tulsi
सेहत की बात

डायबिटीज रोगियों के लिए रामबाण है तुलसी

9 अक्टूबर 2021

Play
3:4
तुलसी की पत्तियों के सेवन से न सिर्फ सर्दी, खांसी जैसी समस्याएं दूर करने में मदद मिलती है, बल्कि पाचन को सही रखने में भी फायदेमंद माना जाता है।इसलिए अगर आप रोज सुबह तुलसी की पत्तियां खाने की आदत डालते हैं तो आपको सेहतमंद रहने में मदद मिलेगी
... Read More

डायबिटीज रोगियों के लिए रामबाण है तुलसी

1.0x
  • 1.5x
  • 1.25x
  • 1.0x
10
10
X

सभी 138 एपिसोड

एडेड शुगर वाली चीजें मेटाबॉलिज्म पर हानिकारक प्रभाव डाल सकती हैं। कई अध्ययनों से ये भी पता चला है कि अधिक मात्रा में चीनी युक्त चीजें पेट और लिवर के आसपास फैट का निर्माण कर सकती है, इसलिए इनसे दूरी बनाकर आप अपने पेट की चर्बी को कम कर सकते हैं

हाई ब्लड प्रेशर या हाइपरटेंशन सबसे खतरनाक स्वास्थ्य स्थितियों में से एक है जो दुनियाभर के करोड़ों लोगों को प्रभावित करती है। हाई बीपी को साइलेंट किलर माना जाता है, इसका कारण यह है कि इसमें कोई खास लक्षण नजर नहीं आते हैं

यूरोपीयन एसोसिएशन फॉर द स्टडी ऑफ डायबिटीज द्वारा प्रकाशित एक नए अध्ययन से पता चला है कि, लो एनर्जी डाइट का पालन करके न सिर्फ वजन को कम करने में सफलता मिल सकती है, साथ ही यह डायबिटीज के जोखिम को भी कम करने में सहायक मानी जाती है...

सर्दियों में अरबी का सेवन करना काफी फायदेमंद माना जाता है। अरबी में पोटेशियम, स्टार्च, फाइबर, मैग्नीशियम, विटामिन- सी और ई की भरपूर मात्रा पाई जाती है। इतना ही नहीं अरबी हृदय रोग के जोखिम कम करने के साथ ही कैंसर के खतरे को भी कम करने में काफी मदद करती है

बढ़ती उर्म में भी अगर आप फिट और जवां रहना चाहते हैं तो हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन जरूर करें। कई शोधों से पता चलता है कि 50 साल की उम्र के बाद भी हर दिन इन सब्जियों की एक सर्विंग का सेवन करने से कई तरह के शारीरिक और मानसिक रोग की समस्याओं को कम किया जा सकता है

बेसन स्वादिष्ट होने के साथ-साथ स्वास्थ्यवर्धक भी है। बेसन का इस्तेमाल कई बीमारियों से लेकर स्किन इंफेक्शन को दूर करने में किया जाता। अगर आप सर्दियों में बेसन से बनने वाले शीरे का सेवन करते हैं तो आपको सर्दी और जुकाम से राहत मिलेगी 

शरीर को डिटॉक्स करने के लिए कुछ ड्रिंक्स का नियमित रूप से सेवन करना फायदेमंद हो सकता है।ग्रीन टी, शहद-दालचीनी पेय, काढ़ा, नींबू अदरक की चाय जैसे पेय शरीर पर अद्भुत तरीके से काम करने के साथ डिटॉक्स करने में मदद करते हैं।

एंटीऑक्सिडेंट्स ऐसे कम्पाउंड्स होते हैं जो शरीर को प्राकृतिक तरीके से डिटॉक्स करने का काम करते हैं। यह फ्री रेडिकल्स जो कि कोशिकाओं को क्षति पहुंचाकर कैंसर जैसी कई अन्य क्रोनिक बीमारियों का कारण बनता है, उन्हें कम कर ऐसी बीमारियों के होने के खतरे को कम करते हैं

भीगे हुए चने प्रोटीन और आयरन से भरपूर होते हैं, अगर आप एनीमिया से पीड़ित हैं तो आहार में काले चने को जरूर शामिल करें।चना आयरन से भरपूर होता है और शरीर में हीमोग्लोबिन के स्तर को सुधारने में मदद करता है।इसके अलावा भीगे हुए काले चने फाइबर से भरपूर होते हैं जो पाचन तंत्र को बेहतर बनाने में मदद करते हैं

रोजाना खाली पेट लहसुन की 4-5 कलियों का सेवन करने से कई स्वास्थ संबंधी दिक्कतों से दूर रखने में मदद मिलती है। लहसुन कई प्रकार के पोषक तत्वों से भरपूर होता है, इसमें आम मसालों की तुलना में कैलोरी कम होती है और इसे विटामिन सी, विटामिन बी-6 और मैंगनीज से भरपूर माना जाता है जो सेहत के लिए विशेष लाभदायक होते हैं

आवाज

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00