विज्ञापन

सैकड़ों मौत के बाद भी नहीं रुका अवैध शराब का धंधा, इन इलाकों में अब भी धधक रहीं भट्ठियां

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, लखनऊ Updated Sat, 09 Feb 2019 02:52 PM IST
अवैध शराब
अवैध शराब - फोटो : amar ujala
ख़बर सुनें
कुशीनगर और सहारनपुर में कई जिंदगी लीलने वाली जहरीली शराब ने सवा चार साल पहले राजधानी में भी कोहराम मचाया था। मलिहाबाद के दतली और खड़ता गांव में जहरीली शराब से 100 से अधिक मौतों के बाद तत्कालीन सरकार ने बड़े स्तर पर कार्रवाई की लेकिन अवैध शराब के धंधे पर लगाम नहीं लग सकी। ग्रामीण इलाकों और हाइवे के थाना क्षेत्रों में आज भी गांव-गांव शराब की भट्ठियां धधक रही हैं। 
विज्ञापन
आबकारी विभाग और पुलिस की टीमें इस कारोबार पर अंकुश लगाने में नाकाम साबित हुए हैं। यह कारोबार पुलिस और आबकारी विभाग की मिलीभगत से फल-फूल रहा है। कोई बड़ी घटना होने के बाद पुलिस-प्रशासन कार्रवाई करता है लेकिन कुछ ही दिन में नतीजा वही ढाक के तीन पात। ग्रामीणों का कहना है कि अवैध शराब की भट्ठियां, पुलिस और आबकारी विभाग के लिए बड़ी कमाई का जरिया हैं। इसलिए इन पर पूरी तरह से रोकथाम नहीं लगाई जा रही है। एक जगह शराब बंद होती है तो वही लोग दूसरी जगह शराब बनाने लगते हैं।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

11 जनवरी 2015 को हुआ था राजधानी का सबसे बड़ा शराब कांड

विज्ञापन

Recommended

महाशिवरात्रि पर करवाएं विशेष शिव पूजन, महादेव देंगे मनचाहा वरदान
ज्योतिष समाधान

महाशिवरात्रि पर करवाएं विशेष शिव पूजन, महादेव देंगे मनचाहा वरदान

आप भी बन सकते हैं हिस्सा साहित्य के सबसे बड़े उत्सव "जश्न-ए-अदब" का-  यहाँ register करें-
Register Now

आप भी बन सकते हैं हिस्सा साहित्य के सबसे बड़े उत्सव "जश्न-ए-अदब" का- यहाँ register करें-

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all crime news in Hindi. Stay updated with us for all breaking hindi news.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Meerut

गठबंधन: पश्चिमी यूपी की 18 सीटों पर सपा-बसपा का नया फार्मूला, मायावती यहां से लड़ेंगी चुनाव!

लोकसभा चुनाव 2019 के लिए सीटों के बंटवारे में सपा-बसपा गठबंधन ने अपने पत्ते खोल दिए हैं। पश्चिमी यूपी की महत्वपूर्ण 18 सीटों पर त्रिगुणात्मक फार्मूला (तीन का पहाड़ा) लगाया गया है। मायावती यहां से लड़ेंगी चुनाव

22 फरवरी 2019

विज्ञापन

चुनाव से पहले बीजेपी से गठबंधन पर ये बोलीं अपना दल नेता अनुप्रिया पटेल, राम मंदिर पर थी ये राय

केंद्रीय मंत्री और अपना दल नेता अनुप्रिया पटेल ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी अपने सहयोगियों का ख्याल नहीं रखती है।

22 फरवरी 2019

Related

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree