आज का शब्द: ज्येष्ठ और सूर्यकांत त्रिपाठी निराला की कविता- देते हैं हम तुम्हें प्रेम-आमन्त्रण

aaj ka shabd jyeshth suryakant tripathi nirala best poem varsh ke ujjawal pratham prakash
                
                                                             
                            ज्येष्ठ का अर्थ है- पद, मर्यादा, आयु आदि में किसी से बड़ा या अधिक उम्र वाला। अमर उजाला 'हिंदी हैं हम' शब्द श्रृंखला में आज का शब्द है- ज्येष्ठ। प्रस्तुत है सूर्यकांत त्रिपाठी निराला की कविता- देते हैं हम तुम्हें प्रेम-आमन्त्रण
                                                                     
                            

(1)
ज्येष्ठ ! क्रूरता-कर्कशता के ज्येष्ठ ! सृष्टि के आदि !
वर्ष के उज्जवल प्रथम प्रकाश !
अन्त ! सृष्टि के जीवन के हे अन्त ! विश्व के व्याधि!
चराचर दे हे निर्दय त्रास !
सृष्टि भर के व्याकुल आह्वान !--अचल विश्वास !
देते हैं हम तुम्हें प्रेम-आमन्त्रण,
आओ जीवन-शमन, बन्धु, जीवन-धन ! आगे पढ़ें

7 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X