Aaj Ka Kavya

आज का काव्य

Kavya

चंद मिनटों में सुनिए कविता,ग़ज़ल और शेरो शायरी

आज का काव्य - सूर्यकांत त्रिपाठी निराला की कविता वह तोड़ती पत्थर

X

सभी 67 एपिसोड

आज का काव्य - सूर्यकांत त्रिपाठी निराला की कविता वह तोड़ती पत्थर 

आज का काव्य में प्रस्तुत है सर्वेश्वरदयाल सक्सेना की कविता- तुम्हारे साथ रहकर


तुम्हारे साथ रहकर
अक्सर मुझे ऐसा महसूस हुआ है
कि दिशाएं पास आ गयी हैं,
हर रास्ता छोटा हो गया है,
दुनिया सिमटकर
एक आंगन-सी बन गयी है
जो खचाखच भरा है,
कहीं भी एकान्त नहीं
न बाहर, न भीतर।
हर चीज़ का आकार घट गया है,
पेड़ इतने छोटे हो गये हैं
कि मैं उनके शीश पर हाथ रख
आशीष दे सकता हूं,
आकाश छाती से टकराता है,
मैं जब चाहूं बादलों में मुंह छिपा सकता हूं।

तुम्हारे साथ रहकर
अक्सर मुझे महसूस हुआ है
कि हर बात का एक मतलब होता है,
यहां तक कि घास के हिलने का भी,
हवा का खिड़की से आने का,
और धूप का दीवार पर
चढ़कर चले जाने का।

तुम्हारे साथ रहकर
अक्सर मुझे लगा है
कि हम असमर्थताओं से नहीं
सम्भावनाओं से घिरे हैं,
हर दिवार में द्वार बन सकता है
और हर द्वार से पूरा का पूरा
पहाड़ गुज़र सकता है।
शक्ति अगर सीमित है
तो हर चीज़ अशक्त भी है,
भुजाएं अगर छोटी हैं,
तो सागर भी सिमटा हुआ है,
सामर्थ्य केवल इच्छा का दूसरा नाम है,
जीवन और मृत्यु के बीच जो भूमि है
वह नियति की नहीं मेरी है।

सुनिए उत्कर्ष त्रिपाठी की कविता - गरीबी बहुत जरूरी है 

सुनिए प्रज्ञा नेमा की कविता -  सच आज भी घुट-घुट के जीता  है 
 

सुनिए कर्णिका की कविता - जब मैं धीरे धीरे उस भीड़ का हिस्सा हो रही थी 

सुनिए विशाखा कामरा  की कविता - ये जो कुछ ज़हन में चढ़ रहा 

सुनिए प्रज्ञा नेमा की कविता - इश्क सा कुछ भी दुनिया में असरदार नहीं
 

सुनिए गायत्री मेहता की कविता - हिसाब में कच्ची हूँ 
 

सुनिए अभिसार शुक्ल की कविता - क्यों काल कहीं पर सोया है

सुनिए खुशी की कविता - ये कैसा समय है सिया 

आवाज

  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00