लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

कोरोना काल में भूखे मर गए बैकॉक चिड़ियाघर के वन्य जीव, टाइगर-मगरमच्छ हुए दुबले, देखिए क्या हुआ हाल

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, बैंकॉक Published by: सुरेंद्र जोशी Updated Fri, 19 Feb 2021 12:25 AM IST
हाथ फैला रहा भालू
1 of 4
विज्ञापन
कोरोना महामारी के कारण किए गए लॉकडाउन ने इंसानों पर नहीं वन्य जीवों पर भी बुरा असर डाला है। थाईलैंड की राजधानी बैंकॉक स्थित जू यानी प्राणी संग्रहालय के पिंजरों में बंद जीवों की दशा तो और भी खराब है। टाइगर, मगरमच्छ से लेकर तमाम वन्य जीव दुबले हो गए हैं तो भूखे भालू तो पर्यटकों के आगे हाथ फैला रहे हैं। तस्वीरों में देखिए इन जीवों का क्या है हाल-

बैंकॉक के जू को हाल ही में पर्यटकों के लिए दोबारा खोला गया है। बहुत कम संख्या में ही सही मगर लोग वहां सैर करने जा रहे हैं। इससे इन वन्य जीवों में उम्मीद जागी है, उनकी अब बेहतर खैर-खबर ली जाएगी। वे पर्यटकों को देखकर पिंजरों की जालियों के करीब आने लगे हैं। उन्हें लगता है कि कोई उन्हें खाने को देगा।
सड़े पानी में मगरमच्छ  घुट रहा दम
2 of 4
सड़ा पानी मगर के लिए आफत
अपने पिंजरे में बनाए गए पोखर के गंदे पानी तैर रहे मगरमच्छ मुंह बाहर निकाल कर मानो कह रहे हैं कि पानी तो बदल दो, चाहे खाने को मत दो। 

 
विज्ञापन
कृशकाय होते जा रहे हैं टाइगर
3 of 4
दुबले टाइगर देख हो रही हैरानी
शक्ति के प्रतीक टाइगर यानी  बाघ को देखकर तो पर्यटकों को हैरानी हो रही है। इतने दुबले टाइगर कदाचित ही कहीं देखने को मिलते होंगे। 

 
विलाप कर रहे हैं ये भालू
4 of 4
धरती पर जानवरों का नर्क
वन्य जीवों के संरक्षण के लिए काम कर रही संस्था पीटा के वरिष्ठ उपाध्यक्ष जैसन बैकर के अनुसार यह जू वन्य जीवों के लिए धरती पर नर्क जैसा बन गया है। 
विज्ञापन
विज्ञापन
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00