विज्ञापन
विज्ञापन
लाभ पंचमी - सौभाग्य वर्धन का दिन,घर बैठे कराएं लक्ष्मी गणेश पूजन एवं लक्ष्मी सहस्रनाम पाठ,मात्र 101/- में,अभी बुक करें
Myjyotish

लाभ पंचमी - सौभाग्य वर्धन का दिन,घर बैठे कराएं लक्ष्मी गणेश पूजन एवं लक्ष्मी सहस्रनाम पाठ,मात्र 101/- में,अभी बुक करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

पुलवामा: इन दो भाइयों के मुरीद हुए पीएम मोदी, जानिए युवाओं के लिए प्रेरणा बने बिलाल और मुनीर के बारे में रोचक बातें

बिलाल ने अपने घर पर ही वर्मी कंपोस्ट की यूनिट लगाई है। इस यूनिट से तैयार होने वाले बायो फ र्टिलाइजर से न केवल खेती में काफी लाभ हुआ है बल्कि यह लोगों...

26 सितंबर 2021

Digital Edition

जम्मू-कश्मीर: बच्चों को अगले साल से पढ़ाई जाएंगी शहीदों की कहानियां, पाठ्यक्रम में शामिल होंगी वीरों की गाथाएं

जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने कहा कि प्रदेश के बच्चों को अब कश्मीर के युद्ध के असली नायकों से परिचित कराने की जरूरत है। अगले साल से जम्मू-कश्मीर के बच्चों को मेजर सोमनाथ शर्मा, मकबूल शेरवानी, ब्रिगेडियर राजिंदर सिंह और लेफ्टिनेंट कर्नल राय की कहानियां स्कूल के पाठ्यक्रम में पढ़ाई जाएंगी।

आजादी के अमृत महोत्सव पर्व पर हम सभी का दायित्व है कि मातृभूमि की रक्षा करते हुए शहीद हुए इन शूरवीरों की कहानियां हर बच्चे की जुबां पर हों। उप राज्यपाल कश्मीर में भारतीय सेना के पहले हवाई दखल की 75वीं वर्षगांठ के मौके पर श्रीनगर में भारतीय वायुसेना के एयरबेस पर आयोजित कार्यक्रम में बोल रहे थे।

एलजी ने बुधवार को कहा कि 1947 में कश्मीर पर हमला करने वाले कबाइली नहीं बल्कि उनके वेष में पाकिस्तानी फौजी थे। जिन्होंने हमारे बेगुनाह भाइयों का बेरहमी से कत्ल किया, महिलाओं की अस्मत लूटी, घर जलाए। अब वक्त आ गया है कि उनके चेहरों से नकाब हटाया जाए। लोगों को समझना होगा कि हमारा पड़ोसी 75 साल से यही करता आया है। 

इस अवसर पर सिन्हा ने ब्रिगेडियर राजेंद्र सिंह को याद करते हुए कहा कि आज उनकी पुण्यतिथि है जिन्होंने बहादुरी के साथ जम्मू-कश्मीर, कश्मीरियत और कश्मीरी आवाम को बचाने के लिए सर्वोच्च बलिदान दिया, मैं उन्हें नमन करता हूं।
... और पढ़ें

आइकॉनिक वीक: संगीत की धुनों के बीच रंगबिरंगी रोशनी से चमक उठा जम्मू का मशहूर बाहु फोर्ट

जम्मू शहर के बाहु फोर्ट रंगबिरंगी रोशनी से जगमगा रहा है, जिसे देख कर शहरवासी और लोग मंत्रमुग्ध हो रहे हैं। आइकॉनिक वीक के तहत जम्मू स्मार्ट सिटी लिमिटेड, प्रशासन और पर्यटन विभाग के सहयोग से बुधवार को बाहु फोर्ट में लाइट और साउंड शो का आयोजन किया गया है, जो आगामी दो दिन तक जारी रहेगा। इस मौके पर मेयर चंद्र मोहन गुप्ता इसमें मुख्य रूप से उपस्थित रहे। 

मेयर ने कहा कि तीन दिवसीय आयोजन जनता को पसंद आया तो आगे भी जारी रखा जाएगा। कार्यक्रम की शुरू में स्थानीय कलाकार जूही सिंह ने प्रस्तुतियां दी। साथ ही जम्मू के प्रसिद्ध विरासत स्थलों को दर्शाने वाली एक डॉक्यूमेंट्री भी दिखाई गई। जिसे फिशरीज पार्क के सामने बाहु किले की दीवार पर दिखाया गया। इससे बाहु फोर्ट की हैरीटेज चित्र को दर्शाने का प्रयास किया गया है।

मेयर ने कहा कि कई प्रोजेक्ट स्मार्ट सिटी के तहत शुरू किए गए हैं। कई पूरे हो चुके हैं। प्रोजेक्टों  के पूरा होने से अब जम्मू भी स्वतंत्र रूप से पर्यटन के रूप में जाना जाएगा। इससे देश के मेट्रो शहरों की तुलना में जम्मू का नाम भी होगा।  आयुक्त अवनी लवासा ने कहा कि समृद्ध विरासत और जम्मू शहर के इतिहास को उजागर करने वाले साउंड एंड लाइट शो को मंदिरों के शहर में पर्यटकों को आकर्षित करने और बनाए रखने के लिए एक और आयाम जोड़ने के लिए पेश किया गया है। इससे काफी लाभ मिलेगा।
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर: टारगेट किलिंग के शिकार सभी लोगों के परिजनों को वित्तीय सहायता देगी सरकार

टारगेट किलिंग के शिकार दूसरे राज्यों के लोगों को आश्रितों को जम्मू-कश्मीर सरकार एसआरओ-43 के तहत वित्तीय सहायता देगी। जम्मू-कश्मीर में एसआरओ (स्टैचुटरी रेगुलेटरी ऑर्डर) 43 के तहत इससे पूर्व केवल यहां के मूल निवासी ही लाभ ले सकते थे।
एसआरओ-43 के तहत आतंकी घटनाओं में मारे जाने वाले आम नागरिकों अथवा कर्मचारियों के परिवार के सदस्यों को अनुकंपा आधारित नौकरी का प्रावधान है। बुधवार को उप राज्यपाल मनोज सिन्हा की अध्यक्षता में हुई प्रशासनिक परिषद की बैठक में टारगेट किलिंग में मारे गए दूसरे राज्यों के लोगाें के परिजनों को एसआरओ-43 के तहत वित्तीय सहायता देने की मंजूरी दी गई। 
यह भी पढ़ें- बच्चों को अगले साल से पढ़ाई जाएंगी शहीदों की कहानियां, पाठ्यक्रम में शामिल होंगी वीरों की गाथाएं

पिछले दिनों आतंकी वारदातों में पांच गैर कश्मीरी नागरिकों समेत 11 लोगों की टारगेट किलिंग की गई है। आतंकियों ने 16 अक्तूबर को उत्तर प्रदेश के सहारनपुर के बढ़ई सगीर अहमद अंसारी और 17 अक्तूबर को कुलगाम में बिहार के दो श्रमिकों राजा और योगेंद्र की हत्या कर दी थी। सरकार की ओर से इनके आश्रितों अथवा निकट संबंधियों को एसआरओ-43 की गाइडलाइन के तहत वित्तीय मदद देगी।

 एलजी मनोज सिन्हा ने सलाहकार फारूक खान और राजीव राय भटनागर के अलावा मुख्य सचिव डॉ. अरुण कुमार मेहता, प्रधान सचिव नीतीश्वर कुमार की मौजूदगी में यह फैसला लिया।
 
कुपवाड़ा में 60 कनाल भूमि पर बनेगा स्पोर्ट्स स्टेडियम

कुपवाड़ा जिले के हकानीबाद पुंजवा, तहसील विल्लीगाम में 60 कनाल की भूमि पर स्पोर्ट्स स्टेडियम बनेगा। प्रशासनिक परिषद (एसी) की बैठक में यह फैसला लिया गया और चिन्हित भूमि को युवा सेवा एवं खेल विभाग को निर्माण के लिए स्थानांतरित करने की मंजूरी दी है। स्पोर्ट्स स्टेडियम स्थानीय आबादी के साथ-साथ आसपास के 20 गांवों के 20 हजार से अधिक युवाओं खेलों से जोड़ेगा। एक करोड़ की लागत से स्टेडियम बनेगा, जिनमें से विभाग को काम शुरू करने के लिए 50 लाख रुपये जारी किए है।
... और पढ़ें

सिहर उठा जम्मू-कश्मीर: डोडा की सड़क पर खूनी खेल ने सबको झकझोर दिया, 12 लोगों की मौत और 14 घायल

जम्मू-कश्मीर के डोडा जिले में गुरुवार की सुबह 12 लोगों के लिए मौत बनकर आई। 14 लोग अभी भी जिंदगी के लिए जंग लड़ रहे हैं। जिले के ठाठरी में मेटाडोर के अनियंत्रित होकर खाई में गिरने से 12 लोगों की मौत हो गई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ठाठरी में सड़क दुर्घटना में हुई मौतों पर शोक व्यक्त किया है। पीएमएनआरएफ की ओर से जान गंवाने वालों के परिजनों को दो-दो लाख रुपए और घायलों को 50 हजार रुपए की सहायता दी जाएगी। उप-राज्यपाल मनोज सिन्हा ने भी शोक व्यक्त किया और शाम को घायलों से मिलने अस्पताल भी पहुंचे।

गुरुवार सुबह ठाठरी इलाके से जिला मुख्यालय डोडा आ रही मेटाडोर करीब आठ बजे सुईबारी कराड़ा के पास खाई में जा गिरी। अचानक चीख पुकार मचने के बाद आसपास के गांवों में रहने वाले लोग मौके पर पहुंचे। इसकी सूचना पुलिस और सेना को दी। इसके तुरंत बाद सेना के जवान मौके पर पहुंचे। 
... और पढ़ें
डोडा में सड़क हादसा डोडा में सड़क हादसा

पांच बड़ी खबरें: महबूबा मुफ्ती ने आगरा में गिरफ्तार कश्मीरी छात्रों को जल्द रिहा करने की उठाई मांग, डोडा हादसे में 11 की मौत

जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने गुरुवार को आगरा के एक कॉलेज से गिरफ्तार किए गए कश्मीरी छात्रों की तत्काल रिहाई की मांग की है। आरोपी छात्रों ने टी 20 विश्व कप क्रिकेट मैच में भारत के खिलाफ जीत के बाद पाकिस्तानी खिलाड़ियों की प्रशंसा करते हुए व्हाट्सएप स्टेटस पोस्ट किया था। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें..............

डोडा जिले के ठाठरी में मेटाडोर के अनियंत्रित होकर खाई में गिरने से 11 लोगों की मौत हो गई। हादसे में 15 से अधिक घायल हो गए हैं, जिनमें से सात लोगों को एयरलिफ्ट करके जम्मू लाया गया है। सूचना मिलने के बाद आसपास के ग्रामीण राहत और बचाव के लिए मौके पर पहुंचे। उन्होंने सेना के जवानों के साथ मिलकर घायलों को खाई से निकाल जिला अस्पताल पहुंचाया। फिलहाल सभी की हालत स्थिर बनी हुई है। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें..............

भारतीय वायु सेना की पश्चिमी कमान के एयर ऑफिसर कमांडिंग इन चीफ (एओसी-इन-सी) एयर मार्शल अमित देव ने बुधवार को कहा कि पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) पर कब्जा करने की फिलहाल कोई योजना नहीं है, लेकिन उम्मीद जताई कि किसी दिन भारत के पास पूरा कश्मीर होगा। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें..............

कश्मीर के इतिहास में 27 अक्टूबर 1947 का दिन विशेष महत्व रखता है। 26 अक्टूबर 1947 को महाराजा राजा हरि सिंह ने जम्मू-कश्मीर के भारत में विलय के दस्तावेज पर हस्ताक्षर किए थे। इसके अगले दिन भारत ने कश्मीर को कबायलियों से आजाद कराने के लिए अपनी सेना उतार दी थी। हर साल 27 अक्टूबर को भारतीय सेना इन्फेंट्री डे के रूप में मनाती है। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें..............

जम्म-कश्मीर में कठुआ शहर से सटे जंगलोट क्षेत्र के कनियाड़ी गांव में एक निजी परिसर से पकड़े गए सरकारी सीमेंट मामले में पुलिस ने घर के मालिक और ट्रक चालक को गिरफ्तार कर लिया है। मंगलवार को पुलिस ने एक सूचना के बाद सरकारी सीमेंट के 250 बैग बरामद किए थे। बताया जा रहा है कि सीमेंट बैग की तस्करी से प्रभावशाली लोग जुड़े हैं, जिसके चलते पुलिस ने अभी तक नाम सार्वजनिक नहीं किए हैं। हालांकि मामला दर्ज कर कार्रवाई जारी है। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें..............

... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर : दुकानदार की हत्या करने जा रहे आतंकी को पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया

बारामूला के चेरदारी में सेना और पुलिस के एडीपी पर आतंकियों ने फायरिंग कर दी। सुरक्षाबलों की ओर से जवाबी कार्रवाई में एक आतंकवादी मारा गया। उसके पास से 1 पिस्टल, 1 लोडेड मैगजीन और 1 पाक ग्रेनेड बरामद हुआ है। कश्मीर जोन की पुलिस ने यह जानकारी साझा की है। 

पुलिस के प्रवक्ता के अनुसार आतंकियों ने बारामुला जिला के चेरदारी में गश्त कर रही आर्मी और पुलिस की टीम पर फायरिंग की। जवाबी कार्रवाई में पुलिस वालों ने भी आतंकियों पर फायरिंग की जिसमें एक आतंकी मारा गया। पुलिस का कहना है कि मारे गए आतंकी के शरीर से एक पिस्तौल, मैग्जीन और एक हथगोला बरामद हुआ है।

कश्मीर जोन के आईजी विजय कुमार ने बताया कि मारा गया आतंकी एक हाईब्रिड टाइप था और उसकी पहचान कुलगाम के जावेद वानी के रूप में हुई है। पुलिस का कहना है कि जावेद वानी 20 अक्तूबर को मारे गए दो मजदूरों की हत्या की वारदात में भी शामिल था।
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर: भारतीय सेना के श्रीनगर पहुंचने के 74 साल पूरे होने का मनाया जश्न, लड़ाकू विमानों ने दिखाया दमखम, देखिए तस्वीरें

कश्मीर के इतिहास में 27 अक्टूबर 1947 का दिन विशेष महत्व रखता है। 26 अक्टूबर 1947 को महाराजा राजा हरि सिंह ने जम्मू-कश्मीर के भारत में विलय के दस्तावेज पर हस्ताक्षर किए थे। इसके अगले दिन भारत ने कश्मीर को कबायलियों से आजाद कराने के लिए अपनी सेना उतार दी थी। हर साल 27 अक्टूबर को भारतीय सेना इन्फेंट्री डे के रूप में मनाती है। लेकिन इस बार खास बात यह रही कि मंगलवार को श्रीनगर में भारतीय वायु सेना की एयरबेस पर 1947 में पाकिस्तान के आक्रमण से जम्मू-कश्मीर को बचाने के लिए भारतीय सेना के श्रीनगर में हवाई इन्वेंशन के 75 साल पूरे होने का जश्न मनाया गया। पूरी तरह से उन दृश्यों को दोहराया गया जैसे उस समय की लैंडिंग के दौरान हुए थे। इसके अलावा स्काई डाइविंग और हेली बोर्न ऑपरेशन के साथ सुखोई-30 लड़ाकू विमानों ने हवाई दमखम दिखाया। सबसे पहले सेना की 4 पैरा स्पेशल फोर्सेज की टीम ने 9000 फीट की ऊंचाई से पैरा ड्रॉपिंग की गई। इस टीम को मेजर अभिशेख जैस्वाल लीड कर रहे थे, जबकि बाकी के सदस्य नायक गंगा, नायक मनोज नेगी, नायक सुनील, नायकसूरज छेत्री और नायक ईटी लोथा शामिल थे। इस टीम ने काफी समय तक आसमान में बिताते हुए सेफ लैंडिंग की, जिसे लोगों ने तालियों के साथ स्वागत किया। इसके बाद उस समय महाराजा हरि सिंह और ब्रिगेडियर राजिंदर सिंह के बीच की बातचीत, बारामुला में कबायलियों द्वारा सेंट जोसफ अस्पताल की नन के साथ बदसलूकी, मदबूल शेरवानी द्वारा कबायलियों को गलत रास्ता दिखाने के दृश्यों को नाटकीय तौर पर दर्शाया गया।

... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर: डोडा हादसे में सेना के जवान बने देवदूत, एयरलिफ्ट कर घायलों को पहुंचाया जीएमसी जम्मू

श्रीनगर में सेना की तरफ से कार्यक्रम का आयोजन
जम्मू-कश्मीर में डोडा जिले के ठाठरी में मेटाडोर के अनियंत्रित होकर खाई में गिरने से दस लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। हादसे में 15 से अधिक घायल हो गए हैं और इनमें से सात को एयरलिफ्ट करके जीएमसी जम्मू लाया गया। हादसे की जानकारी मिलने के बाद आसपास के लोग घायलों की राहत और बचाव के लिए मौके पर पहुंचे। उन्होंने सेना के जवानों के साथ मिलकर घायलों को खाई से निकाला। जिसके बाद उन्हें जिला अस्पताल पहुंचाया गया। फिलहाल सभी की हालत स्थिर बनी हुई है। वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जम्मू-कश्मीर के ठाठरी में सड़क दुर्घटना में हुई मौतों पर शोक व्यक्त किया है। पीएमएनआरएफ की ओर से जान गंवाने वालों के परिजनों को दो-दो लाख रुपए और घायलों को 50 हजार रुपए की सहायता दी जाएगी।
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर: प्रदेश में बढ़ती जा रही डेंगू के मरीजों की संख्या, अब तक 617 मामले आए सामने

जम्मू-कश्मीर में तापमान में गिरावट के बावजूद डेंगू का डंक जारी है। प्रदेश में डेंगू के पीड़ितों का आंकड़ा 617 तक पहुंच गया है, जिसमें जिला जम्मू से ही 425 पीड़ित हैं और यह कुल मामलों में से 69 फीसदी हैं। बुधवार को जिला जम्मू में 12 नए मामले सामने आए।

इस दौरान डेंगू के साथ वायरस बुखार ने भी तेजी आई है। शहर के प्रमुख जीएमसी और एसएमजीएस अस्पतालों में शिशु रोगियों के साथ अन्य बुखार के मरीजों की संख्या बढ़ी है। जिसमें डेंगू के साथ वायरस बुखार से पीड़ित हैं। वायरल बुखार 5-7 दिन तक मानव शरीर पर हावी रह रहा है। अक्तूबर माह में डेंगू के मामलों ने गति पकड़ी है।

जिला जम्मू अधिक प्रभावित हैं। यहां अनाधिकारिक तौर पर प्रतिदिन 20-30 मामले मिल रहे हैं, जिसमें आधे ही मामले सरकारी अस्पतालों में पंजीकृत हो रहे हैं, जबकि अन्य मामलों में तीमारदार अपने पीड़ितों को दूसरे राज्यों के अस्पतालों में ले जा रहे हैं।

जिला कठुआ में बुधवार को 8 नए मामलों के साथ कुल आंकड़ा 92 तक पहुंच गया। इसके अलावा सांबा जिला भी डेंगू से अधिक प्रभावित है। लगातार मिल रहे डेंगू के मामलों ने स्वास्थ्य विभाग के साथ जिला प्रशासन की चिंता बढ़ा दी है। 

कठुआ में डेंगू के मरीजों को नहीं मिल पा रहा है उपचार, जीएमसी में जांच किट खत्म 
कठुआ जिले में तमाम दावों के बावजूद डेंगू के मरीजों को स्वास्थ्य विभाग से अपेक्षा के अनुरूप जांच की सहूलियत नहीं मिल पा रही है। डेंगू की रोकथाम के पर्याप्त प्रबंध किए जाने की लगातार उठ रही मांगों के बावजूद अब तक व्यवस्था में सुधार नही हो पाया है।

नतीजा यह है कि जिला मुख्यालय पर जीएमसी की सुविधा होने के बावजूद मरीजों को पड़ोसी राज्य के निजी अस्पतालों की ओर रुख करना पड़ रहा है। जिले के जीएमसी अस्पताल में डेंगू जांच किट न होने से मरीजों की जांच नहीं हो पा रही है। इसी वजह से डेंगू के मरीजों की सही जानकारी सामने नहीं आ पा रही है। शहर के वार्ड दो निवासी मरीज मोहित पिछले पांच दिनों से बुखार में तपने के बाद भी जांच न हो पाने के कारण अब पंजाब के निजी अस्पताल का रुख कर लिया है।

उनके परिजनों ने बताया कि शनिवार को पहली बार जीएमसी कठुआ में उपचार के लिए आए थे। अस्पताल के मेडिसिन विभाग के डॉक्टर ने डेंगू की जांच के लिए परामर्श दिया। लेकिन मंगलवार तक जांच न होने के कारण उन्हें मजबूर होकर पंजाब में जाना पड़ा है। शहर से सटे गोविंदसर गांव में अबतक 50 से अधिक लोगों को डेंगू होने की पुष्टि हो चुकी है और कई अन्य मरीज आज भी बीमार है।

इन मरीजों के उपचार के लिए स्थापित जिले के सबसे बड़े स्वास्थ्य संस्थान में सुविधाओं का अभाव सरकार की तैयारियों की पोल खोल रहा है। इस बारे में जीएमसी कठुआ माइक्रो बायोलॉजी विभाग की एचओडी डॉ. नताशा की माने तो पिछले तीन चार दिन से जांच किट्स खत्म होने के चलते जीएमसी में जांच नहीं हो पा रही थी। अब किट्स मंगवा लिए गया है और जांच की प्रक्रिया भी शुरू हो गई है।
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर में बड़ा हादसा: डोडा में मेटाडोर खाई में गिरी, 11 की मौत, 15 लोग घायल

डोडा जिले के ठाठरी में मेटाडोर के अनियंत्रित होकर खाई में गिरने से 11 लोगों की मौत हो गई। हादसे में 15 से अधिक घायल हो गए हैं, जिनमें से सात लोगों को एयरलिफ्ट करके जम्मू लाया गया है। सूचना मिलने के बाद आसपास के ग्रामीण राहत और बचाव के लिए मौके पर पहुंचे। उन्होंने सेना के जवानों के साथ मिलकर घायलों को खाई से निकाल जिला अस्पताल पहुंचाया। फिलहाल सभी की हालत स्थिर बनी हुई है।

गुरुवार सुबह ठाठरी इलाके से जिला मुख्यालय डोडा आ रही मेटाडोर करीब आठ बजे सुईबारी कराड़ा के पास खाई में जा गिरी। अचानक चीख पुकार मचने के बाद आसपास के गांवों में रहने वाले लोग मौके पर पहुंचे। इसकी सूचना पुलिस और सेना को दी। इसके तुरंत बाद सेना के जवान मौके पर पहुंचे। उन्होंने ग्रामीणों की सहायता से खाई में उतर घायलों को बाहर निकालने का प्रयास शुरु कर दिया।
 

यह भी पढ़ें- टी20 वर्ल्ड कप: छात्रा को मिल रही धमकी, कश्मीर में पाकिस्तान की जीत का जश्न मनाने का किया था विरोध

घटनास्थल से जिला मुख्यालय का दूरी करीब दस किलोमीटर है। हादसे की सूचना मिलने के बाद प्रशासनिक अधिकारी, स्वास्थ्य विभाग के कर्मी एबुलेंस लेकर मौके पर पहुंचे। सभी घायलों को उपचार के लिए तुरंत जिला अस्पताल पहुंचाया गया। अचानक घायलों के पहुंचने के बाद अस्पताल में चीख पुकार मच गई। केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने घटना के बाद डीसी डोडा विकास शर्मा से बात कर घायलों के बारे में जानकारी ली। उन्होंने कहा कि घायलों को उचित उपचार मुहैया करवाया जाए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जम्मू-कश्मीर के ठाठरी में सड़क दुर्घटना में हुई मौतों पर शोक व्यक्त किया है। पीएमएनआरएफ की ओर से जान गंवाने वालों के परिजनों को दो-दो लाख रुपए और घायलों को 50 हजार रुपए की सहायता दी जाएगी।

 



डोडा हादसे पर दुख जताते हुए उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने जिला प्रशासन को तत्काल राहत कार्य शुरू करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने सभी घायलों को उचित सुविधा मुहैया करवाने को कहा है। उधर, जम्मू-कश्मीर सरकार एलजी विवेकाधाान कोष से मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख और सड़क पीड़ित कोष से एक लाख की तत्काल आर्थिक सहायता मुहैया करवाएगी।   

... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर : अब नहीं बच सकेंगे हाइब्रिड आतंकी, इस तकनीक से पकड़ में आएंगे संदिग्ध

कश्मीर घाटी में टारगेट किलिंग के बाद हाइब्रिड आतंकियों और संदिग्धों की पहचान के लिए चेहरे की पहचान करने वाली तकनीक लाने की तैयारी की जा रही है। इसे लेकर श्रीनगर नगर निगम से बात की गई है। इसके लिए फेशियल रेकोग्नीशन टेक्नोलॉजी (एफआरटी) लाई जाएगी। इससे सीसीटीवी में कैद होने वाले संदिग्धों की पहचान करने में आसानी होगी।

उक्त तकनीक के तहत पुलिस के पास एक डाटाबेस भी होगा, जिससे इनकी पहचान की जाएगी। सूत्रों का कहना है कि श्रीनगर से शुरूआत की जाएगी। इसके बाद पुलवामा, शोपियां, कुलगाम आदि में इस तकनीक का इस्तेमाल किया जा सकता है।  

इस तकनीक के तहत हाई रेजोल्यूशन वाले कैमरे लगाए जाते हैं। एक बायोमीट्रिक सेटअप बनाया जाता है। कैमरों से खींची गई तस्वीरों या वीडियो में दिखने वाले शख्स को बायोमीट्रिक सेटअप के जरिए इस्तेमाल किया जाता है। इस सिस्टम में पुलिस अपराधियों, आतंकियों और संदिग्धों की पहचान कर सकती है।

सी के पकड़े जाने के बाद यदि उस पर शक हुआ तो कैमरे से खींची गई तस्वीर या वीडियो के साथ पकड़े गए संदिग्ध की मैचिंग करवाई जाएगी। इससे पता चल जाएगा कि तस्वीर या कैमरे में दिखने वाला पकड़ा गया शख्स ही है। जम्मू-कश्मीर पुलिस और श्रीनगर नगर निगम मिलकर इस तकनीक के लिए प्रयास कर रहे हैं। सेंट्रल कश्मीर के डीआईजी सुजीत कुमार का कहना है कि इसे लेकर श्रीनगर नगर निगम से बात की गई है। जल्द ही इस पर काम शुरू करेंगे। 

गौरतलब है कि इस समय पुलिस किसी व्यक्ति की तस्वीर या वीडियो की पहचान के लिए उसे गुजरात की एफएसएल और चंडीगढ़ की एफएसएल के पास भेजती है। नई तकनीक आने से त्वरित जांच हो सकेगी। 
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर: 46 फीसदी सरकारी स्कूलों में कक्षाओं की हालत खस्ता, यूनेस्को की रिपोर्ट में तथ्य आया सामने

जम्मू-कश्मीर के 29708 सरकारी स्कूलों में से 46 फीसदी यानी 16042 ऐसे स्कूल हैं, जिनमें कक्षाओं की स्थिति खस्ता है। केवल 56 फीसदी ही ऐसे स्कूल हैं, जिसमें कक्षाओं की स्थिति अच्छी पाई गई है। यह तथ्य देशभर के स्कूलों को लेकर यूनेस्को की ओर से जारी रिपोर्ट में सामने आए हैं।

प्रदेश के सरकारी स्कूलों की स्थिति काफी खराब है। स्कूलों में बुनियादी सुविधाओं की काफी कमी है। यूनेस्को की ओर से जारी रिपोर्ट में यह बात समाने आई है। सरकारी स्कूलों में कक्षाओं की स्थिति काफी खराब है। कक्षाओं में बैठने के लिए डेस्क, फैन, स्मार्ट बोर्ड आदि की कमी है। अच्छी स्थिति वाली कक्षाओं के मामले में पड़ोसी राज्य हिमाचल 58 फीसदी और 68 फीसदी है।

प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों के सरकारी स्कूलों में कक्षाओं की स्थिति ज्यादा खराब है, जिसके कारण अभिभाव बच्चों को निजी स्कूलों में भेजने के लिए मजबूर हैं। रिपोर्ट में सामने आया है कि प्रदेश के 79 फीसदी स्कूलों में निशुल्क पुस्तकें मुहैया करवाई जाती हैं।

यह भी पढ़ें-
जम्मू-कश्मीर: भारतीय सेना के श्रीनगर पहुंचने के 74 साल पूरे होने का मनाया जश्न, लड़ाकू विमानों ने दिखाया दमखम, देखिए तस्वीरें

स्कूल शिक्षा विभाग स्कूलों की स्थिति में सुधार को लेकर कितना गंभीर है, इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ओर से मंजूर 24 मॉडल स्कूलों के लिए जारी किए गए 44.13 करोड़ रुपये को दस साल में भी खर्च नहीं किए गए और सरकार को यह राशि ब्याज सहित लौटने को कहा था।
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर: सरकारी सीमेंट की तस्करी में ट्रक चालक, घर का मालिक गिरफ्तार

जम्म-कश्मीर में कठुआ शहर से सटे जंगलोट क्षेत्र के कनियाड़ी गांव में एक निजी परिसर से पकड़े गए सरकारी सीमेंट मामले में पुलिस ने घर के मालिक और ट्रक चालक को गिरफ्तार कर लिया है। मंगलवार को पुलिस ने एक सूचना के बाद सरकारी सीमेंट के 250 बैग बरामद किए थे। बताया जा रहा है कि सीमेंट बैग की तस्करी से प्रभावशाली लोग जुड़े हैं, जिसके चलते पुलिस ने अभी तक नाम सार्वजनिक नहीं किए हैं। हालांकि मामला दर्ज कर कार्रवाई जारी है।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि कनियाड़ी गांव में पकड़ा गया सीमेंट सरकारी सप्लाई का है, जिसे मिलीभगत से तस्करी कर निजी इस्तेमाल के लिए पहुंचाया गया था। प्रारंभिक जांच में यह सीमेंट एक सरकारी निर्माण एजेंसी से जुड़ा बताया जा रहा है, लेकिन जांच अभी जारी है। 250 बैग सीमेंट जिस ट्रक में आया उसका चालक उधमपुर का रहने वाला है। वहीं सीमेंट जिस परिसर में उतारा गया, उसका मालिक रसूखदार बताया जा रहा है।

यह भी पढ़ें-
एयर मार्शल अमित देव: हमारे पास एक दिन संपूर्ण कश्मीर होगा, फिलहाल पीओके पर कब्जे की योजना नहीं

सरकारी सीमेंट की तस्करी मामले में कई और लोगों के नाम आ सकते हैं। इसे लेकर पुलिस अन्य लोगों की पहचान करने में जुट गई है। एसएसपी कठुआ रमेश चंद्र कोतवाल ने बताया कि मामले में ट्रक चालक और जिस व्यक्ति के परिसर में सीमेंट को उतारा जा रहा था, दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया है। 250 से अधिक सीमेंट बैग कठुआ पुलिस ने बरामद किया था। जिसके बाद उधमपुर निवासी ट्रक चालक जो ट्रक का मालिक भी है, उसे गिरफ्तार कर लिया गया था। सीमेंट पंजाब से लाया गया था। ट्रक जहां अनलोड किया जा रहा था, उस परिसर के मालिक को भी गिरफ्तार कर लिया गया है।

... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00