लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Khar Maas 2022 Date: खरमास हुए आरंभ, जानें इस माह क्या करें और क्या न करें

धर्म डेस्क, अमरउजाला, नई दिल्ली Published by: श्वेता सिंह Updated Fri, 16 Dec 2022 12:39 AM IST
खरमास में क्या करें क्या न करें
1 of 5
विज्ञापन
Khar Maas Kab Se Shuru: खरमास आरंभ हो चुका है। साल के अंतिम महीने में लग रहे इस खरमास में किसी भी प्रकार के शुभ कार्यों विशेषकर विवाह के लिए शुभ नहीं माना जाता है। मान्यता है कि खरमास में सूर्य देव का प्रभाव कम हो जाता है, इसलिए खरमास में कोई भी शुभ कार्य करने की मनाही होती है। खरमास साल में दो बार आता है, पहला खरमास मार्च के मध्य महीने से लेकर अप्रैल तक रहता है, दूसरा खरमास दिसंबर के मध्य महीने से लेकर जनवरी मध्य तक रहता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार दिसंबर में 15 तारीख से खरमास शुरू हो रहा है, जो नए साल में 14 जनवरी को मकर संक्रांति के दिन समाप्त हो जाएगा। तो आइए जानते हैं क्या है खरमास और इस दौरान क्या करना चाहिए और क्या नहीं। 

पढ़ें- राशिफल 2023 ।  अंकज्योतिष राशिफल 2023

Mokshada Ekadashi 2022: कब है मोक्षदा एकादशी? जानें पूजा मुहूर्त, पारण समय और महत्व
खरमास में क्या करें क्या न करें
2 of 5
खरमास क्या है और कैसे लगता है?
धनु राशि में सूर्य के गोचर की अवधि को खरमास या खरमास कहा जाता है। खर मास की शुरुआत दिसंबर के मध्य से होती है और जनवरी के मध्य तक रहती है। संक्रान्ति के इस काल में अग्नि तत्व अपने चरम पर होता है। यह समय उन गतिविधियों के लिए उपयोगी है जिनमें वाद-विवाद शामिल है। इस चरण में जलवायु, प्रकृति और मनुष्य के व्यवहार में भी परिवर्तन देखा जाता है। इस दौरान कोई भी शादी-विवाह आदि मांगलिक कार्य नहीं किए जाते हैं। खरमास पूरे एक माह तक रहता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सूर्य देव के एक राशि से दूसरे राशि में स्थान परिवर्तन की प्रक्रिया को संक्रांति कहते हैं। दिसंबर में सूर्य देव धनु राशि में प्रवेश करेंगे, जिससे खरमास लगा रहा है। इसे धनु संक्रांति के नाम से भी जाना जाता है। नए साल 2023 में सूर्य देव 14 जनवरी को धुन राशि से निकलकर मकर राशि में प्रवेश करेंगे, तो मकर संक्रांति पड़ेगी।


 
विज्ञापन
खरमास में क्या करें क्या न करें
3 of 5
नहीं होंगे कोई शुभ कार्य 
जैसा कि कहा जाता है कि खरमास के दौरान कोई मांगलिक कार्य नहीं किया जाता है। ऐसे में 16 दिसंबर से 14 जनवरी तक खरमास के दौरान शादी-विवाह आदि कोई भी मांगलिक कार्य नहीं किया जाता है। किसी भी नए कार्य की शुरूआत के लिए भी खरमास को अशुभ माना जाता है।
खरमास में क्या करें क्या न करें
4 of 5
खरमास में क्या करें करें 
  • ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इस पूरे माह में सूर्य देव की पूजा करना शुभ माना गया है। 
  • खरमास के पूरे माह में सूर्य देव को तांबे के पात्र से अर्घ्य देना चाहिए। 
  • सूर्य पाठ और सूर्य के मंत्रों का जाप करना चाहिए।
  • खरमास में भगवान विष्णु की पूजा करने से समस्त पापों का नाश होता है। साथ ही घर में यश-वैभव का आगमन होता है। 
  • इन दिनों में गौ माता, गुरुदेव और साधुजनों की सेवा करें। इससे शुभ फल की प्राप्ति होती है।  
विज्ञापन
विज्ञापन
खरमास में क्या करें क्या न करें
5 of 5
खरमास के दौरान न करें ये कार्य
  • खरमास में तामसिक भोजन का सेवन न करें।
  • शराब आदि का भी सेवन नहीं करना चाहिए।
  • तांबे के पात्र रखा पानी नहीं पीना चाहिए।
  • इस मास में कोई भी नई वस्तुएं और वाहन नहीं खरीदनें चाहिए।
  • गृह प्रवेश आदि शुभ कार्य नहीं करना चाहिए।
  • कोई भी नया कोराबार इस अवधि में नहीं शुरू करना चाहिए।
विज्ञापन
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें आस्था समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। आस्था जगत की अन्य खबरें जैसे पॉज़िटिव लाइफ़ फैक्ट्स,स्वास्थ्य संबंधी सभी धर्म और त्योहार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00