आप अपनी कविता सिर्फ अमर उजाला एप के माध्यम से ही भेज सकते हैं

बेहतर अनुभव के लिए एप का उपयोग करें

विज्ञापन

बे असर

                
                                                                                 
                            न जाने किस हाल से गुज़र रहा हूं मैं
                                                                                                

जैसे एक उम्र तक जिंदगी से बेखबर रहा हूं मैं
तेरे साथ से हर महफ़िल की शान था और
बाद तेरे हर महफ़िल में बे-असर रहा हूं मैं

हर घड़ी हर दफा नाकाम कोशिशें
पाने तुझे बैचेन इस कदर रहा हूं मैं
तेरी बेवफाई कर गई मेरी चमक फीकी
नहीं उगते सूरज सा उम्र भर रहा हूं मैं

होंगे और ही शायर हो टूटा दिल जिनका
तेरे दामन से छूट के दर-वा-दर रहा हूं मैं
नज़रें थकती नहीं देखते राह अब तेरी
कैसे कहूं बेताब अब मर रहा हूं मैं

रात की चांदनी में बुझे चिराग को लेकर
तेरे घर की तलाश में बे-घर रहा हूं मैं
आरज़ू है मेरी कोई पुकारे लेकर नाम मेरा
खो ना जाऊं कहीं इस बात से डर रहा हूं मैं ।।
- हम उम्मीद करते हैं कि यह पाठक की स्वरचित रचना है। अपनी रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
2 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X