लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

खाई में मिला कमल: 18 घंटे तक तलहटी में पड़ा रहा शव, बच जाती जान अगर दोस्तों ने न बोला होता परिवार से ये झूठ

संवाद न्यूज एजेंसी, फरीदाबाद Published by: Vikas Kumar Updated Sun, 20 Nov 2022 09:17 PM IST
18 घंटे बाद खाई से निकाला गया कमल का शव
1 of 5
विज्ञापन
सेल्फी के दौरान खाई में गिरने के बाद समय से कमल को ढूंढ लिया जाता तो शायद उसकी जान बच सकती थी। खाई की गहराई इतनी ज्यादा है कि रात के समय किसी भी सूरत में खाई के अंदर उतरना संभव नहीं था। पुलिस को कमल के खाई में गिरने की सूचना रात करीब 10 बजे मिल गई थी। अंधेरा होने के कारण खाई में उतरना तो दूर पास जाने में भी खतरा था। ऐसे में पुलिस के पास दिन निकलने का इंतजार करने के सिवा दूसरा कोई रास्ता नहीं बचा था। 
क्रैन की मदद से निकाला गया शव
2 of 5
सुबह छह बजे से ही पुलिस ने राहत कार्य शुरू किया। चौकी प्रभारी एसआई सुरेंद्र, हवलदार अरविंद व सिपाही विरेंद्र कमर पर रस्सी बांधकर खाई में उतरे। चौकी का अन्य स्टाफ ऊपर से उनकी मदद कर रहा था। पेड़ों पर रस्सी बांधते हुए टीम खाई की गहराई में उतरी। यहां कमल का शव पड़ा हुआ था। उसके सिर और मुंह पर गहरी चोट के कारण उसकी मौत हो चुकी थी। इस दौरान जंगली जानवरों ने उन्हें परेशान किया। 
विज्ञापन
रस्सी के सहारे खाई में उतरते पुलिस वाले
3 of 5
खाई में मौजूद बंदरों से निपटना भी पुलिस के लिए टेढ़ी खीर था। शव में वजन अधिक होने के कारण उसे रस्सी के सहारे ऊपर ले जाना संभव नहीं था। पुलिस टीम वापस ऊपर आई और हाइड्रा मशीन का इंतजाम किया गया। मशीन की रस्सी को खाई की गहराई तक ले जाने के लिए रस्सी व पट्टों को आपस में जोड़कर एक भारी पत्थर से बांधकर नीचे फेंका गया। इसके बाद टीम दोबारा से रस्सी के सहारे खाई में उतरी। नीचे सिग्नल नहीं होने के कारण फोन पर संपर्क कर पाना भी मुश्किल था।
कड़ी मश्क्कत के बाद निकाला गया शव
4 of 5
आधे रास्ते आकर पत्थरों में फंस गया शव
एसआई सुरेंद्र ने बताया खाई की गहराई से उन्होंने शव को रस्सी से बांधकर हाइड्रा मशीन से शव खिंचवाना शुरू कर दिया। ऊपर आने के बाद आधा रास्ते के बाद मशीन में खिंचाव आने लगा। ज्यादा जोर देने से रस्सा टूटने का डर था। पुलिस टीम तीसरी बार फिर खाई में उतरी। शव दो पत्थरों के बीच फंस गया था। टीम ने रस्सी पर लटके-लटके ही काफी मशक्कत के बाद शव को पत्थरों के बीच से निकाला। उन्होंने बताया एनडीआरएफ को सूचना दे दी गई थी। छुट्टी का दिन होने के कारण टीम आने में दिक्कत आ रही थी। खाई में ज्यादा देर तक शव को रहने देने पर जंगली जानवरों से शव को नुकसान होने का डर था।
विज्ञापन
विज्ञापन
कमल के परिजन
5 of 5
दोस्तों ने दी परिवार को झूठी सूचना
मृतक कमल के छोटे भाई विमल का आरोप है कि भाई रोज शाम सात बजे तक घर आ जाते थे। शनिवार रात करीब 8:30 बजे रवि उनके घर आया और पूछा कमल अभी तक घर नहीं पहुंचा क्या, उसे कुछ देर पहले ही घर के पास छोड़ा था। रात करीब 9:30 बजे रवि ने दोबारा फोन कर बताया कमल फरीदाबाद-गुरुग्राम रोड पर खाई में गिर गया है। रवि एक निजी कंपनी में काम करता है, जबकि दूसरा दोस्त हरमिंदर पेशे से वकील है। सेक्टर-12 कोर्ट में प्रैक्टिस करता है। पुलिस दोनों से पूछताछ कर रही है। परिवार के लोगों ने अभी तक किसी पर कोई शक नहीं जताया है।
विज्ञापन
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00