लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Funny Jokes: मास्टर जी के सवाल का पप्पू ने दिया मजेदार जवाब... पढ़िए धमाकेदार जोक्स

फीचर डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: नवनीत राठौर Updated Wed, 28 Jul 2021 10:07 AM IST
Jokes
1 of 5
विज्ञापन
जिस तरह अच्छी हवा, अच्छा खानपान किसी भी इंसान के सेहतमंद रहने के लिए जरूरी होता है, उसी प्रकार आपकी हंसी भी आपको स्वस्थ रखने में अहम भूमिका निभाती है। अगर आप सुबह-शाम हंसने की आदत डाल लें तो कोई भी बीमारी, चाहे मानसिक हो या शारीरिक आपके पास भी नहीं आएगी। इसीलिए हम आपके लिए कुछ ऐसे मजेदार चुटकुले लेकर आए हैं, जिन्हें पढ़ने के बाद आप हंसते-हंसते लोटपोट हो जाएंगे। तो चलिए शुरू करते हैं हंसने-हंसाने का ये सिलसिला...

-----------------------------------------

एक लड़की फोन पर बात करते हुए लिफ्ट में आई...!
.
पप्पू की तरफ देख कर हंसी और फोन पर अपनी सहेली से बोली - चल अब फोन रखती हूं,
लिफ्ट में एक शानदार, हैंडसम लड़का आया है,
देखती हूं अगर कोई बात बनती है तो...!
.
अब बेचारा पप्पू कुछ बोलता, उससे पहले ही लड़की बोली -
सॉरी अंकल, मेरी सहेली बहुत पकाती है,
मुझे फोन रखना था, इसलिए झूठ बोलना पड़ा...!
.
पप्पू (मन ही मन में) - भगवान कसम, आज तक इतनी शराफत से किसी ने बेइज्जत नहीं किया...!
Jokes
2 of 5
पार्क के सूचना पट्ट पर एक सुविचार लिखा था...!
.
'पेड़ पर अपनी माशूका का नाम लिखने से बेहतर है,
उसके नाम पर एक पेड़ लगाएं' 
.
ये बात पप्पू के दिल को छू गई...!
.
उसी दिन उसने गर्लफ्रेंड्स की गिनती की
और आखिर में एक बीघा जमीन लेकर गन्ना बो डाला...!
विज्ञापन
Jokes
3 of 5
लड़का - तुम्हारा नाम क्या है...?
.
लड़की - तमन्ना...
.
लड़का - तुम्हारे पापा का नाम सरफरोशी है क्या...?
.
लड़की - क्यों...?
.
लड़का - क्योंकि सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है...!
Jokes
4 of 5
सात साधु आश्रम में सात चटाई पर बैठे थे...!
.
तभी पप्पू आया और सबसे बड़े साधु से पूछा -
बाबा, बीवी कंट्रोल नहीं होती, क्या करूं...?
.
साधु (छोटे साधु से) - एक चटाई और लगा भाई के लिए...!
विज्ञापन
विज्ञापन
Jokes
5 of 5
मास्टर जी - दशमलव किसे कहते हैं...?
.
.
.
पप्पू - जब 10 से LOVE हो जाए,
उसी को दशमलव कहते हैं...!
विज्ञापन
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00