लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

चाचा- भतीजे की जोड़ी का कमाल: मैनपुरी में रिकॉर्ड मतों से जीतीं डिंपल, रामपुर में पहली बार खिला कमल

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: आकाश दुबे Updated Fri, 09 Dec 2022 09:21 AM IST
जीत का प्रमाणपत्र दिखातीं डिंपल यादव, साथ में अखिलेश यादव
1 of 5
विज्ञापन
यूपी की मैनपुरी लोकसभा सीट पर डिंपल यादव ने रिकॉर्ड तोड़ जीत दर्ज की है। उन्होंने भाजपा के रघुराज शाक्य को 2 लाख 88 हजार से ज्यादा वोटों से हराया है। सबसे ज्यादा उलटफेर आजम खान का गढ़ माने जाने वाले रामपुर में हुआ है। यहां पहली बार ‘कमल’ खिला है। भाजपा प्रत्याशी आकाश सक्सेना ने आजम के करीबी आसिम रजा को 25,703 वोटों से हरा दिया है। उधर, खतौली विधानसभा सीट पर सपा-रालोद गठबंधन के मदन भैया की जीत हुई है।
सीएम योगी आदित्यनाथ, भाजपा प्रत्याशी रघुराज शाक्य
2 of 5
मैनपुरी लोकसभा के उपचुनाव में समाजवादी पार्टी की प्रत्याशी डिंपल यादव को 618120 वोट मिले तो वहीं भाजपा प्रत्याशी रघुराज शाक्य को 329659 वोट मिले। इस तरह से सपा ने 288461 मतों से बीजेपी को शिकस्त दी है। भाजपा ने मैनपुरी जीतने के लिए पूरा जोर लगा दिया था। सीएम योगी आदित्यनाथ समेत सरकार के कई मंत्रियों ने चुनाव प्रचार में पूरी ताकत झोंक दी थी। वहीं दूसरी तरफ मैनपुरी सीट को बचाने के लिए सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने किसी तरह की कोई भी गुंजाइश नहीं छोड़ी। चाचा शिवपाल यादव को साथ लाकर सपा अध्यक्ष ने सारे समीकरण ध्वस्त कर दिए।

विज्ञापन
शिवपाल यादव, अखिलेश और डिंपल
3 of 5
सपा का गढ़ माने जाने वाले ज्यादातर लोकसभा क्षेत्रों पर बीजेपी अपनी जीत का परचम लहरा चुकी है। कन्नौज, फिरोजाबाद, फर्रुखाबाद, बदायूं, इटावा, आजमगढ़ और रामपुर जैसे इलाके में बीजेपी का कब्जा है।  मैनपुरी सपा की परंमपरागत सीट मानी जाती है। मुलायम सिंह से लेकर धर्मेंद्र यादव और तेज प्रताप यादव तक सांसद रहे हैं। यही वजह है कि बीजेपी यह सीट जीतकर पूरे देश में नया राजनीतिक संदेश देना चाहती थी और 2024 के लिए सूबे में एक मजबूत सियासी आधार खड़ा करना चाहती थी। लेकिन भाजपा के मंसूबों में पानी फिर गया है। डिंपल यादव ने भाजपा प्रत्याशी को बड़े अंतर से हराया है। 
प्रसपा का सपा में विलय
4 of 5
मैनपुरी उपचुनाव में जीत के बाद प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (प्रसपा) का समाजवादी पार्टी में विलय हो गया। गुरुवार को सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने चाचा शिवपाल सिंह यादव को सपा का झंडा दिया, जिसे बाद में शिवपाल की गाड़ी पर लगाया गया। शिवपाल ने कहा कि वह समाजवादी थे, हैं और हमेशा रहेंगे। 2024 का चुनाव एक साथ मिलकर लड़ेंगे। प्रसपा का सपा में विलय होते ही शिवपाल ने अपने ट्विटर हैंडल से राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रसपा हटाकर नेता-समाजवादी पार्टी लिख लिया। झंडा देने के दौरान अखिलेश भी बोले, चाचा समाजवादी।
विज्ञापन
विज्ञापन
अंशुल यादव ने शिवपाल सिंह यादव की गाड़ी में लगाया
5 of 5
सपा के झंडे को अंशुल यादव ने शिवपाल सिंह यादव की गाड़ी में लगाया। गाड़ी पर पहले प्रसपा का झंडा लगा था। इस दौरान शिवपाल के बेटे आदित्य यादव उर्फ अंकुर भी मौजूद रहे। मीडिया से बातचीत में शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि वह हमेशा से समाजवादी थे। अब उनकी पार्टी का सपा में विलय हो गया है। आने वाले चुनाव अब मिलकर लड़ेंगे। 
विज्ञापन
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00