आज का शब्द: उत्पल और महादेवी वर्मा की कविता- क्या पूजन क्या अर्चन रे !

आज का शब्द
                
                                                             
                            उत्पल का अर्थ है- कमल। अमर उजाला 'हिंदी हैं हम' शब्द श्रृंखला में आज का शब्द है- उत्पल। प्रस्तुत है महादेवी वर्मा की कविता- क्या पूजन क्या अर्चन रे !
                                                                     
                            

क्या पूजन क्या अर्चन रे!

उस असीम का सुंदर मंदिर मेरा लघुतम जीवन रे !
मेरी श्वांसें करती रहतीं नित प्रिय का अभिनंदन रे !

पद रज को धोने उमड़े आते लोचन में जल कण रे !
अक्षत पुलकित रोम मधुर मेरी पीड़ा का चंदन रे !

स्नेह भरा जलता है झिलमिल मेरा यह दीपक मन रे ! 
मेरे दृग के तारक में नव #उत्पल का उन्मीलन रे !

धूप बने उड़ते जाते हैं प्रतिपल मेरे स्पंदन रे !
प्रिय प्रिय जपते अधर ताल देता पलकों का नर्तन रे !
1 month ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X