का काम हमारे जवान करेंगे। मैं पाकिस्तान को जवाब दे सकता हूं, लेकिन मैं यहां आप से बात करने आया हूं। मैं कश्मीर के युवा साथियों को बताने आया हूं कि मोदी सरकार आपके लिए कई योजनाएं लाई है। इन योजनाओं का आप लाभ लें।



विकास के लिए सरकार ने दिल खोलकर खर्च किया और आगे भी करेगी
पीएम ने जम्मू-कश्मीर और यहां के लोगों के लिए दिल खोलकर खर्च किया है। अन्य राज्यों की अपेक्षा कश्मीर के लिए सरकार ने अधिक धन खर्च किया है, जोकि आगे भी जारी रहेगा। जब प्रदेश में उद्योग को बढ़ावा मिलेगा तो रोजगार के अवसर भी पैदा होंगे। सेब और केसर की खेती को बढ़ावा मिलेगा। जम्मू-कश्मीर के लोगों की सेहत से लेकर युवाओं की पढ़ाई और रोजगार के लिए सरकार ने कई योजनाओं को यहां प्राथमिकता से लागू किया है। पर्यटन के लिए भी सरकार ने नए कदम उठाए हैं। इसी का परिणाम है कि प्रदेश में पर्यटन को भारी बढ़ावा मिला है।

सत्तर साल तक लोगों के साथ छलावा हुआ
शाह ने कहा कि 2019 के बाद यहां के कुछ गिने-चुने लोग सवाल करते थे कि इंटरनेट क्यों बंद है, कर्फ्यू क्यों लगाया गया है। मैं उनसे एक सवाल पूछना चाहता हूं कि सत्तर साल में लोगों की हत्याओं का जिम्मेदार कौन था। इंटरनेट सेवा को लोगों की भलाई के लिए बंद किया गया था। उस वक्त सरकार को बदनाम करने के लिए ऐसे सवाल किए जा रहे थे। स्थिति सामान्य होने पर हमने सब कुछ खोल दिया। बीमारी होने पर परहेज और इलाज किया जाता है। हमने जो कदम उठाए वो कश्मीर की भलाई के लिए उठाए।

परिसीमन के बाद होंगे चुनाव और मैंने जो वादा संसद में किया था वो भी पूरा होगा
शाह ने कहा कि प्रदेश में परिसीमन के बाद चुनाव होंगे। समय आने पर प्रदेश को राज्य का दर्जा भी मिलेगा। मैंने गृहमंत्री के नाते जो वादा कश्मीर और देश के लोगों से किया था वो पूरा होगा।
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर: चार साल बाद भी वाहन इंस्पेक्शन सेंटर का काम अधूरा, मशीनरी का इंतजार

वाहन फिटनेस टेस्टिंग के लिए निष्पक्ष व पारदर्शी व्यवस्था को यकीनी बनाने के लिए जम्मू संभाग के सांबा जिले में वाहन ऑटोमेटेड फिटनेस टेस्टिंग, इंस्पेक्शन एंड सर्टिफिकेशन सेंटर बन रहा है। इसका काम 2017 में 9.82 करोड़ रुपये से शुरू हुआ था, लेकिन चार साल बाद भी पूरा नहीं हो सका है।

सेंटर का उद्देश्य वाहनों को तय मानकों और प्रदूषण की जांच के बाद इंस्पेक्शन सर्टिफिकेट देना है। सेंटर में स्थापित होने वाली ऑटोमेटिक मशीन से जांच के बाद पता चलेगा कि वाहन चलने की स्थिति में है या नहीं। ब्रेक से लेकर अन्य सभी मशीनरी की ऑटोमेटिक जांच होगी। सेंटर में कामर्शियल वाहनों की पासिंग और इंस्पेक्शन के साथ निजी वाहनों की भी जांच की जाएगी।

वर्तमान में सांबा और जम्मू जिलों में कॉमर्शियल वाहनों की पासिंग और इंस्पेक्शन मैनुअली होती है, जिससे ऐसे वाहन भी सड़कों पर उतर रहे हैं जो चलने के योग्य नहीं हैं। मैनुअली पासिंग में विभाग पर भ्रष्टाचार के आरोप भी लगते रहे हैं। सेंटर बनने के बाद इन वाहनों की ऑटोमेटिक जांच होगी।

यह भी पढ़ें-
जम्मू-कश्मीर: बासमती को 70 फीसदी तक नुकसान, मंडियों में खुले में पड़ा धान भी भीगा

सेंटर में सिविल कार्य पूरा हो चुका है, लेकिन मीशनरी के लिए टेंडर प्रक्रिया में दरी से प्रोजेक्ट का समय पर पूरा नहीं हो पा रहा है। परिवहन विभाग के प्रमुख सचिव हृदेश कुमार ने कहा कि टेंडर प्रक्रिया जारी है और जल्द मशीनरी लगाने का काम शुरू हो जाएगा।

... और पढ़ें

बॉर्डर पर अमित शाह: जवानों से गृह मंत्री ने की बातचीत, नागरिक को दिया अपना मोबाइल नंबर और कहा...

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह रविवार को जम्मू में मकवाल बॉर्डर पहुंचे। यहां उन्होंने जवानों से भी बातचीत की। इसके बाद उन्होंने एक स्थानीय निवासी का मोबाइल नंबर लिया और अपना नंबर भी साझा किया। नागरिक से कहा कि जब भी जरूरत हो, उनसे संपर्क कर सकते हैं। उनके साथ उप-राज्यपाल मनोज सिन्हा भी मौजूद थे। इससे पहले भगवती नगर मैदान में अमित शाह ने कहा है कि जम्मू-कश्मीर की शांति में खलल डालने के तमाम तरह की साजिशें चल रही हैं। वह प्रदेश की जनता को विश्वास दिलाते हैं कि यह साजिशें न तो कामयाब होंगी और न ही सफल होने दी जाएंगी। प्रदेश का युवा विकास की राह पर आगे बढ़ चला है, दहशतगर्द उनका कुछ बिगाड़ नहीं पाएंगे।
 
शाह ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा जम्मू वालों के साथ अन्याय का युग अब समाप्त हो चुका है। जम्मू हो या कश्मीर संभाग दोनों के साथ न्याय होगा। प्रधानमंत्री मोदी के शासन में किसी के साथ अन्याय नहीं हो सकता। जम्मू में विकास युग की शुरूआत हो चुकी है। युवा सचेत हो गया है। यदि युवा वर्ग गरीबों की सेवा में जुट जाए तो दहशतगर्द कुछ नहीं बिगाड़ सकते।
... और पढ़ें
नागरिक से बात और नंबर साझा करते गृह मंत्री अमित शाह नागरिक से बात और नंबर साझा करते गृह मंत्री अमित शाह

ऑपरेशन भाटादूड़ियां:  जंगल में छिपे आतंकियों के संपर्क में था जिया मुस्तफा, ठिकाने की भी थी जानकारी

जम्मू संभाग के पुंछ जिले में मेंढर के भाटादूड़ियां जंगल में आतंकियों के ठिकाने का पता लगाने के लिए जेल में बंद लश्कर-ए-तैयबा के पाकिस्तानी आतंकी को साथ लेकर गए सुरक्षाबलों पर दहशतगर्दों ने हमला कर दिया। फायरिंग में आतंकी की मौत हो गई, जबकि पुलिस के दो व सेना का एक जवान घायल हो गया। मारे गए पाकिस्तानी आतंकी जिया मुस्तफा को जम्मू की कोट भलवाल जेल से ले जाया गया था।

पुलिस प्रवक्ता के अनुसार जिया मुस्तफा जंगलों में छिपे आतंकियों के संपर्क में था, जिसे उस इलाके और ठिकाने की पूरी जानकारी थी। गोलीबारी के बाद अतिरिक्त बल भेजकर मारे गए आतंकी का शव निकाला गया। लश्कर आतंकी के मारे जाने संबंधी कानूनी प्रक्रिया के तहत जांच शुरू कर दी गई है। वहीं सेना और पुलिस एसओजी ने घेराबंदी और कड़ी कर दी है। पुलिस प्रवक्ता के अनुसार 11 अक्तूबर को चमरेड़ के जंगल में सैन्य दल पर घात लगाकर किए गए हमले में जेसीओ समेत पांच जवान शहीद हो गए थे।
 
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर: आईआईटी-आईआईआईएम और एम्स मिलकर टनल इंजीनियरिंग कोर्स शुरू करेंगे

केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि आईआईटी,आईआईएम व एम्स जम्मू मिलकर टनल इंजीनियरिंग कोर्स जल्द करेंगे। देश में अपनी तरह का यह पहला कोर्स होगा। गृह मंत्री अमित शाह के साथ जम्मू के भगवती नगर में रैली के दौरान केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने यह घोषणा की। 
यह भी पढ़ें- 
बॉर्डर पर अमित शाह: जवानों से गृह मंत्री ने की बातचीत, नागरिक को दिया अपना मोबाइल नंबर और कहा...

उन्होंने कहा 400 एकड़ भूमि पर बनी आईआईटी जम्मू के निर्माण पर 1100 करोड़ की राशि खर्च कर देश में अत्याधुनिक आईआईटी कैंपस जम्मू में बना है। उन्होंने कहा गृह मंत्री अमित शाह के जम्मू के दौरे के दौरान कई कल्याणकारी योजनाओं की शुरूआत की गई है और यह देश व प्रदेश के लोगों के लिए गौरव का दिन है।
... और पढ़ें

मुसीबत बनी बर्फबारी:  अनंतनाग में दो और लोगों की मौत, दो को सुरक्षित बचाया, अब तक पांच की गई जान

भूकंप
दक्षिणी कश्मीर के अनंतनाग जिले में बर्फबारी में फंसे दो लोगों की मौत हो गई। इससे खराब मौसम के चलते जान गंवाने वालों की संख्या बढ़कर पांच हो गई है जबकि दो लोगों को सुरक्षित निकाला गया है। 

शनिवार की रात जिले में सिंथन दर्रा में फंसे लोगों को सुरक्षित निकाला गया। नागरिक, पुलिस, सेना और राज्य आपदा प्रबंधन बल (एसडीआरएफ) के अधिकारियों की बचाव टीम ने मशीनरी की मदद से बर्फ से ढंके और कोहरे वाले इलाकों को पार कर 30 किलोमीटर की दूरी तय की और घटनास्थल तक पहुंचने के लिए आठ किलोमीटर का सफर तय किया।
यह भी पढ़ें- 
Amit Shah in Jammu Kashmir: कांग्रेस, महबूबा और फारूक पर शाह का सीधा वार, अब नहीं चलेगी तीन परिवारों की दादागिरी    

अधिकारियों ने बताया कि 24 अक्तूबर को सुबह साढ़े पांच बजे मौके पर एक शव मिला, जबकि एक अन्य व्यक्ति की वापसी के दौरान मौत हो गई। दो लोग सुरक्षित हैं और उनका हाइपोथर्मिया और सदमे का इलाज चल रहा है। घाटी के कुछ हिस्सों, खासकर दक्षिण कश्मीर के ऊंचाई वाले इलाकों में शनिवार को मध्यम से भारी हिमपात हुआ।
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर: आतंकियों ने सीआरपीएफ पार्टी पर किया हमला, क्रॉस फायरिंग में नागरिक की मौत

जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में रविवार को सीआरपीएफ पार्टी पर हमला कर दिया। इस दौरान क्रॉस फायरिंग में एक नागरिक की मौत हो गई। वहीं सुरक्षाबल द्वारा इलाके की घेराबंदी कर तलाशी अभियान शुरू कर दिया गया है। जानकारी के अनुसार मारे गए नागरिक की पहचान खरपोरा नौपोरा अरवानी बिजबिहारा के रहने वाले शाहीद अहमद के रूप में हुई है।

पुलिस ने बताया कि आतंकियों ने सीआरपीएफ पर हमला कर दिया जिसमें क्रॉस फायरिंग में नागरिक की मौत हो गई। जम्मू-कश्मीर में जम्हूरियत की मजबूती से आतंकी संगठन बौखलाए और हताश हैं। इसी के चलते आतंकी तंजीमें जन्नत को जहन्नुम बनाने की साजिशें रच रही हैं।

यह भी पढ़ें- अमित शाह बोले: जम्मू-कश्मीर की शांति में खलल डालने वालों के साथ सख्ती से निपटेंगे, बनाएंगे मॉडल स्टेट

लोगों में खौफ उत्पन्न करने के लिए आतंकी संगठन नेताओं और आम नागरिकों को निशाना बना रहे हैं। आतंकियों की यही हताशा और कायरता घाटी में लगातार देखने को मिल रही है। घाटी में आतंकी लगातार आम नागरिकों को अपना निशाना बना रहे हैं। कश्मीरी पंडितों के बाद अब आतंकियों ने अल्पसंख्यक सिख समुदाय को भी निशाना बनाया है।

... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर: बासमती को 70 फीसदी तक नुकसान, मंडियों में खुले में पड़ा धान भी भीगा

जम्मू-कश्मीर में बारिश और ओलावृष्टि से मोटा धान व बासमती की फसल को भारी नुकसान पहुंचा है। बीते सप्ताह आंधी से सात फीसदी नुकसान का आकलन किया गया था, लेकिन इस बार ओलावृष्टि के साथ मूसलाधार बारिश से कई इलाकों में 70 फीसदी तक फसल पूरी तरह से खराब हो गई है। बासमती जम्मू, सांबा और कठुआ के मैदानी क्षेत्रों में उगाई जाती है। जम्मू जिले के आरएस पुरा क्षेत्र की बासमती विश्व विख्यात है। ऐसे में मौसम की मार से किसानों को बड़े पैमाने पर नुकसान पहुंचा है। कृषि विभाग की टीमें नुकसान का जायजा लेने में जुट गई हैं। अभी तक केवल 20 हजार क्विंटल अनाज ही मंडियों में पहुंच पाया है। ज्यादातर किसानों की फसल खेतों में ही पड़ी हुई है, जो बारिश की भेंट चढ़ गई। ... और पढ़ें

आर्मी चीफ के बयान पर भड़की महबूबा: कहा- घाटी को बना दिया गया है खुली जेल, और क्या उपाय किए जाने बाकी

जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने रविवार को चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत द्वारा कश्मीर में और प्रतिबंधों की चेतावनी देने वाली टिप्पणी पर रोष व्यक्त किया है। इस पर प्रतिक्रिया देते हुए महबूबा ने कहा कि बिपिन रावत की यह टिप्पणी इस आधिकारिक बयान के विपरीत है कि घाटी में सब कुछ ठीक है।

उन्होंने ट्वीट कर कहा कि भारत सरकार द्वारा कश्मीर को खुली जेल में बदलने के बाद बिपिन रावत का बयान कोई आश्चर्य की बात नहीं है। उन्होंने कहा कि सरकार के पास दमन ही जम्मू-कश्मीर की स्थिति से निपटने का एकमात्र तरीका है।


असम में आयोजित रविकांत सिंह स्मृति व्याख्यान कार्यक्रम में शनिवार को बिपिन रावत ने कहा था कि हाल ही पैदा हुई स्थिति की वजह से जम्मू-कश्मीर के लोगों की आवाजाही की स्वतंत्रता को कुछ दिन से लिए खत्म किया जा सकता है, जब तक हालात सामान्य नहीं हो जाते। साथ ही उन्होंने घाटी की स्थिति से निपटने में लोगों के सहयोग का आग्रह भी किया था।

यह भी पढ़ें-
जम्मू-कश्मीर: आतंकियों ने सीआरपीएफ पार्टी पर किया हमला, क्रॉस फायरिंग में नागरिक की मौत

पीडीपी प्रमुख ने इस पर कहा कि घाटी में बड़े पैमाने पर सामूहिक गिरफ्तारियां, अपनी मर्जी से इंटरनेट बंद करने, लोगों की तलाशी लेना (बच्चों को भी नहीं छोड़ना), बाइक और दोपहिया वाहनों को जब्त करना  और नए सुरक्षा बंकर स्थापित करने जैसे कड़े, कठोर और दमनकारी उपायों के बाद और क्या उपाय किए जाने बाकी हैं।

... और पढ़ें

अमित शाह के भाषण की 10 बड़ी बातें: अमन-युवा और विकास पर फोकस, कांग्रेस-मुफ्ती और अब्दुल्ला परिवार से सवाल

कश्मीर के श्रीनगर में गृहमंत्री अमित शाह ने अपने संबोधन में अमन, युवा और विकास को मुख्य स्थान दिया। युवाओं से उन्होंने विकास का भागीदार बनने की अपील की। विकास परियोजनाओं को गिनाते हुए उन्होंने जम्मू-कश्मीर के प्रति सरकार की प्रतिबद्धता को भी जाहिर किया। उन्होंने कहा कि कश्मीर में विकास तभी संभव है जब युवा अपने हितों का ध्यान रखेंगे।

पांच अगस्त 2019 को सरकार द्वारा उठाए गए सख्त कदमों पर उन्होंने कहा कि जब बीमारी होती है तो दवा और परहेज करना होता है। लेकिन इससे कश्मीर के कुछ गिने-चुने लोगों को ही दिक्कत हुई, आम जनता सरकार द्वारा उठाए गए कदमों से प्रसन्न है। कहा कि लोगों को भ्रमित और अपनी राजनीति चमकाने के लिए इंटरनेट क्यों बंद है, कर्फ्यू क्यों लगाया गया जैसे सवाल किए गए। शाह ने कहा कि मैं उन लोगों से पूछना चाहता हूं कि आपके शासन में हुए खूनखराबे का जिम्मेदार कौन था। हमने जो कदम उठाए वो लोगों की भलाई के लिए थे। अब आपको बताते हैं अमित शाह के दस बड़े बयान...
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर: प्रदेश में बढ़ेगी सरसों की खेती, तेल निर्माता कंपनियों को पिराई के लिए दी जाएगी सरसों

खाद्य तेल की लगातार बढ़ती कीमत कम करने के लिए प्रदेश में सरसों की खेती को बढ़ावा दिया जाएगा। इसके लिए 15 सौ क्विंटल बीज किसानों को स्टोर के माध्यम से निशुल्क मुहैया करवाया जाएगा और फसल को नवंबर में बीजा जा सकेगा। इस बार 50 हजार हेक्टेयर में खेती करने का लक्ष्य है। कृषि विभाग अप्रैल तक तेल निर्माता कंपनियों को सरसों मुहैया करवाएगा।

इस बार अन्य फसलों की तर्ज पर ही सरसों उगाने के लिए प्राथमिकता दी जा रही है। मौजूदा समय में देश में खाद्य तेल के दाम में बेतहाशा बढ़ोतरी हुई है। तेल निर्माता कंपनियों को सरसों के तेल में मिलावट न करने के आदेश हैं। इससे तेल महंगा हो रहा है। मौजूदा समय में तेल प्रति किलो दो सौ रुपये पार हो गया है। इससे पहले प्रदेश के चुनिंदा जगहों में ही सरसों की खेती होती थी। इससे लाभ नहीं मिल पा रहा। इस बार पैदावार अच्छी होने पर प्रदेश में ही तेल निर्माता कंपनियों को पिराई के सरसों मुहैया करवाई जाएगी और अप्रैल से सरसों का सस्ता तेल लोगों को मुहैया करवाया जाएगा।

किसानों को व्हाट्सऐप और ई-मेल से भेजा गया संदेश
कृषि विभाग ने किसानों को व्हाट्सऐप और ईमेल के माध्यम से सरसों उगाने के लिए संदेश भेजा है। इसके अलावा पंचायत प्रतिनिधियों को भी सूचित किया है। वे भी किसानों को जागरूक करेंगे।

शोध में सरसों की खेती की अपार संभावनाएं
स्कॉस्ट जम्मू में सरसों की खेती के लिए किए गए शोध में प्रदेश में अपार संभावनाएं जताई गई हैं। प्रदेश में हर माह विदेशों से तीस करोड़ रुपये का तेल आयात किया जा रहा है। खेती होने के बाद यहां पर ही सस्ता तेल मुहैया करवाया जा सकेगा।

यह भी पढ़ें-  
उपराज्यपाल मनोज सिन्हा बोले: लोग कहते हैं दो साल में क्या बदला, 70 साल से होने वाले जाति के आधार पर भेदभाव पूरी तरह से हुआ है खत्म

बड़ी ब्राह्मणा, कठुआ में कंपनियों से किया संपर्क
बाड़ी ब्राह्मणा, कठुआ समेत अन्य जगहों में तेल कंपनियों से संपर्क किया गया है। यहां पर कंपनियां सरसों लेंगी और तेल का उत्पादन करेंगी। इसके बाद कुल लागत के आधार पर लोगों को सस्ता तेल मिल सकेगा।

सरसों के तेल की कीमतों में बढ़ोतरी हो रही है। इस बार विभाग की ओर से सरसों का बीज किसानों को निशुल्क मुहैया करवाया जाएगा और तेल निर्माता कंपनियों को प्रदेश में ही पिराई के संरसों दी जाएगी। इससे जम्मू-कश्मीर में सरसों का तेल सस्ती दरों पर मिल सकेगा। - केके शर्मा, निदेशक, कृषि विभाग
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00