विज्ञापन

ज्ञानेन्द्रपति की कविता: शाम के इंतज़ार में है

ज्ञानेन्द्रपति की कविता: शाम के इन्तज़ार में है
                
                                                                                 
                            घुटने मोड़ कर बैठी हुई यह लड़की
                                                                                                

शाम के  इंतज़ार में है
धुँधलके के इंतज़ार में

दिन उतर आया है उसके घुटनों तक

घुटने मोड़ कर बैठी हुई यह लड़की
दिन के अपने पैरों तले आ जाने के  इंतज़ार में है
अंधेरे के इंतज़ार में

तब अपने केशों पर फिराएगी वह हाथ
और बदल जाएगा उसका भेस
उसके सपाट चेहरे पर जल उठेंगी उसकी आँखें
आ जाएगी उनमें वह चमक जो केवल
बुरी स्त्रियों की आँखों में होती है
लालसा और घृणा से भर देने वाली चमक

आहिस्ता चलती हुई
अपने शिकार की तलाश में निकलेगी इस मैदान में

और एक बार फिर
शिकार की तलाश में घूमते
किसी लोलुप व्याघ्र का शिकार होगी
अपने विलाप को मुस्कुराहट में बदलती हुई ।
1 month ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X