हंसो तो साथ हंसेंगी दुनिया बैठ अकेले रोना होगा - मीराजी

meeraji ghazal hanso toh sath hansegi duniya
                
                                                             
                            

हंसो तो साथ हंसेंगी दुनिया बैठ अकेले रोना होगा
चुपके चुपके बहा कर आंसू दिल के दुख को धोना होगा

बैरन रीत बड़ी दुनिया की आंख से जो भी टपका मोती
पलकों ही से उठाना होगा पलकों ही से पिरोना होगा

खोने और पाने का जीवन नाम रखा है हर कोई जाने
उस का भेद कोई न देखा क्या पाना क्या खोना होगा

बिन चाहे बिन बोले पल में टूट फूट कर फिर बन जाए
बालक सोच रहा है अब भी ऐसा कोई खिलौना होगा

प्यारों से मिल जाएं प्यारे अनहोनी कब होनी होगी
कांटे फूल बनेंगे कैसे कब सुख सेज बिछौना होगा

बहते बहते काम न आए लाख भंवर तूफ़ानी-सागर
अब मंजधार में अपने हाथों जीवन नाव डुबोना होगा

जो भी दिल ने भूल में चाहा भूल में जाना हो के रहेगा
सोच सोच कर हुआ न कुछ भी आओ अब तो खोना होगा

क्यूं जीते-जी हिम्मत हारें क्यूं फ़रियादें क्यूं ये पुकारें
होते होते हो जाएगा आख़िर जो भी होना होगा

'मीरा-जी' क्यूं सोच सताए पलक पलक डोरी लहराए
क़िस्मत जो भी रंग दिखाए अपने दिल में समोना होगा 

3 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X