लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Janmashtmi 2022: पूर्व जन्म में कौन था कंस, कैसे हुई थी मृत्यु, जानिए इससे जुड़ी 10 खास बातें

धर्म डेस्क, अमर उजला, नई दिल्ली Published by: ज्योति मेहरा Updated Wed, 17 Aug 2022 12:36 PM IST
कंस से जुड़ी 10 खास बातें
1 of 11
विज्ञापन
janmashtami 2022: भगवान श्रीकृष्ण के जन्म से पहले ही अगर किसी को उनसे भय था, तो वह उनका मामा कंस था। असल में, कंस न ही तो एक राक्षस था, न ही कोई असुर या दानव। लेकिन कंस को लेकर जो भविष्यवाणी हुई थी कि, उनकी बहन देवकी का एक पुत्र ही उसकी मृत्यु का कारण बनेगा। इसकी वजह से वह दहशत में रहने लगा था। इस कहानी के बारे में तो सभी जानते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि कंस पिछले जन्म में क्या था? कंस की मृत्यु कैसे हुई थी? आज हम आपको श्रीकृष्ण के मामा कंस के बारे में दस ऐसी खास बातें बताने जा रहे हैं, जिसके बारे में जानकर आप हैरान रह जाएंगे।

कंस अपने पिछले जन्म में 'कालनेमि' नाम का एक असुर था, जिसका वध भगवान विष्णु ने किया था। कालनेमि के पिता का नाम विरोचन था। कालनेमि ने देवासुर संग्राम में भगवान हरि पर अपने सिंह पर बैठे-बैठे ही बड़े वेग से त्रिशूल चलाया। लेकिन हरि ने उस त्रिशूल को पकड़कर, उसी त्रिशूल से वाहन समेत उसको मार डाला। 
 
कंस से जुड़ी 10 खास बातें
2 of 11
1. इसी कालनेमि ने उग्रसेन के यहां कंस के रूप में जन्म लिया। कंस शूरसेन जनपद के राजा उग्रसेन का पुत्र और श्री कृष्ण का मामा था। उस काल में अंधक, अहीर, भोज, स्तवत्ता, गौर जैसे 106 कुलों को मिलाकर यादव गणराज्य कहलाता था। उग्रसेन यदुवंशीय राजा आहुक के पुत्र थे, जिनके नौ पुत्र और पांच पुत्रियां थी और कंस इन भाइयों में सबसे बड़ा था।
 
विज्ञापन
कंस से जुड़ी 10 खास बातें
3 of 11
2. कहा जाता है कि कंस अपने पिता को राज पद से हटाकर स्वयं शूरसेन जनपद का राजा बन बैठा था। उसने अपने पिता उग्रसेन को जेल में डाल दिया था। बता दें मथुरा भी शूरसेन जनपद के अंतर्गत ही आता है। इतना ही नहीं कंस के अपने काका शूरसेन को भी राज पद से हटाकर मथुरा को अपने अधीन कर लिया था। कंस प्रजा को पीड़ित करने लगा। इससे पहले शूरसेन का मथुरा पर राज था।  
 
कंस से जुड़ी 10 खास बातें
4 of 11
3. कंस ने आर्यावर्त के तत्कालीन सर्वप्रतापी राजा और मगध के विशाल साम्राज्य का शासक जरासंध की पुत्री से विवाह किया था, जिससे उसकी शक्तियां और भी बढ़ गईं। जरासंध पौरव वंश का था, जिसने कंस के साथ 'अस्ति' और 'प्राप्ति' नाम की अपनी दो पुत्री का विवाह कर दिया था।
 
विज्ञापन
विज्ञापन
कंस से जुड़ी 10 खास बातें
5 of 11
4. कंस ने अपने आस पास के राजाओं से भी काफी अच्छे संबंध बना रखे थे। कंस ने उत्तर-पश्चिम में कुरुराज दुर्योधन को अपना सहायक बनाया हुआ था। वहीं जरासंध ने चेदि के यादव वंशी राजा शिशुपाल को गहरा मित्र बना लिया था। शिशुपाल भगवान श्रीकृष्ण की बुआ का बेटा था, जिसकी आस्था कंस के प्रति भी थी। इसके अलावा र्वोत्तर की ओर असम के राजा भगदन्त से भी जरासंध के कारण कंस ने मित्रता जोड़ी हुई थी।
 
विज्ञापन
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें आस्था समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। आस्था जगत की अन्य खबरें जैसे पॉज़िटिव लाइफ़ फैक्ट्स,स्वास्थ्य संबंधी सभी धर्म और त्योहार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00