लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

सीरियल किलर
अपराध लोक

Apradh Lok : डेटिंग गेम किलर, जिसे तड़पती लड़कियों को देखने में आता था मजा

5 December 2022

Play
4:56
'सीरियल किलर' नाम आते ही आपका दिमाग एक खूंखार दरिंदे की छवि उभार कर चौंका देता है। दरअसल, 'सीरियल किलर्स' होते भी ऐसे ही है, जिनके कारनामें पढ़कर आपके रोंगटे खड़े हो जाएं। अपराध लोक में आज हम आपको सुनाएंगे अमेरिका के सबसे खतरनाक सीरियल किलर रोडने एल्काला की कहानी.अलकाला महिलाओं को मॉडल बनाने का लालच देकर यौन उत्पीड़न करता था। इसके बाद महिलाओं का गला घोंटकर या पीट-पीटकर उन्हें मार डालता था...

Apradh Lok : डेटिंग गेम किलर, जिसे तड़पती लड़कियों को देखने में आता था मजा

1.0x
  • 1.5x
  • 1.25x
  • 1.0x
10
10
X

सभी 156 एपिसोड

24 मई 1973. जगह ब्राजील की सेंटा रीटा जेल. एक 19 साल का लड़का जेल में बंद अपने पिता से मिलने पहुंचता है. पुलिसकर्मी दोनों को एकांत कमरे में छोड़कर चले जाते हैं. थोड़ी की देर में कमरे से चीखने की आवाज आने लगती है. पुलिसकर्मी जैसे ही कमरे का दरवाजा खोलते हैं उनके होश उड़ जाते हैं. लड़के के हाथ में उसके पिता का दिल था जिसे वो नोच-नोचकर खा रहा था. फर्श पर चारों तरफ खून बिखरा पड़ा था और पिता की लाश जमीन पर पड़ी होती है. लड़के ने उस धारदार हथियार से पिता की हत्या कर दी थी जिसे वो छिपाकर लाया था. जुर्म की दुनिया में आज बात होगी एक ऐसे सीरियल किलर की जिसे ब्राजील के लोगों ने सिर आंखों में बिठाया. वजह ये थी कि उसके ज्यादातर शिकार अपराधी या भ्रष्टाचारी थे. उसने हत्यारों, बलात्कारियों, ड्रग डीलरों, धोखेबाजों, चोरों और ऐसे ही 100 लोगों को मौत के घाट उतारा. ब्राजील के इस सीरियल किलर का नाम पेड्रो रोड्रिग्स है.पेड्रो रोड्रिग्स ने जेल में अपने पिता की हत्या इसलिए की क्योंकि उसके पिता ने उसकी मां और बहन की पीट-पीटकर हत्या कर दी थी. अपनी मां और बहन की मौत से उसे गहरा सदमा हुआ और उसने पिता को खत्म करने की ठानी. पिता की हत्या के जुर्म में पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया. गिरफ्तार होने के बाद पेड्रो को एक बलात्कारी सहित दो अन्य अपराधियों के साथ पुलिस की गाड़ी में कोर्ट ले जाया जा रहा था. जब पुलिस ने कोर्ट पहुंचकर गाड़ी का दरवाजा खोला तो उन चार कैदियों में एक की मौत हो चुकी होती है। दरअसल पेड्रो ने बलात्कारी कैदी की हत्या कर दी थी. 

तारीख 9 अप्रैल 2017 को आग की लपटों में कैद वो इमारत, कोई मामूली घटना नहीं थी, बल्कि एक साज़िश थी. पुलिस को इस बात का अंदेशा तब हुआ, जब इमारत में दाखिल होते ही उनकी मुलाकात रूह कंपा देने वाले एक मंज़र से हुई...

जुर्म की दुनिया में कभी-कभार कुछ ऐसी वारदातें पेश आती हैं, जिनपर यकीन कर पाना एक इंसानी दिमाग के लिए मुश्किल हो जाता है. आज की वारदात के भी कई चेहरे हैं, जो अपशगुन, श्राप, अंधविश्वास से होते हुए क़त्ल तक ले जाते हैं...

57 दिनों से बंद अनुपमा के नंबर से अचानक सूरज के मोबाइल पर मैसेज का यूं आना, उसके ज़ेहन में किसी अनहोनी के ख्याल को पनाह दे रहा था. दरअसल अब इस वाकये की हकीकत इत्तेफाक और वारदात के बीच कहीं थी, जिसका खुलासा आगे की कहानी में होने वाला था...

नमस्कार आप सुन रहे हैं अमर उजाला आवाज और मैं आसिफ अपराध लोक में सुनाने जा रहा हूं देश के ऐसे सीरियल किलर की कहानी जो था तो एक दर्जी लेकिन वक्त के साथ खूंखार हत्या बन गया...ये दिन में खामोशी से लोगों के कपड़े सिलता लेकिन रात होते ही शैतान बनकर कत्ल करता...इसके सिर 33 लोगों की हत्या का इल्जाम लगा...इसका नाम है आदेश खामरा...

अक्सर जब कभी किसी शख्स पर कोई इल्ज़ाम लग जाता है, तो खुद को बेकसूर साबित करना भी उसी के जिम्मे होता है, अब चाहे इसके लिए वो दलील दे, कानून के सामने सबूत पेश करे या फिर खुद तफ्तीश ही क्यों न करे. आज एक ऐसी ही कहानी, जिसकी जमीन थी राजस्थान का मेंहदीपुर बालाजी...

16 नवंबर 1957 की सुबह अमेरिका के प्लेनफील्ड शहर में एक हार्डवेयर स्टोर की मालकिन बर्निस वर्डेन गायब हो जाती हैं। बर्निस वर्डेन के बेटे, डिप्टी शेरिफ फ्रैंक वर्डेन, शाम 5:00 बजे के आसपास स्टोर में दाखिल होते हैं तो उन्हें.... दुकान का कैश रजिस्टर खुला मिलता है और फर्श पर खून के धब्बे दिखाई देते हैं...लेकिन उनकी मां वहां मौजूद नहीं होती हैं...फ्रैंक जांचकर्ताओं को बताते हैं कि शाम को उसकी मां के लापता होने से पहले गीन नाम का शख्स स्टोर में था और एक गैलन एंटीफ्रीज के लिए बिक्री पर्ची वर्डेन द्वारा लिखी गई आखिरी रसीद थी...पर्ची एड गीन के नाम से थी....

जुर्म की दुनिया में आज कहानी एक ऐसी पुलिस तफ्तीश की, जिसने बिना सबूत और सुराग के बस बयान के बदौलत क़त्ल की एक खौफनाक साज़िश का खुलासा किया और इस मामले को पहचान दी दीशित जरीवाला हत्याकांड के तौर पर...

जुर्म की दुनिया में आज बात होगी एक ऐसे अमेरिकी नेक्रोफाइल सीरियल सेक्स किलर की, जो मासूमों को न सिर्फ मौत देता, बल्कि मकतूल के जिस्म को अपनी हवस बुझाने का ज़रिया भी बनाता.. 

जुर्म की दुनिया में आज बात होगी एक ऐसे दक्षिण अफ्रीकी सीरियल किलर की, जिसने साल 1996 से 1997 के बीच, महज़ एक साल में 27 हत्याओं की वारदात को अंजाम दिया, यही नहीं बल्कि यह सीरियल किलर बलात्कार, डकैती और 26 लोगों की हत्या के प्रयास जैसे संगीन अपराधीक गतिविधियों में भी शामिल रहा...

आवाज

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00