लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Lucknow ›   Mayawati's attack on RSS: If PFI is a threat to the security of the country then why not ban RSS

मायावती का हमला : पीएफआई अगर देश की सुरक्षा के लिए खतरा तो आरएसएस पर प्रतिबंध क्यों नहीं?

अमर उजाला ब्यूरो, लखनऊ Published by: पंकज श्रीवास्‍तव Updated Fri, 30 Sep 2022 07:21 PM IST
सार

मायावती ने कहा कि विपक्षी पार्टियां सरकार की नीयत में खोट मानकर इस मुद्दे पर भी आक्रोशित व हमलावर हैं और आरएसएस पर भी बैन लगाने की मांग खुलेआम हो रही है कि अगर पीएफआई देश की आंतरिक सुरक्षा के लिए खतरा है तो उस जैसी अन्य संगठनों पर भी बैन क्यों नहीं लगना चाहिए।

बसपा सुप्रीमो मायावती।
बसपा सुप्रीमो मायावती। - फोटो : amar ujala
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

बसपा सुप्रीमो मायावती ने पीएफआई (पीपुल्स फ्रंट ऑफ इंडिया) की तुलना आरएसएस से की है। उन्होंने कहा है कि आरएसएस पर भी प्रतिबंध लगाने की मांग हो रही है। मायावती ने शुक्रवार को ट्वीट किया। कहा, केंद्र द्वारा पीएफआई पर देश भर में कई प्रकार से टारगेट करके अंतत: अब चुनावों से पहले उस पर उसके आठ सहयोगी संगठनों के साथ प्रतिबंध लगा दिया है। इसे राजनीतिक स्वार्थ व संघ तुष्टिकरण की नीति मानकर यहां लोगों में संतोष कम व बेचैनी ज्यादा है। यही कारण है कि विपक्षी पार्टियां सरकार की नीयत मेें खोट मानकर इस मुद्दे पर भी आक्रोशित व हमलावर हैं। आरएसएस पर भी बैन लगाने की मांग खुलेआम हो रही है कि अगर पीएफआई देश की आंतरिक सुरक्षा के लिए खतरा है तो उस जैसे अन्य संगठनों पर भी बैन क्यों नहीं लगना चाहिए?

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00