लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Jammu and Kashmir ›   Jammu News ›   National Conference President election Nomination begin from today thousands of delegates will take part in vo

पार्टी चुनाव: नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष के लिए नामांकन आज से, हजारों डेलीगेट्स मतदान में लेंगे हिस्सा

अमर उजाला नेटवर्क, जम्मू Published by: kumar गुलशन कुमार Updated Thu, 01 Dec 2022 12:04 PM IST
सार

नेकां तीन साल बाद चुनाव करवाती है। पार्टी की ओर से ब्लॉक, जिला, संभाग स्तर पर चुनाव करवा दिए गए हैं। नेकां के संभागीय अध्यक्ष रतन लाल गुप्ता ने बताया कि अगर चुनाव होते हैं तो जम्मू संभाग के करीब 180 ब्लाकों से भी सैकड़ों डेलीगेट्स शिरकत करेंगे।

Jammu Kashmir National Conference
Jammu Kashmir National Conference - फोटो : बासित जरगर
विज्ञापन

विस्तार

नेशनल कांफ्रेंस (नेकां) अध्यक्ष के लिए गुरुवार से नामांकन प्रक्रिया शुरू की जाएगी। पांच दिसंबर सुबह तक यह प्रक्रिया जारी रहेगी। पार्टी चुनाव शेड्यूल के तहत पांच दिसंबर को ही चुनाव करवाए जाएंगे। इसमें पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला का सर्वसम्मति से अध्यक्ष बनने की प्रबल संभावना है। 



लेकिन अगर चुनाव मैदान में कोई उम्मीदवार उतरता है, तो इसमें जम्मू और कश्मीर संभाग से हजारों पार्टी डेलीगेट्स मतदान करेंगे। इसके लिए दोनों संभागों में तैयारी चल रही है। चुनाव शेर-ए-कश्मीर शेख मोहम्मद अब्दुल्ला मजार हजरतबल में करवाना प्रस्तावित है और इसी दिन उनकी जयंती भी है।


नेकां तीन साल बाद चुनाव करवाती है। पार्टी की ओर से ब्लॉक, जिला, संभाग स्तर पर चुनाव करवा दिए गए हैं। नेकां के संभागीय अध्यक्ष रतन लाल गुप्ता ने बताया कि अगर चुनाव होते हैं तो जम्मू संभाग के करीब 180 ब्लाकों से भी सैकड़ों डेलीगेट्स शिरकत करेंगे। प्रत्येक 300 पंजीकृत सदस्यों पर एक डेलीगेट्स होता है। 

वर्ष 1981 में पहली बार नेकां अध्यक्ष डॉ. फारूक अब्दुल्ला ने जून 2002 में पार्टी प्रमुख का पद छोड़ा था और अपने बेटे उमर अब्दुल्ला को यह जिम्मेदारी सौंपी थी। 2009 में उमर के मुख्यमंत्री बनने के बाद फारूक ने नेकां प्रमुख का कार्यभार दोबारा संभाला था। इसके लगभग आठ वर्ष बाद 2007 में अंतिम बार नेकां में संगठनात्मक चुनाव हुआ था और फारूक को फिर से अध्यक्ष चुना गया। 

उस समय भी फारूक ने अपनी सेहत और वृद्धावस्था का हवाला देते हुए अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी लेने से इनकार किया था। लेकिन तत्कालीन परिस्थितियों और उमर व अन्य वरिष्ठ नेताओं की सहमती से वह निर्विरोध अध्यक्ष बने थे। हाल ही में फारूक ने अध्यक्ष पद छोड़ने की इच्छा जताई थी।

विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00