विज्ञापन

अब्बास ताबिश: हँसने नहीं देता कभी रोने नहीं देता

अब्बास ताबिश: हँसने नहीं देता कभी रोने नहीं देता
                
                                                                                 
                            हँसने नहीं देता कभी रोने नहीं देता 
                                                                                                

ये दिल तो कोई काम भी होने नहीं देता 

तुम माँग रहे हो मिरे दिल से मिरी ख़्वाहिश 
बच्चा तो कभी अपने खिलौने नहीं देता 

मैं आप उठाता हूँ शब-ओ-रोज़ की ज़िल्लत 
ये बोझ किसी और को ढोने नहीं देता 

वो कौन है उस से तो मैं वाक़िफ़ भी नहीं हूँ 
जो मुझ को किसी और का होने नहीं देता 
1 month ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X